तेंदुपत्ता संग्राहकों को ढ़ाई हजार रूपये प्रति मानक बोरा मिलेगा पारिश्रमिक

बिलासपुर-बिलासपुर जिले के मरवाही और बिलासपुर वनमंडल में तेंदुपत्ता संग्रहण की तैयारी तेजी से चल रही है। इस वर्ष तेंदुपत्ता संग्रहण कार्य में 40 हजार 600 ग्रामीण और वनवासियों को रोजगार देने और उनके माध्यम से 54100 मानक बोरा तेंदुपत्ता की आवक का अनुमानित लक्ष्य रखा गया है। तेंदुपत्ता संग्राहक 39 प्राथमिक लघु वनोपज सहकारी समितियों के सदस्य के रूप में शामिल हैं। लघु वनोपज सहकारी संघ के अधिकारियों ने बताया कि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह द्वारा की गई घोषणा के अनुसार इस वर्ष तेंदुपत्ता संग्राहकों के लिए शासकीय भूमि पर संग्रहण कार्य का पारिश्रमिक 1800 रूपये प्रति मानक बोरा से बढ़ाकर 2500 रूपये कर दिया गया है। इसके साथ ही शासन ने ग्रामीणों की निजी भूमि पर तेंदुपत्ता संग्रहण के लिए इस वर्ष प्रति मानक बोरा 2600 रूपये पारिश्रमिक देने का भी निर्णय लिया गया है। अधिकारियों ने बताया कि तेंदुपत्ता संग्रहण कार्य की तैयारियों की नियमित समीक्षा की जा रही हैं। संग्रहकों से अपील की गई है कि वे संग्रहण केन्द्रों (फड़ों) में अच्छी क्वालिटी का पत्ता लेकर आये।

जिला लघु वनोपज सहकारी संघ के अधिकारियों द्वारा बताया गया कि जिला यूनियन बिलासपुर के अंतर्गत 23 प्राथमिक लघु वनोपज सहकारी समिति के माध्यम से तेंदुपत्ता का संग्रहण किया जाता है। इस वर्ष 32 हजार 200 मानक बोरा तेंदुपत्ता संग्रहण का लक्ष्य रखा गया है, 23 प्राथमिक लघु वनोपज समितियों में लगभग 23 हजार 800 तेंदुपत्ता संग्रहकों को 8 करोड़ 50 लाख रूपये मौसमी रोजगार के रूप में वितरित किये जाने का प्रावधान रखा गया है। इसी प्रकार मरवाही वनमंडल, पेण्ड्ररोड द्वारा जिला यूनियन मरवाही के अंतर्गत 16 प्राथमिक लघु वनोपज सहकारी समिति के माध्यम से तेंदुपत्ता का संग्रहण किया जाता है। इस वर्ष 21 हजार 900 मानक बोरा तेंदुपत्ता संग्रहण का लक्ष्य रखा गया है, 16 प्राथमिक लघु वनोपज समितियों में लगभग  16 हजार 800 तेंदुपत्ता संग्राहकों को 5 करोड़ 47 लाख 50 हजार रूपये मौसमी रोजगार के रूप में वितरित किये जाने का प्रावधान रखा गया है।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...