नॉन घोटाले मे रमन साइलेंट मोड परः भूपेश

bhupesh 2
    रायपुर ।  प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने देश की रक्षा के लिए अपने फ्राणों  की आहुति देने वाले कैशल यादव के नाम पर पुलिस प्रसिक्षण अकादमी बनाने की माँग की है मंगलवार को  कांग्रेस भवन में पत्रकारों से अनौपचारिक चर्चा करते हुये  उन्होने कहा कि  स्व. कौशल यादव हम सबके आदणीय है,। उनकी स्मृति को अक्षुण्ण बनाने के लिये सेना और पुलिस में भर्ती छत्तीसगढ़ के नौजवानों की प्रशिक्षण की एक अकाडमी बनायी जानी चाहिये। ऐसा न करने से जनता दुखी है। ऐसे शहीद की पावन स्मृति को विवादित किया जाना अनुचित व पीड़ादायक है। उनकी स्मृति को सरकार द्वारा विवादित किया जाना शहादत का अपमान है। हम सब इससे दुखी है। ऐसे महान शहीदों के नाम पर भाजपा सरकार द्वारा स्तरहीन राजनीति करना उचित नहीं है।

भूपेश बघेल ने आगे कहा कि जनप्रतिनिधियो का अपमान और अवमूल्यन ये सरकार अपने अधिकारियों से करा रही है। आर.के. राय, को गिरफ्तार किया गया। कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर बल प्रयोग किया गया। शहीद महेन्द्र कर्मा की पत्नी विधायक देवती कर्मा से इस सरकार ने अफसरों ने ज्ञापन लेना भी जरूरी नहीं समझा। बलौदाबाजार के विधायक जनक राम वर्मा ने मुख्यमंत्री के कार्यक्रम में जनता की आवाज उठाया। उनकी आवाज को मुख्यमंत्री ने अनसुना कर दिया। ये सरकार लगातार जनप्रतिनिधियों को उपेक्षित और अपमानित कर रही है।
एक ओर स्कूल जाबो पढ़ेबर का नारा, दूसरी और 3000 स्कूल बंद किये गये है। भाजपा सरकार द्वारा स्कूल बंद करने से ग्रामीण क्षेत्रों में विपरीत असर पड़ रहा है। बच्चों को तीन-तीन किमी पैदल चलना पड़ रहा है। नौजवानों को रोजगार से वंचित किया जा रहा है। आउटसोसिंग के माध्यम से शिक्षकों को भर्ती कर भापजा सरकार युवाओं और बेरोजगारों के जले पर नमक छिड़कने का काम कर रही है।
नान घोटाले में जो डायरी के पन्ने चालान में प्रस्तुत हुये है। 113 पन्नों की जप्ती की गयी है, 106 पन्ने कहां है? उन 106 पन्नों में किस किसके नाम है? एसीबी ने इन पन्नों को रिलेवेंट क्यों नहीं समझा? 7 पन्नों जो चालान के साथ प्रस्तुत किये गये है, जिनके नाम उस डायरी में है, स्टेनो, पीए, ड्राइवर और मुख्यमंत्री के खानसामा का नाम उस डायरी में है। डायरी के पन्नों में जो नाम आयें हैं, इनसे पूछताछ क्यों नहीं करती? इनकी गिरफ्तारी क्यों नहीं की गयी? राशन के लूट के पैसा पाने वालों के नाम का खुलासा क्यों नहीं है? 113 पन्नों तो सिर्फ एक डायरी में है। गिरीश शर्मा, अरविंद ध्रुव और अन्य आरोपियों की जो – डायरी है पकड़ी गयी है वो डायरी कहां हैं? डायरियों को क्यो छिपाया जा रहा है? बड़े नेताओं और बड़े अधिकारियों को नान घोटाले की जांच में बचाया जा रहा है। जिस तरह से भाजपा नेताओं के भ्रषटाचार पर दिल्ली में प्रधानमंत्री साइलेंट मोड़ में हैं उसी प्रकार छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री नान घोटाले पर साइलेंट मोड़ पर चले गये है।
खेती किसानी का समय आ गया है। पूरे प्रदेश में नकली दवा और नकली खाद की बिक्री चरम पर है। जैविक खाद के नाम पर 800 रू. प्रति बोरी की खाद खरीदने के लिये सोसाइटियों में किसानों को मजबूर किया जा रहा है। इस जैविक खाद के खेल के कर्ताधर्ता कौन है? किसके खाते में पैसे जमां हो रहे है? इस नकली खाद का पैसा किस किस को जाता है? सरकार उजागर करे। जैविक खाद की बोरी के अंदर बड़े-बड़े पत्थर निकल रहे है। जैविक खाद को घोलने पर कंकड़ भी निकले है।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...