निगम शिक्षाकर्मियों ने कहा…आयुक्त का करेंगे घेराव…मंजूर नहीं नया फरमान

IMG20171127150125बिलासपुर— निगम शिक्षाकर्मियों ने सोमवार को हड़ताल के बीच टाउन हाल पहुंचकर निगम आयुक्त के आदेश का विरोध किया है। निगम संवर्ग शिक्षाकर्मियों ने बताया कि समय पर वेतन नहीं दिया जा रहा है। ऊपर से निगम आयुक्त ने तुलगलकी फरमान जारी कर वेतन बनाने की तारीख में फेरबदल कर दिया है। जिसके कारण भारी धांधली की आशंका है।

                 नगरीय संवर्ग शिक्षाकर्मियों ने आयुक्त के नए फरमान का विरोध करते हुए कहा कि अभी तक निगम क्षेत्र के सभी शिक्षाकर्मियों का वेतन  20 तारीख से दूसरे महीने की 21 तारीख के बीच बनता है। लेकिन आयुक्त ने तुगलकी फरमान जारी कर शिक्षाकर्मियों को परेशान करने का नया तरीका निकाल लिया है।

                          सोमवार को निगम शिक्षाकर्मियों का एक दल टाउनहाल पहुंचकर वेतन तारीख परिवर्तन का विरोध किया है। शिक्षाकर्मियों ने बताया कि पिछले महीने का वेतन अभी तक नहीं दिया गया है। निगम शिक्षा प्रकोष्ठ अधिकारी ने बताया कि आयुक्त ने महीने का वेतन एक तारीख से 31 तारीख के बीच करने का आदेश दिया है। इसलिए सभी का वेतन अब एक तारीख से 31 तारीख के बीच तैयार शीट के आधार पर किया जाएगा।

                निगम शिक्षाकर्मियों ने इसका जमकर विरोध किया। शिक्षकों ने बताया कि पिछले दस पन्द्रह साल से निगम शिक्षाकर्मियों का वेतन 20 तारीख से दूसरे महीने की 21 तारीख को आधार मानकर होता रहा है। स्कूलों के प्राधानाचार्य भी इन तारीखों के बीच वेतन शीट पर हस्ताक्षर करते हैं। इसके बाद वेतन कभी देर से तो कभी समय पर मिल ही जाता है। लेकिन नए फरमान के बाद समय पर वेतन मिलना मुश्किल है।

                             लेकिन आयुक्त के नए फरमान से शिक्षकों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ेगा। पहले से ही निगम कर्मचारी वेतन को लेकर परेशान हैं। कई लोगों को तो महीनों से वेतन नहीं दिया गया है। अब शिक्षकों को भी परेशान किया जाएगा।

     शिक्षकों ने बताया कि हम लोग मंगलवार को आयुक्त से मिलकर नए फरमान के खिलाफ अपनी बातों को रखेंगे। यदि तुगलकी फरमान को वापस नहीं लिया गया तो वैधानिक तरीके से आयुक्त का घेराव कर विरोध प्रदर्शन करेंगे। शिक्षाकर्मियों ने बताया कि आयुक्त के नए फरमान में धांधली की बू आ रही है। इसे किसी भी सूरत में बर्दास्त नहीं किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *