पीएम आवास योजना पर सरपंच का डांका…आदिवासियों के खाते से निकाले हजारों रूपए

bank_seez_bsp_collectorate_indexबिलासपुर—तखतपुर ब्लाक में ग्राम पंचायत भीमपुरी के आश्रित गांव डबरीपारा के आदिवासियों ने कलेक्टर से सरपंच की शिकायत की है। बैगा लोगों ने पुलिस कप्तान से भी गांव सरपंच के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। आदिवासियों ने गांव सरपंच और सचिव पर आरोप लगाया है कि दोनों ने जालसाजी कर आवास योजना के खाते से 15-15 हजार रूपए निकाले हैं। शौचालय के पैसों को पहले ही खा चुके हैं।

            तखतपुर ब्लाक के भीमपुरी पंचायत के आश्रित गांव डबरीपारा के बैगा आदिवासियों ने कलेक्टर और पुलिस से सरपंच,के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। आधा दर्जन भर अधिक बैगा सदस्यों ने कलेक्टर कार्यालय पहुंचकर बताया कि सरपंच ने धोखाधड़ी कर निजी खातों से रूपया निकाल लिया है। बैगा आदिवासियों के अनुसार सरपंच और सचिव ने मिलकर शौचालय की राशि का भी बंदरबांट किया है। अब प्रधानमंत्री आवास योजना के रूपयों पर भी उनकी नजर है। सरपंच ने कई बैगा परिवार के खातों से रूपया निकाल लिया है। पैसा मांगने पर दोनों आवास नहीं बनाने की धमकी देते हैं।

                         कलेक्टर से शिकायत के बाद पीडित बैगा लोगों ने बताया कि डबरीपारा भीमपुरी ग्राम पंचायत का आश्रित गांव है। गांव का सरपंच कृष्ण कुमार भीमपुरी का रहने वाला है। बैगा लोगों ने बताया कि वे लोग लोग पढ़े लिखे नहीं है। इसी का फायदा उठाकर सरपंच कृष्णकुमार और सचिव सचिव ने हम लोगों से कोरे कागज पर अंगुठा लगवाया। आधार कार्ड और पासबुक भी ले लिया। सरपंच ने बताया कि आवास योजना में रूपया निकलवाने में इसकी जरूरत होती है।  इसलिए कोरे कागज पर अंगुठा लेने के साथ आधार कार्ड और पासबुक अपने पास रख रहे हैं।

             बैगा लोगों के अनुसार इस साल प्रधानमंत्री योजना में हम लोगों का घर बनने वाला है। पासबुक में सरकार ने रूपया भी डाला है। जब हम लोग पैसा निकालने गए तो मालूम हुआ कि सरपंच ने अगूंठा वाले कोरे कागज के साथ आधार कार्ड और पासबुक दिखाकर खाते से 15-15 हजार रूपए निकाल लिए हैं। हम लोगों इसकी शिकायत की तो सरपंच ने पहले तो मानने से इंकार कर दिया। बाद में कहा कि जो करना है कर लो। यदि घर बनवाना है तो रूपए देने ही होंगे।

            हम लोगों ने आज सरपंच की शिकायत कलेक्टर और पुलिस कप्तान से की है। कलेक्टर और एसपी ने कार्रवाई का आश्वासन दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *