लाश के साथ परिजनों का प्रदर्शन..अवैध परिवन से युवक की मौत

IMG-20170322-WA0438बिलासपुर— तखतपुर स्थित जोरापारा में कोयला से भरे ट्रक और आटो के बीच टक्कर से आटोचालक की मौत घटना स्थल में हो गयी है। आटोचालक बिलासपुर के जरहाभाटा का रहने वाला है। घटना बीती रात करीब दो से तीन बजे की बतायी जा रही है। मृतक  के परिजनों ने शव लेकर पुलिस अधीक्षक कार्यालय के सामने प्रदर्शन किया। एसपी मयंक श्रीवास्तव से न्याय की गुहार लगाई।

                          पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर तखतपुर थाना के उप निरीक्षक मंडावी पर अनुशासनात्मक कार्यवाही की गयी है। मंडाबी पर आरोप है कि उसने घटना की जानकारी पुलिस अधीक्षक कार्यालय को समय पर नही दी है।

                                 तखतपुर थाना क्षेत्र के जोरापारा में ट्रक और आटो की टक्कर में आटोचालक की मौत हो गयी है। आटो चालक बिलासपुर के जरहाभाटा का रहने वाला है। बताया जा रहा है कि शत्रुघ्न लहरे बीती रात सवारी लेकर स्टेशन से तखतपुर गया था। लौटते समय कोयले से भरे ट्रक ने रौंद दिया। ट्रक के चपेट में आने से शत्रुघ्न की घटना स्थल पर ही मौत हो गयी। आटो बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया। कोयला से भरा ट्रक भी पलट गया।

                     पुलिस नेIMG-20170322-WA0431 घटना की जानकारी बुधवार को सुबह करीब सात बजे परिजनों को दी। जबकि पुलिस अधीक्षक कार्यालय को घटना की जानकारी दोपहर में मिली। परिजनों ने आज शव के साथ पुलिस अधीक्षक कार्यालय के सामने प्रदर्शन किया। परिजनों ने बताया कि शत्रुघ्न लहरे आठ महीने पहले आटो फायनेंस कराया था। रोज की तरह रात को सवारी लेकर तखतपुर गया। लेकिन इस बार जिन्दा वापस नहीं आया। पुलिस वालों ने सुबह बताया कि जोरापारा में ट्रक एक्सीडेन्ट में शत्रुघ्न की मौत हो गयी। पंचनामा और पोस्टमार्टम के बाद शव को लेकर पुलिस अधीक्षक से न्याय की गुहार लगाने आए हैं।

                                                                                                          मृतक के बड़े पिता ने बताया कि शत्रुघ्न अपने माता-पिता का इकलौती संतान था। मेहनत मजदूरी कर किश्त में आटो खरीदा था। तीस साल के  शत्रुघ्न की दो नन्ही बेटियां और दो लड़के हैं। चारो बच्चे अभी बहुत छोटे हैं। शत्रुघ्न के पिता मेहनत मजदूरी का काम करते हैं। जवान बच्चे की मौत के बाद उसकी दुनिया उजड गयी है। जवान बेटे की मौत के बाद घर के सामने रोजी रोटी की संकट आ गयी है।

जबलपुर पासिंग की गाड़ी

       ARCHANA JHA.            एडिश्नल एसपी अर्चना ने बताया कि घटना की जानकारी बहुत देरी से हुई। कार्य मेंं लापरवाही के आरोप में तखतपुर थाना उपनिरीक्षक मंडावी के खिलाफ कार्रवाई का निर्देश पुलिस कप्तान ने दिया है। पुलिस कप्तान ने मंडावी के वेतन में कटौती का आदेश दिया है। अर्चना झा ने बताया कि ट्रक जबलपुर पासिंग की है। घटना करीब दो से तीन बजे रात्रि की है। घटना के बाद ट्रक चालक फरार हो गया है। कोयला से भरे ट्रक मालिक का पता लगाया जा रहा है।

                      अर्चना झा ने सीजी वाल को बताया कि ट्रक चालक के खिलाफ 304 (1) का मामला दर्ज किया गया है। जल्द ही ट्रक मालिक का पता लगाकर ड्रायवर को हिरासत में लिया जाएगा। परिजनों ने न्याय की मांग को लेकर पुलिस कप्तान से मुलाकात की है। प्रारंभिक तौर पर परिजनों को अंतिम संस्कार के लिए तखतपुर प्रशासन से 25 हजार रूपए दिया जाएगा। ट्रक मालिक से मृतक के परिवार को राहत राशि दी जाएगी। इसके अलावा सरकार मृतक के परिजनों को मुआवजा देगी। फिलहाल फरार आरोपी की पतासाजी की जा रही है। एडिश्नल एसपी ने बताया कि फिलहाल इस बात की जानकारी नहीं है कि ट्रक में कोयला ओव्हरलोड या अवैध था।

रूक्मणि का बुरा हाल

                     IMG20170322142407 पति के लाश के साथ पुलिस कार्यालय पहुंची रूक्मणि ने बताया कि घर में एक मात्र कमाने वाला पति ही था। सास श्वसुर काफी बुढे हो गए हैं। मेरे चार छोटे-छोटे बच्चे हैं। दो बच्चे स्कूल जाते हैं। उनका और परिवार का भरण पोषण कैसे होगा…कुछ समझ में नहीं आ रहा है। रोते बिलखते रूक्मणि ने बताया कि हम लोग पुलिस कप्तान से न्याय की गुहार लगाने आए हैं। पति के कातिल को सजा दिलाने और सरकार से परिवार के लिए राहत की मांग की है।

ट्रक में अवैध कोयला

                         बताया जा रहा है कि ट्रक में चोरी का कोयला भरा हुआ था। ट्रक से कोयला जबलपुर के लिए परिवहन किया जा रहा था या फिर कही और । पुलिस को अभी भी पता नहीं है कि ट्रक में कोयला किसका है और कहा पहुंचाया जा रहा था। जानकारों ने बताया कि ट्रक में कोयला हाईकोर्ट के आस पास के क्षेत्र से लोड किया गया । क्योंकि यहां स्थित प्लाट से कोयले का अवैध परिवहन रातभर होता है। ट्रक में रायल्टी बचाने क्षमता से अधिक कोयला लोड किया जाता है। जानकारी के अनुसार खरकेना के आस पास किसी प्लाट से लोड किया गया है। इसकी जानकारी पुलिस और आरटीओ के साथ माइनिगं विभाग को भी है।

                               सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कोयला परिवहन में पुलिस की महत्वपूर्ण भूमिका से इंकार नहीं किया जा सकता। माइनिंग विभाग आरटीओ ने कभी भी कोयले के अवैध परिहवन को लेकर गंभीरता नहीं दिखाई दी। यही कारण है कि कोयले का अवैध और ओव्हरलोड परिवहन धड़ल्ले से हो रहा है। कोयला माफिया थाना,माइनिंंग और आरटीओं में चंदा देकर अवैध परिवहन को वैध बना लेते हैं। यदि इस पर लगाम लगाया गया होता तो आज शत्रुघ्न अपने परिवार के साथ होता।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *