बिना आदेश बन गया तखतपुर सुपरवाइजर..कर्मचारी ने कहा शाखा प्रबंधक का आदेश..सीईओ तक पहुंची शिकायत

SAHKARITA_GRADE_VISUAL 003बिलासपुर—धान खरीदी के साथ दांव पेंच का खेल शुरू हो गया है। आदेश की नाफरमानी भी इसमें एक है। तखतपुर जिला सहकारी बैंक शाखा प्रबंधक की मनमानी ने समितियों का जीना मुश्किल हो गया है। जिला सहकारी बैंक मुख्य कार्यपालन अधिकारी के आदेश के खिलाफ सुपरवाइजरों ने काम करना शुरू कर दिया है। तखतपुर शाखा प्रबंधक जायसवाल ने जिला सहकारी बैंक मुख्यकार्यपालन अधिकारी के आदेश की अनदेखी करते हुए चहेते को तखतपुर क्षेत्र में सहकारी समिति धान खरीदी केन्द्र का सुपरवाइजर बना दिया है। शाखा प्रबंधक ने धमकी दी है कि जो उचित लगेगा वही करूंगा।  जिसको जो बनता है करे..मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता है।

                                      15 नवम्बर से धान खरीदी शुरू हो चुकी है। इसी के साथ लाभ हानि का भी खेल नजर आने लगा है। कर्मचारियों ने मनमानी करना शुरू कर दिया है। जानकारी के अनुसार 18 नवम्बर 2017 को जिला सहकारी बैंक ने एक आदेश जारी कर भरतलाल कौशिक को जरहागांव के सभी धान खरीदी केन्द्रों का सुपरवाइजर बनाया। लेकिन भरतलाल कौशिक जरहागांव के साथ तखतपुर क्षेत्र पर भी कब्जा कर लिया। जिला सहकारी संस्थाएं सीईओ ने जब भरतलाल से कारण पूछा तो उसने दो टूक जवाब दिया मैं जरहागांव के साथ ही तखतपुर का भी सुपरवाइजर हूं। मेरा कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता है। जिला सहकारी शाखा बैंक प्रबंंधक ने मुझे तखतपुर का भी चार्ज दिया है। जिला सहकारी बैंक सीईओ के आदेश से मुझे कुछ लेना देना नहीं । मैं दोनो जगह सुपरवाइजरी करूंंगा।

                 सीईओ बिन्द ने बताया कि मैने जिला सहकारी बैंक मुख्यकार्यपालन अधिकारी अभिषेक तिवारी से शिकायत की है। उन्होने कार्रवाई का आदेश दिया है। मैने सीईओ से बताया कि मना करने के बाद भी भरतलाल कौशिक तखतपुर क्षेत्र में हिसाब किताब मांगने आता है। कर्मचारियों को धमकी देता है। दबाव बनाकर उल्लू सीधा कर रहा है।

दो एक घंटे का दिया आदेश

           तखतपुर  जिला सहकारी बैंक शाखा प्रबंधक सूर्यकात जायसवाल ने भरतलाल कौशिक के आदेश को लेकर पहले तो कुछ भी बोलने से इंकार कर दिया। बाद में बताया कि मैने ही उसे दो एक घंटे के लिए खरीदी केन्द्रों की सुपवाइजरी करने को कहा है। भरतलाल जरहागांव क्षेत्र का सुपरवाइजर है। यदि वह दो तीन घंटे तखतपुर देखता है तो किसी को क्या फर्क पड़ जाएगा। सूर्यकांत जायसवाल के अनुसार मैं जिला सहकारी बैंक सीईओ से बात कर लूंगा। यदि सीईओ को भरतलाल कौशिक को लेकर किसी प्रकार का एतराज है तो हटा दूंंगा।

पहले था अब नहीं

               जरहागांव सुपरवाइजर भरत लाल कौशिक ने बताया कि पहले में तखतपुर क्षेत्र का ही सुपरवाइजर था। भरत लाल ने बताया कि मेरा दोनों जगह का आदेश है। बाद में उसने कहा कि शायद तखतपुर से मुझे हटा दिया गया है। फिर अपनी बातों से पलटले हुए कहा कि आदेश देखने के बाद ही पता चलेगा कि मैं कहां का सुपरवाइजर हूं। भरत लाल ने बताया कि मुझे शाखा प्रबंधक सूर्यकांत ने तखतपुर देखने को कहा था इसलिए यहां का भी सुपरवाइजर हूं।

आदेश की अनदेखी बर्दास्त नहींं

                 धान खरीदी केन्द्रों में किसी प्रकार की लापरवाही को बर्दास्त नहीं किया जाएगा। शासन के निर्देशों का पालन सभी को करना है। भरतलाल की नियुक्ति जहां के लिए हुई है उसी क्षेत्र का काम करेगा। जहां तक मुझे जानकारी है कि वह जरहागांव का सुपरवाइजर है। वह तखतपुर की सुपरवाइजरी किसके आदेश से कर रहा है पता लगाया जाएगा। दोषी के खिलाफ सख्त कदम उठाया जाएगा।

                                बहरहाल धान खरीदी केन्द्रों से संकेत मिलने लगे हैं। खरीदी केन्द्र के कर्मचारियों ने आंख से काजल चुराना शुरू कर दिया है। भरतलाल कौशिक सबसे बड़ा उदाहरण है। देखना है कि भरतलाल कौशिक के खिलाफ अब जिला सहकारी बैंक सीईओ क्या कदम उठाते हैं।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...