नेचर सफारी मे गूँजेगी चिड़ियो की चहचहाहट

nature_safari_index♦मोहरेंगा मे “प्रकृति दर्शन” के लिए 1450 एकड़ मे आकार ले रही नेचर सफारी
रायपुर(सीजीवाल)।
नया रायपुर में बने जंगल सफारी की तर्ज पर एक और जंगल सफारी राजधानी रायपुर से लगभग 40 किलोमीटर दूर खरोरा-तिल्दा मार्ग पर ग्राम मोहरेंगा में तेजी से आकार ले रही है।वन विभाग इसे सिर्फ प्रकृति दर्शन के लिए विकसित कर रहा है, जहां लोग चिड़ियों की चहल-पहल के साथ जैव विविधता का भी देख सकेंगे।विभागीय अधिकारियों ने बताया कि यह प्राकृतिक सफारी आकार में नया रायपुर से जंगल सफारी से बड़ा होगा। नया रायपुर का जंगल सफारी 800 एकड़ में हैं, जबकि मोहरेंगा में आकार ले रहे नेचर सफारी को 580 हेक्टेयर अर्थात 1450 एकड़ में बनवाया जा रहा है। यह लगभग 12 किलोमीटर के दायरे में विकसित हो रहा है।

                                          मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने प्रदेश व्यापी हरियर छत्तीसगढ़ अभियान की तैयारी के लिए मंत्रालय में हुई बैठक में वन विभाग वन विभाग के मोहरेंगा नेचर सफारी की प्रोजेक्ट की तारीफ की।सीएम ने अधिकारियों से कहा कि इस नेचर सफारी को और भी बेहतर ढंग से विकसित किया जाए।सीएम ने मोहरंेगा नेचर सफारी को राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाने की जरूरत पर बल दिया और इसके लिए अधिकारियों को एक विशेष कार्ययोजना जल्द तैयार करने के भी निर्देश दिए।

                                      मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश  के सभी जिलों में इस वर्ष मानसून के दौरान वृक्षारोपण कार्यक्रमों के दौरान ऐसे वृक्षों के पौधे अधिक से अधिक संख्या में लगाने के निर्देश दिए, जिनमें चिड़ियों और तितलियों की चहल-पहल हो। वन विभाग के अधिकारियांे ने बैठक में बताया कि मुख्यमंत्री की मंशा के अनुरूप खरोरा से तीन किलोमीटर पर मोहरेंगा के नेचर सफारी को इस तरह विकसित किया जा रहा है, जहां चिड़ियों का भी बसेरा होगा। फिलहाल इस नेचर सफारी में चीतल, जंगली सुअर और खरगोश जैसे वन्यप्राणी भी आ गए हैं। मोहरेंगा में नेचर सफारी प्रोजेक्ट वन विभाग द्वारा वर्ष 2011 में हाथ में लिया गया था। वहां सघन वृक्षारोपण किया गया है, जो पर्यावरण की दृष्टि से भी काफी उपयोगी है।  अब यह काफी हरा-भरा हो चुका है। वन्य प्राणियों के लिए वहां जल स्त्रोत भी विकसित किए गए है।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...