कोनी थानेदार को हटाने एकजुट हुए ग्रामीण…लगाया गंभीर आरोप, कहा हत्यारे को पकड़े पुलिस, अन्यथा करेंगे आंदोलन

IMG-20171012-WA0028बिलासपुर—रमतला दोहरा हत्याकाण्ड के बाद कोनी थाना क्षेत्र के ग्रामीणों का आक्रोश दिनों दिन बढ़ता ही जा रहा है। लगातार कोनी थाना प्रभारी को बदलने की मांग हो रही है। आरोप लगाया जा रहा है कि वर्तमान थानेदार का जनता के साथ व्यवहार ठीक नहीं है। अपराधियों से सांठ गांठ भी है। कई बार शिकायत के बाद भी थानेदार को नहीं हटाया जा रहा है।

               जनता का मानना है कि कोनी थाना क्षेत्र में जितनी भी वारदात हुई हैं। इसके लिए परोक्ष अपरोक्ष रूपे से कोनी थाना प्रभारी जिम्मेदार हैं।

                              आज कोनी थाना क्षेत्र के करीब एक दर्जन गांव के सैकड़ों लोग पुलिस कप्तान मयंक श्रीवास्तव से मिले। पुरजोर तरीके से कोना थाना प्रभारी को हटाए जाने की मांग की। पुलिस कप्तान ने मामले में जल्द ही निर्णय लेने का आश्वासन दिया है।

                            कोनी थाना क्षेत्र के दर्जन भर गांव से करीब सैकड़ों ग्रामीण पुलिस अधीक्षक कार्यालय का घेराव किया। ग्रामीणों ने कोनी थाना प्रभारी एससी शुक्ला को हटाए जाने की मांग की । ग्रामीणों ने पुलिस कप्तान मयंक श्रीवा्स्तव को बताया कि क्षेत्र में बढ़ रहे अपराध के लिए परोक्ष अपरोक्ष रूप से वर्तमान थाना प्रभारी जिम्मेदार हैं। हर बार कुछ ऐसा हुआ है कि थाना प्रभारी से शिकायत के बाद भी अपराधियों पर कार्रवाई नहीं हुई। रिपोर्ट लिखाने वालों को डांट डपटकर भगा दिया जाता है।

                    ग्रामीणों ने बताया कि रमतला निवासी मां और बेटी की बहसी दामाद ने 10 अक्टूबर की रात्रि को बेरहमी से मौत के घाट उतार दिया। जबकि घटना के दो दिन पहले मां और बेटी ने बहसी दामाद की शिकायत लेकर थाने पहुंंची। मां और बेटी ने बताया कि रमेश साहू कुल्हाड़ी से मारने के लिए दौड़ता है। बावजूद इसके थाना प्रभारी ने दोनों को डांटकर भगा दिया। ठीक दो दिन बाद रमेश साहू ने कुल्हाड़ी मां और बेटी की बेरहमी से हत्या कर दी।

                       पुलिस कप्तान को ग्रामीणों बताया कि घटना के बाद थाना प्रभारी और पुलिस को कई बार फोन किया गया। बावजूद इसके थाना से कोई नहीं आया। जबकि कुल्हाड़ी की वार से घायल मां और बेटी की सांस सुबह 6 बजे तक चल रही थी। समय पर पुलिस की मदद मिल जाती तो दोनों को बजाया जा सकता था। लेकिन थाना प्रभारी और स्टाफ घटना स्थल पर सुबह आठ बजे पहुंचा। तब तक आरोपी बहुत दूर निकल चुका था।

          ग्रामीणों ने एसपी को बताया कि कुछ दिन पहले एक व्यक्ति ने फिनाइल पीकर जान देने की कोशिश की। थाना प्रभारी के सामने ही पीड़ित ने आरोप लगाया कि एससी शुक्ला ने ही जहर पीने के लिए मजबूर किया। ग्रामीणों ने पुलिस कप्तान से थाना प्रभारी को हटाए जाने के अलावा 24 घंटे के अन्दर हत्यारे को पकडने को कहा। ऐसा नहीं होने पर उग्र आंदोलन की चेतावनी भी दी।

                                      पुलिस कप्तान ने आक्रोषित ग्रामीणों को आश्वासन दिया कि मामले का जल्द ही निराकरण किया जाएगा।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...