शिक्षाकर्मियों का एलान-अब आरपार की जंग,संजय ने बताया 20 नवम्बर से शाला बहिष्कार,मंत्रालय को दी जानकारी

IMG-20171108-WA0095रायपुर— शिक्षक पंचायत और नगरीय निकाय संवर्ग कर्मचारियों ने बुधवार को छत्तीगढ़ शासन के अधिकारियों से व्यक्तिगत मुलाकात कर 20 नवम्बर को अनिश्चित काल के लिए शाला बहिष्कार का निर्णय सुनाया है। संजय शर्मा की अगुवाई में शिक्षाकर्मी संघ के पदाधिकारियों ने राउत को बताया कि अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने के बाद शाला की सम्पूर्ण जवाबदेही शासन प्रशासन की होगी।बुधवार को शिक्षाकर्मी संघ ने पंचायत आयुक्त, स्कूल शिक्षा आयुक्त आदिमजाति कल्याण विभाग संचालक, नगरीय प्रशासन को लिखित में पत्र देकर अनिश्चित काल के लिए स्कूल छोड़ने की जानकारी दी है। शिक्षाकर्मी संघ नेता संजय शर्मा की अगुवाई में पदाधिकरियों ने शासन के अधिकारियों को बताया कि 30 अक्टूबर 2017 को प्रदेश के 146 ब्लाक में 9 सूत्रीय मांग को लेकर लाखों शिक्षाकर्मियों ने धरना प्रदर्शन किया था।रैली निकालकर शासन को 9 सूत्रीय मांग पूरी नहीं होने पर 20 नवम्बर को अनिश्चित कालीन हड़ताल पर जाने की जानकारी भी दी थी।
डाउनलोड करें CGWALL News App और रहें हर खबर से अपडेट
https://play.google.com/store/apps/details?id=com.cgwall

                    शिक्षाकर्मी संघ पदाधिकारियों ने प्रशासन को बताया कि एक दिवसीय हड़ताल के दो सप्ताह पूरे हो चुके हैं। बावजूद इसके शासन शिक्षाकर्मियों की 9 सूत्रीय मांग को लेकर गंभीर नहीं है। एक दिवसीय धरना प्रदर्शन के बाद कहीं से भी ऐसा नहीं लग रहा है कि सरकार 1 लाख 80 शिक्षाकर्मियों के हितों के बारे में सोच रही है।
शिक्षाकर्मी की कहानी भाग 1 पढ़ने के लिए क्लिक करे- http://cgwall.com/?p=41084
शिक्षाकर्मी की कहानी भाग 2 पढ़ने के लिए क्लिक करे- http://cgwall.com/?p=41130
शिक्षाकर्मी की कहानी भाग 3 पढ़ने के लिए क्लिक करे- http://cgwall.com/?p=41236

                        इस बात को ध्यान में रखते हुए शिक्षाकर्मी संगठन ने फैसला किया है कि 9 सूत्रीय मांग पर उचित कार्रवाई नहीं होने की सूरत में प्रदेश के सभी शिक्षाकर्मी 20 नवम्बर को शाला का बहिष्कार करेंगे। शिक्षाकर्मियों के अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने के बाद सारी जिम्मेदारी शासन प्रशासन की होगी।रायपुर स्थित अधिकारियों से मुलाकात के दौरान शिक्षाकर्मी प्रदेश संचालक संजय शर्मा विरेन्द्र दु्बे,केदार जैन,विकास राजपूत, चन्द्रदेव राय विशेष रूप से मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *