किसने कहा ..उनसे पूछो जो सीडी से चुनाव लड़ना चाहते हैं…हम रीति नीति में विश्वास करते हैं…

बिलासपुर— प्रभारी मंत्री अजय चन्द्राकर जांजगीर दौरा के बाद बिलासपुर पहुचे। कलेक्टर चैम्बर में अधिकारियों से बातचीत की। पत्रकारों से बताया कि धान खरीदी की व्यवस्थाओं का जायजा लेने आया था।  जांजगीर में धान खरीदी से जुड़े कर्मचारियों मे हड़ताल की जानकारी मिली थी। अब सब कुछ ठीक ठाक हो चुका है। चन्द्राकर ने बताया कि जिन्हें सीडी में विश्वास है वे लोग सीडी बनाएं..चुनाव तो हम…रीती नीति और विकास कार्यों पर लड़ेंगे।

                     कलेक्टर कार्यालय में संगठन नेताओं और अधिकारियों से बातचीत के बाद प्रभारी मंत्री अजय चन्द्राकर पत्रकारों से रूबरू हुए। उन्होने इन्कार किया कि व्यवस्था को लेकर प्रशासन से नाराजगी है। चन्द्राकर ने बताया कि जांजगीर और बिलासपुर का प्रभारी मंत्री होने के नाते दौरा किया । धान खरीदी शुरू हो चुकी है। जांजगीर में धान खरीदी से जुड़े कर्मचारियों में हड़ताल की जानकारी मिली थी। दौरा के दौरान व्यवस्था का जायजा लिया। अब सब कुछ ठीक हो चुका है।

                                 जानकारी मिली है कि आप बिलासपुर प्रशासन की व्यवस्था को लेकर नाराज हैं। बैठक लेने आए थे..लेकिन बिना बैठक लौट रहे हैं। चन्द्राकर ने बताया कि व्यवस्था को लेकर किसी प्रकार की नाराजगी नहीं है। प्रभारी मंत्री आएगा तो व्यवस्था रहेगी ही। अधिकारियों से कलेक्टर चैम्बर में बातचीत हुई है। संगठन के सवाल पर चन्द्राकर ने कहा कि कलेक्टर चैम्बर में बैठकर संगठन की चर्चा नहीं होती। फिलहाल सबकुछ ठीक ठाक है।

                           महीनों और सालो बाद भी मनरेगा का भुगतान नहीं किया गया। चन्द्राकर ने बताया कि 98 प्रतिशत भुगतान तत्काल होता है। भुगतान नहीं होने का सवाल ही नहीं उठता। चन्दाकर ने मधुमेह दिवस के आंकड़े को सही बताया। उन्होने कहा कि झण्डा दिखाने वाला काम नहीं हुआ है। आप आंकड़ों में विश्वास करें हम काम में करते हैं।

             विधानसभा चुनाव क्या सीड़ी को लेकर लड़ा जाएगा। सवाल के जवाब में चन्द्राकर ने कहा कि मैं ऐसे विषय से व्यक्तिगत तौर पर असहमत रहा हूं। यह प्रश्न उनसे पूछा जाए जिन्हें सीडी में विश्वास हैं। हम रीती नीति और विकास कार्यों में विश्वास करते हैं। इसी आधार पर ही चुनाव लड़ेंगे। यह सवाल उनसे पूछा जाए जो सीडी को हथियार बनाकर चुनाव लड़ना चाहते हैं।

                        एक लाख से अधिक फर्जी स्मार्ट कार्ड के सवाल पर चन्द्राकर ने बोला कि हमारे पास जो आंकड़ा है हम उन पर विश्वास करते हैं। हमारे पास जो डाटा है उससे अलग सभी स्मार्ट कार्ड फर्जी है।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...