खत्म हुआ 36 मॉल का विवाद…पुराना प्रबंधन करेगा ड्राइव,आय व्यय पर रहेगी बैंक की नज़र

36 mal 1बिलासपुर— 36 मॉल का विवाद कमोबेश अब खत्म हो चुका है। प्रबंधन और बैंक के बीच में लगातार बातचीत के बाद पीएनबी ने पुराने प्रबंधन को ही मॉल संचालन की जिम्मेदारी दी है। लेकिन मॉल के आय व्यय पर पीएनबी की नजर रहेगी। सभी किराएदार अब मॉल के नए खाते में रूपए जमा करेंगे। यह जानकारी बैंक प्रबंधक क्लब के समन्वयक और पीएनबी के बिलासपुर ब्रांच के मैनेजर ललित अग्रवाल ने दी है।

                             ललित अग्रवाल ने बताया कि 16 सितम्बर को कोर्ट के निर्देश और जिला प्रशासन की उपस्थिति में 36मॉल का भौतिक अधिपत्य पीएनबी को दिया गया। मॉल के किरायेदारों को किराया और मेंटेनेंस व्यय पूर्व प्रबन्धन के बजाय बैंक में जमा करने की लिखित सूचना भेज दी गयी है।

                                                  ललित अग्रवाल ने बताया कि कोर्ट के आदेश के बाद लगातार खबरें पढ़ने और सुनने को मिल रही थी कि मॉल बंद होने वाला है लेकिन इसमें किसी प्रकार की सच्चाई नहीं है। दरअसल इस प्रकार की बातें आपसी सामंजस्य नहीं होने के कारण सामने आयी। लेकिन अब अफवाहों का दौर खत्म हो गया है। बैंकर्स क्लब, बिलासपुर और समाज के जागरूक लोगों के प्रयास से बिलासपुर का एकमात्र 36 मॉल को बंद नही होने दिया जाएगा।

                पीनएनबी ने अफवाहों को गंभीरता से लेते हुए सकारात्मक प्रयास किया है। प्रबंधन ने आपसी बातचीत के बाद  किरायेदारो की मांग पर सिटी मॉल विकास प्रायवेट लिमिटेड नाम से नया खाता खोला है। अब मॉल के सभी किरायेदार अपना किराया, एसी और बिजली बिल, मॉल मेंटेनेन्स की राशि जमा करेंगे। इससे आय व्यय में पारदर्शिता रहेगी। मॉल संचालन की जिम्मेदारी पूर्व की तरह तत्कालिक प्रबंधन ही करेगा। PNB

                     ललित अग्रवाल ने बताया कि आवक जावक का हिसाब बैंक खाते में होने के बाद आय-व्यय की गणना करना आसान होगा। आने वाले समय में कोई ठोस कदम उठाने के पहले  बैंक को मासिक लाभ की वास्तविक जानकारी हो जायेगी। अग्रवाल के अनुसार पीएनबी की सोच है कि शहर के सबसे बड़े मॉल का संचालन सहजता के साथ हो। इसके लिए जरूरी है कि मॉल प्रबंधन और दुकानदार बैंक प्रबंधन का भी सहयोग करें। 36 मॉल को चालू रखने के लिए यह बहुत जरूरी भी है। ललित अग्रवाल ने बताया कि सहयोग नहीं करने की स्थिति में हमें नीलामी जैसा कठोर कदम उठाने लिए मजबूर होना होगा। यह जानते हुए भी 36 मॉल जनता की जनभावनाओं से जुड़ी है।

पीनएबी का है 18 करोड़ लोन

            मालूम हो कि 36 मॉल ने पीएनबी से कुल 18 करोड़ रूपए लोन में लिया है। इसके अलावा आईसीआईसी बैंक का लोन है। जानकारी मिल रही है कि पीएनबी के अतिरिक्त आईसीआईसीआई बैंक को 36 मॉल ने लो का कुछ हिस्सा चुकाया है। बावजूद इसके लोन का बहुत बड़ा हिस्सा दिया जाना बाकी है। लेकिन 36 मॉल ने पीएनबी को लोन का भुगतान नहीं किया है। मॉल प्रबंधन का कहना है कि निर्णय के बाद ना केवल पीएनबी बल्कि आईसीआईसीआई बैंक लोन का भुगतान जल्द से जल्द कर दिया जाएगा।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...