जोगी ने दिया अल्टीमेटम..कहा…बाहर नहीं जाएगा बस्तर का लोहा…

IMG-20170717-WA0004रायपुर/ जगदलपुर– नगरनार इस्पात संयंत्र के निजीकरण का जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ विरोध किया। अजीत जोगी ने निजीकरण के विरोध में बस्तर बंद  को ऐतिहासिक बताया। अजीत जोगी ने रायपुर से वीडियो सन्देश में बस्तरवासियों का आभार जाहिर करते हुए कहा कि बस्तर, अब अन्याय और अत्याचार नहीं सहेगा।

                     जोगी ने बस्तर को बंद को एतिहासिक बताया। उन्होने कहा कि केंद्र और राज्य की भाजपा सरकार को चेतावनी दे रहा हूँ कि, यदि 15 अगस्त तक नगरनार इस्पात संयंत्र को निजीकरण से दूर नहीं किया गया तो बस्तर का लोहा बाहर नहीं जाने देंगे। अपने वीडियों संबोधन में जोगी ने बस्तरवासियों से कहा कि जनता कांग्रेस कार्यकर्ता, रेल पटरी पर लेट जाएगा, जान दे देगा, लेकिन नगरनार इस्पात संयंत्र को निजी हाथों में बिकने नहीं देगा।
           जोगी ने कहा कि मुख्यमंत्री रहते हुए बस्तरवासियों के लिए नगरनार में इस्पात संयंत्र की स्थापना की थी। लेकिन दिल्ली ने बस्तरवासियों को छला और विश्वासघात किया। बस्तरवासियों ने अपनी जमीन सरकारी संयंत्र  लगाने को  दी थी। संपदा को निजी हाथों में लुटाने के लिए नहीं। जोगी ने कहा कि जमीन बस्तर की, लोहा बस्तर का लेकिन नौकरी पर बस्तरवासियों का कोई हक नहीं है। छत्तीसगढ़ की खनिज संपदा का फायदा छत्तीसगढ़ को नहीं मिल रहा है। सब कुछ बाहर जा रहा है। एनएमडीसी का मुख्यालय बस्तर में होना चाहिए…लेकिन हैदराबाद में है?  मुख्यालय को तत्काल बस्तर में शिफ्ट किया जाना चाहिए। 
 
               जनता कांग्रेस प्रदेश प्रवक्ता सुब्रत डे बताया कि जगदलपुर के संजय मार्केट से जकांछ (जे) के वरिष्ठ नेता धरमजीत सिंह की अगुवाई में भारी संख्या में कार्यकर्ताओं ने नगरनार इस्पात संयंत्र तक रैली निकालकर विनिवेशीकरण का विरोध किया।  कार्यकर्ताओं ने अपनी पांच मांगों को दोहराया और जोगी के अल्टीमेटम को संयंत्र प्रबंधन को सुनाया।
                जकांछ नेता धरमजीत सिंह ने कहा कि भाजपा सरकार को शासकीय सम्पत्ति बेचने नहीं दिया जाएगा। नगरनार की सम्पत्ति बस्तरवासियों की है। आने वाली पीढ़ी की धरोहर है। रक्षा के लिए छत्तीसगढ़ की ढाई करोड़ जनता सक्षम है।

 
loading...

Comments

  1. Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...