एनटी को मिलेगा वन टाइम रिलेक्सेशन–पाण्डेय

premprakash 007

बिलासपुर— प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है जहां च्वाइस बेस अध्ययन का पाठ्यक्रम चलाया जाएगा। छात्र एक साथ दो फेकल्टी का अध्ययन कर सकते हैं। बिलासपुर विश्वविद्यालय में लाइफ सायकल योजना चलाया जा रहा है। इससे छात्रों की मानिटरिंग भी आसान होगा। आज स्किल डेवलपमेंट कोर्स भी आज से विश्वविद्यालय में शामिल कर लिया गया है। इससे छात्रों के बहुआयामी प्रतिभा को निखारने में आसानी होगी। ये बातें छत्तीसगढ़ भवन में पत्रकारों से चर्चा करते हुए उच्च शिक्षा मंत्री प्रेम प्रकाश पाण्डेय ने कही।

                      बिलासपुर विश्वविद्यालय स्किल डेवलपमेंट पर आयोजित कार्यक्रम में शिकरत करने पहुंचे प्रेम प्रकाश पाण्डेय ने छत्तीसगढ़ भवन में पत्रकारों से चर्चा की। प्रेम प्रकाश पाण्डेय ने कहा कि विश्वविद्यालय का रिजल्ट इतना खराब क्यों आया है इसकी जांच होगी। अनुशान और शैक्षणिक योग्यता पर निगरानी रखने की जिम्मेदारी विश्वविद्यालय प्रशासन का है। सरकार इस पर चर्चा करेगी कि आखिर परिणाम में अप्रत्याशित रूप से इतनी गिरावट क्यों आई।

                     एक सवाल के जवाब में प्रेम प्रकाश पाण्डेय ने कहा कि स्किल डेवलपमेन्ट जैसा कोर्स चलाकर बिलासपुर विश्वविद्यालय ने सराहनीय कार्य किया है। इससे स्थानीय प्रतिभाओं को सीधा फायदा होगा। अवसर की सम्भावनाएं बढ़ेंगी। देश में यह अपने तरह का अनूठा प्रयोग है। भारत सरकार की भी यही मंशा थी कि स्किल डेवलपमेंट जैसा अभियान चलाया जाए। बिलासपुर विवि ने सराहनीय कार्य किया है। पाण्डेय ने बताया कि जब तक हम कुशल और दक्ष नहीं होंगे तब तक हमारी प्रतिभा और जिम्मेदारियों का आकलन ठीक से नहीं किया जा सकता है। पाण्डेय ने बताया कि बिलासपुर विश्वविद्यालय में चाइस बेस कोर्स भी शुरू आज से किया जा रहा है। इस योजना के तहत छात्र दो फेकल्टी का एक साथ अध्ययन कर सकते हैं। साइन्स वाला कामर्स और आर्ट लेकर पढ़ाई कर सकता है। इसी प्रकार आर्ट और साइंस वाला भी साइंस और अन्य विषय में डिग्री एक साथ हासिल कर सकता है।

                   राजस्व कर्मचारियों की कमी के सवाल पर प्रेम प्रकाश पाण्डेय ने कहा कि केविनेट में इस बात को ध्यान में रखते हुए वन टाइम रिक्लेक्सेशन को पास कर दिया गया है। इसका फायदा नायब तहसीलदारों को होगा। अब नायब तहसीलदारों को प्रोवेशन के बाद सीधे तहसीलदार बना दिया जाएगा। उन्हें पांच साल का इंतजार नहीं करना पड़ेगा। इससे बहुत कुछ राजस्व अधिकारियों की समस्या कम हो जाएगी।

                       क्या मध्यप्रदेश की तरह योगाशन का फायदा छत्तीसगढ़ के कैदियों की मिलेगी जैसा कि बाबूलाल गौर ने अपने एक बयान में कहा है के प्रश्न को टालते हुए पाण्डेय ने कहा कि योगासन का फायदा जब सभी को मिल रहा है तो कैदियों  को क्यों नहीं मिलेगा। पत्रकारों से चर्चा के बाद प्रेम प्रकाश पाण्डेय एबीव्हीपी के छात्रों से मिलकर चार बिन्दुओं वाला ज्ञापन भी लिया। प्रेस वार्ता के दौरान कलेक्टर सिद्धार्थ कोमल सिहं परदेशी भी उपस्थित थे.।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *