संतकुमार का कांग्रेस में स्वागत…किसने कहा कल्लूरी के हटने से बस्तर को राहत…नहीं बचेगा फर्जी आदिवासी

IMG20170810143115बिलासपुर– महेन्द्र कर्मा के बेटे दीपक कर्मा ने बताया कि जोगी आदिवासी नहीं हैं। उन्होने दशकों तक हाईकमान को गुमराह किया। अब सब कुछ आईने की तरह साफ हो गया है। फर्जी आदिवासी के बचने का सवाल ही नहीं उठता है। पार्टी से जोगी के निकलते ही कांग्रेस से गुटबाजी का रोग भी खत्म हो गया है। जाति मामले में जोगी अपने ही जाल में फंसे हैं। जो जैसा करता है वैसा ही उसे भरना भी पड़ता है। पत्रकारों से बातचीत करते हुए कर्मा ने कहा कि यदि नक्सलियों को सरकार का समर्थन ना हो तो प्रदेश में नक्सल समस्या का नामों निशान मिट जाए।

डाउनलोड करें CGWALL News App और रहें हर खबर से अपडेट
https://play.google.com/store/apps/details?id=com.cgwall

                        हाईपावर कमेटी के निर्णय का स्वागत करते हुए दीपक कर्मा ने कहा कि जोगी का जाति मामला आईने की तरह साफ हो गया है। फर्जी आदिवासी के बचने का सवाल ही नहीं उठता है। जोगी को अब कोई नहीं बचा सकता है। मुखौटा हटने के बाद फर्जी आदिवासी का चेहरा बेनकाब हो गया है। दीपक कर्मा ने बताया कि एक जाति विशेष का जोगी को समर्थन हो सकता है लेकिन आदिवासी समाज जोगी के साथ नहीं है। लेकिन जाति विशेष भी जोगी के फर्जीगिरी से नाराज हैं। दरअसल वे सभी लोग कांग्रेस के साथ होंगे।

                                   एक सवाल के जवाब में दीपक कर्मा ने बताया कि मैं झीरम काण्ड की सुनवाई में आया हूं। उन्होने बताया कि ना केवल पिता होने के नाते महेन्द्र कर्मा अच्छे इंसान थे। बल्कि जनता के दिलों में तब भी राज करते थे और आज भी…। उन्होने नक्सलियों के साथ हमेशा दो दो हाथ किया। बातचीत करते समय पिता की याद में दीपक कर्मा भावुक हो गए। कर्मा ने बताया कि इस फर्जी आदिवासी ने असली आदिवासी को बहुत नुकसान पहुंचाया है। सबकुछ वर्तमान सरकार के मार्गदर्शन हुआ है। अजीत जोगी और वर्तमान सरकार के बीच पिछले 14 साल से मजबूत गठबंधन था। लेकिन अब गठबंधन टूट गया है। जोगी ने सरकार के ही इशारे पर पार्टी बनाया है।

               दीपक कर्मा ने बताया कि संतकुमार नेताम ईमानदार और जुझारू इंसान है। बावजूद इसके भाजपा में उन्हें तिरस्कृत किया जा रहा है। कांग्रेस पार्टी में फर्जी लोगों के लिए कोई जगह नहीं है। लेकिन खांटी आदिवासी संतकुमार नेताम का पार्टी स्वागत करती है। उन्हें आदिवासी समाज के लिए कांग्रेस में रहकर काम करना चाहिए। फर्जी आदिवासी को समर्थन देने वाली पार्टी से किनारा कर लेना चाहिए। यदि संतकुमार नेताम चाहें तो कांग्रेस पार्टी में स्वागत है।

                    दीपक कर्मा के अनुसार 2018 में कांग्रेस की सरकार बनेगी। जनता चुनाव का बेचैनी से इंतजार कर रही है। कर्मा के अनुसार स्कूली छात्राओं के साथ सीआरपीएफ के जवानों ने छेड़छाड़ की घटना ने छत्तीसगढ़ को झकझोर कर रख दिया है। सोशल और वेवमीडिया में खुलासा नहीं होता तो जवानों के खिलाफ कार्रवाई नहीं होती। इस घटना से जाहिर हो गया है कि बस्तर संभाग के आदिवासी क्षेत्रों में अब से पहले छेड़छाड़ को लेकर जवानों की जितनी भी शिकायत थी…सब सही है। कर्मा ने बताया कि कल्लूरी के पहले बस्तर के लोगों को एक साथ दो मोर्चों पर लड़ाई लड़ रहे थे। जब से कल्लूरी हटे हैं..बस्तर वासियों की लड़ाई सरकार समर्थित नक्सलियों से हो रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *