किसानों को दलहन-तिलहन की खेती के लिए प्रोत्साहित करने चलाए अभियान-सीएम रमन

B01C576A235489A778F0BEEEB33180E2रायपुर।मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कृषि विभाग की बैठक में रबी वर्ष 2017-18 की कार्य-योजना और रबी फसलों के लिए खाद-बीज की उपलब्धता की समीक्षा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों को दलहन और तिलहन की खेती के लिए प्रोत्साहित करने के लिए कृषि विभाग के माध्यम से सघन अभियान चलाया जाए। उन्होंने किसानों को दलहन और तिलहन फसलों के बीजों के मिनीकिट पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध कराने के निर्देश भी अधिकारियों को दिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के सूखा प्रभावित जिलों विशेष रूप से धमतरी और महासमुंद में दलहन-तिलहन फसलों के लिए किसानों को जागरूक करने का प्रयास किया जाए। उन्होंने किसानों को मक्के की खेती के लिए प्रोत्साहित करने के निर्देश भी दिए।

                      बैठक में जानकारी दी गई कि इस वर्ष 18 लाख 51 हजार हेक्टेयर में रबी फसलों के क्षेत्राच्छादन की कार्य-योजना तैयार की गई है। रबी मौसम में एक लाख 30 हजार हेक्टेयर क्षेत्र को गर्मियों की धान की फसल से दलहन-तिलहन की फसल क्षेत्र में परिवर्तित करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। किसानों को दलहन और तिलहन फसलों के एक लाख 56 हजार मिनीकिट वितरित करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

                        इन मिनीकिटों से लगभग 25 हजार हेक्टेयर में दलहन और तिलहन फसलों का क्षेत्राच्छादन होगा।कृषि मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल ने जानकारी दी कि केन्द्र सरकार से दलहन और तिलहन फसलों के चार लाख मिनीकिट उपलब्ध कराने का आग्रह किया गया है।

                          बैठक में जानकारी दी गई कि केन्द्र सरकार की ‘बीज ग्राम योजना’ के अंतर्गत किसानों को दलहन और तिलहन फसलों के बीज 60 प्रतिशत अनुदान पर और मक्का के बीज 50 प्रतिशत अनुदान पर वितरित किए जा रहे हैं।

                          बैठक में बताया गया कि रबी फसलों के लिए बीज और यूरिया, सुपर फास्फेट, पोटाश, डीएपी, एमएपी और एनपीके उवर्रकों का पर्याप्त भंडारण है। मुख्यमंत्री ने संभागीय कमिश्नरों की अध्यक्षता में सभी संभागों में बैठक आयोजित कर विभिन्न जिलों में पेयजल और निस्तार के लिए जल उपलब्धता की समीक्षा करने के निर्देश दिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *