पेन्ड्रीडीह में कांग्रेसियों का हाईवोल्टेज ड्रामा….फूंका पुतला…84 लोग गिरफ्तार…एक घंटे बाद रिहाई

IMG-20170610-WA0014   बिलासपुर– रायपुर बिलासुपर मार्ग के पेन्ड्री चौक में जिला कांग्रेस नेताओं ने चक्काजाम किया। मुख्यमंत्री के कमीशनखोरी बयान के खिलाफ धरना प्रदर्शन किया। इस दौरान कांग्रेसियों ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। भाजपा को किसान विरोधी बताया। धरना प्रदर्शन के पहले कांग्रेसियों ने जमकर भाषणवाजी की। अमित शाह के प्रदेश भ्रमण का भी विरोध किया। कांग्रेसियों ने कहा भाजपा सरकार दलित विरोधी है।

                                 जिला कांग्रेस शहर और ग्रामीण ने राजेन्द्र शुक्ला की अगुवाई में सरकार की किसान विरोधी नीतियों और सीएम के कमीशनखोरी बयान के खिलाफ पेन्ड्रीडीह चौक में धरना प्रदर्शन किया। कांग्रेसियों ने एक दिन पहले ही चक्काजाम का एलान किया था जिला प्रशासन ने स्थिति से निपटने के लिए मुख्य मार्ग को डायवर्ट कर दिया। रायपुर और अंबिकापुर से आने वाले भारी वाहनों को बिल्हा मोड़ से निकाला गया। जिसके चलते प्रदर्शन का आवगमन पर कोई खास प्रभाव देखने को नहीं मिला

                                                                      उपस्थित लोगों को प्रदेश महामंत्री अटल श्रीवास्तव, जिला कांग्रेस ग्रामीण अध्यक्ष राजेन्द्र शुक्ला, शहर अध्यक्ष नरेन्द्र बोलर ने संबोधित किया। नेताओं ने कहा कि मुख्यमंत्री के कमीशनखोरी के बयान से जाहिर हो गया है कि प्रदेश की बदहाली के लिए भाजपा के कमीशनखोर नेता जिम्मेदार हैं। IMG-20170610-WA0008प्रदेश का किसान हाहाकार कर रहा है। लेकिन भाजपा सरकार के नेताओं को किसी प्रकार की चिंंता नहीं है। नेताओं ने बताया कि वादाखिलाफी प्रदेश सरकार की आदतों में शुमार है। चुनाव घोषणा पत्र में मुख्यमंत्री ने किसानों को बोनस और समर्थन मूल्य बढ़ाकर देने का वादा किया था। चुनाव सिर पर है लेकिन अभी तक प्रदेश सरकार ने पुराने वादों को पूरा नहीं किया है।

                          राजेन्द्र शुक्ला ने कहा कि लोकसुराज के नाम पर प्रदेश में तीन महीने तक ढकोसलेबाजी का दौर  चला। किसी की समस्या का निवारण नहीं किया गया है। आज भी कलेक्टर कार्यालय में पुरानी सस्याओं को लेकर भीड़ देखने को मिलती है।

               कांग्रेस नेताओं ने छत्तीसगढ दौरे पर आए भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष का भी विरोध किया। कांग्रेसियों ने कहा अमित शाह के भोज पार्टी से सतनामी समाज के संत को दूर रखा गया। इससे जाहिर होता है कि फिराकपरस्ती भाजपा की आदतों में है। दूसरे दिन सतनामी समाज को मनाने अमित शाह ने गिरौधपुरी धाम का दौरा किया। लेकिन जनता सब कुछ समझ चुकी है।

                   नरेन्द्र बोलर समेत अन्य कांग्रेसियों ने भी उपस्थिल लोगों को संबोधित किया। सभी नेताओं ने मंदसौर गोली काण्ड का विरोध किया। नेताओं ने कहा गोलीकाण्ड के बाद लोकतंत्र शर्मसार हुआ है। ऐसा…भाजपा के शासन काल में ही संभव है। किसानों ने शांतिपूर्ण तरीके से अपनी आवाज को उठाने का प्रयास किया। सरकार ने गोली चलवाकर अपने चाल चरित्र और चेहरे को उजागर कर दिया। अब उपवास का नाटक किया जा रहा है।

पुलिस छावनी

   IMG-20170610-WA0012                कांग्रेसियों के चक्काजाम एलान के बाद पुलिस प्रशासन ने पेन्ड्रीडीह चौक को छावनी में बदल दिया था। आस पास के थानों के अलावा सिविल लाइन और शहर के अन्य थानों के जवानों को मौके पर तैनात कर दिया गया था। पुलिस ने शांति पूर्ण तरीके से मामले को संभाला। गिरफ्तारी के लिए कांग्रेसियों से पहुंचने से पहले ही तीन बस मौके पर तैनात कर थे। गिरफ्तारी के दौरान पुलिस और कांग्रेसियों में हल्की फुल्की झड़प भी हुई। लेकिन पुलिस ने हालात को नियंत्रित कर लिया।

शाह और सीएम का पुतला

                    मुस्तैद पुलिस के सामने कांग्रेसियों ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह,मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह का पुतला जलाने का प्रयास किया। पुलिस ने दोनों पुतलों को छीन लिया। लेकिन कांग्रेसी छिपाकर रखे गए तीसरे पुतले को जलाने में कामयाब हो गए।

84 लोगों की गिरफ्तारी

               पुलिस ने पुतला दहन के बाद 84 से अधिक कांग्रेसियों की गिरफ्तारी की। कांग्रेसियों ने इस दौरान सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। गिरफ्तारी से बचने का प्रयास कांग्रेसियों ने किया। लेकिन पुलिस ने सभी लोगों को पकड़कर बस में बैठाया। अटल श्रीवास्तव,राजेन्द्र शुक्ला,नरेन्द्र बोलर,शेख नजरूद्दीन,शैलेन्द्र जायसवाल, विजय पाण्डेय,चन्द्रप्रकाश वाजपेयी,जसबीर गुम्बर समेत युवा नेताओं कोIMG-20170610-WA0007 गिरफ्तारी हुई। कांग्रेस के युवा नेता जावेद मेमन, शिवा नायडू,गौरव दुबे, अरविन्द शुक्ला, हीरा यादव, लकी मिश्रा, समेत अन्य नेताओं ने भी गिरफ्तारी दी। गिरफ्तारी देने वालों में कांग्रेस के सभी विंग के नेता शामिल थे।

स्कूल बना अस्थायी जेल..निशर्त जमानत

           गिरफ्तार सभी 84 कांग्रेसियों को पेन्ड्रीडीह स्थित स्कूल में रखा गया। इसके पहले कांग्रेसियों को बिल्हा एसडीएम एसपी वैद्य,बिलासपुर एसडीएम आलोक पाण्डेय,बिल्हा तहसीलदार अमित गुप्ता,सकरी तहसीलदार अमित सिन्हा ने समझाने का प्रयास किया। जाम खत्म करने का निर्देश भी दिया। बावजूद इसके कांग्रेसियों ने धरना प्रदर्शन रोकने से मना कर दिया। पुतला दहन के बाद अधिकारियों के निर्देश पर सभी कांग्रेसियों को गिरफ्तार किया गया। बाद में सभी निशर्त जमानत पर छोड़ दिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *