रसूखदार कांग्रेसी पुत्र ने RTO एजेन्ट को घर बुलाकार पीटा…कहा मेरा कुछ नहीं उखाड़ सकते…पीडित की हालत गंभीर…गुजराती समाज में आक्रोश

बिलासपुर–रसूखदार कांग्रेसी नेता  पुत्र ने आरटीओ कर्मी को घर बुलाकर पीटा है। तब तक पीटा जब तक लोग छुड़ाने नहीं पहुंचे। मारने पीटने के बाद कांग्रेस नेता के पुत्र ने कहा कि मुझे नहीं जानते कि मैं कौन हूं। तुम मेरा कुछ नहीं उखाड़ सकते। क्योंकि मेरे पिता का नाम राधेभूत है। मारपीट के बाद बुरी तरह से घायल पीड़ित जब सिविल लाइन में शिकायत करने पहुंचा तो पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज करने की समझौता करने का दबाव डाला। इतना ही फोन से मारपीट करने वाले को सूचना देकर काउन्टर रिपोर्ट करने की मुफ्त में सलाह दे डाली। बहरहाल अस्पातल में भर्ती घायल सतीष गोहिल की गंभीर है।

                  बच्चों के फुटबाल से पिकअप का कांच क्या टूटा…रसूखदार बाप के बेटे बच्चे को घर में बुलालकर पीटा। इतना पीटा कि पीडित के नाक ,सिर,मुंह हाथ पैर में गहरी चोट पहुंची है। पुलिस ने मुलायजा और दबा के बाद मामला दर्ज कर लिया है।

                        जानकारी के अनुसार अज्ञेय नगर निवासी आरटीओ कर्मी सतीश गोहिल का बेटा चार दिन पहले साथियों के साथ टिकरापारा में फुटबाल खेल रहा था। इसी दौरान पिकअप का कांच फुटबाल के टकराने से टूट गया। जानकारी मिलने पर पिकअप मालिक राहुल अग्रवाल ने खोजबीन के बाद सतीष गोहिल को फोन किया। राहुल अग्रवाल ने बताया कि उसके लड़के से पिकअफ का कांच टूटा है। कांच लगाने में 12 हजार रूपए खर्च आएंगे।

                            जिला अस्पातल में भर्ती सतीश गोहिल के अनुसार राहुल से मिलकर बताया कि कालोनी के सभी बच्चे फुटबाल खेल रहे थे। रकम बड़ी है मैं तीन हजार देने को तैयार हू। बाकी रकम सभी बच्चों के घर से इकठ्ठा करें। क्योंकि सिर्फ मेरा ही बच्चा फुटबाल नहीं खेल रहा था। बावजूद इसके राहुल नही माना और मारपीट की धमकी देने लगे। इस बीच कुछ कुछ चालकों ने बताया कि कांच की कीमत मुश्किल से ढाई तीन हजार रूपए ही हैं। किसी भी दुकान से पता लगाया जा सकता है। मैने इस मामले में राहुल अग्रवाल से भी फोन पर चर्चा की।

            सतीष गोलिह ने बताया कि राहुल अग्रवाल का आज सुबह फिर फोन आया। उसने तत्काल 12 हजार रूपए नहीं दिये जाने पर मारपीट करने और उठा लेने की धमकी दी। इसके बाद मैं तुरन्त राहुल से मिलने और तीन हजार रूपए लेकर टिकरापारा स्थित अग्रवाल मोहल्ला गया। मैने कहा कि कांच लगवा देता हूं। इतना सुनते ही राहुल अग्रवाल और तीन-चार साथी डंडा लात घूंसा से मारना पीटना शुरू कर दिया। तब तक मारा जब लोग छुड़ाने नहीं पहुंचे। इस दौरान राहुल ने धमकी देते हुए कहा कि उसे 12 हजार रूपए देना ही होगा। मैं कौन हूं..इसकी शायद तुझे नहीं है। जब पता चलेगा तो तेरे होश उड़ जाएंगे। फिर भी बता देता हूं मेरे पिता का नाम राधेभूत है। इसके बाद अपने परिचितों के साथ सिविल लाइन थाना पहुंचकर शिकायत की।

 घर घुसकर मारा

                    राहुल अग्रवाल ने बताया कि सतीश गोहिल पैसे नहीं दे रहा था। लगातार पैसे की मांगे जाने पर वह मेरे घर आया। बाहर बुलाकर मारना पीटना शुरू कर दिया।जमकर गाली गलौच भी की।

दबाव बनाने पहुंचे कांग्रेसी

             घटना की खबर मिलने के बाद जिला अस्पताल में नए पुराने कांग्रेसियों की भीड़ जमा हो गयी। पहले तो कांग्रेस नेता मामले को रफा दफा करने का प्रयास करते रहे। बात नहीं बनते देख दोनों पक्षों में वाद विवाद हो गया। पुलिस ने किसी तरह दोनों को पक्षों को शांत कराया।

एएसआईकी भूमिक संदिग्ध

          जिला अस्पताल में भर्ती सतीश गोहिल ने बताया कि एफआईआर लिखाने जब सिविल लाइन गया तो..एएसआई ने रिपोर्ट लिखने में आनाकानी की। इस दौरान एएसआई ने समझौता कराने का प्रयास किया। काफी देर तक रिपोर्ट लिखने से बचता रहा। बात नहीं बनने पर उसने घटनाक्रम की जानकारी मोबाइल पर आरोपी पक्ष तक पहुंचा दी। और आरोपी पक्ष को काउंटर रिपोर्ट लिखाने की सलाह दी। इसके बाद दूसरा पक्ष भी थाने पहुंच गया। मेरे रिपोर्ट के बाद राहुल अग्रवाल के बी रिपोर्ट को भी दर्ज किया गया।

गुजराती समाज में आक्रोश

         घटना के बाद गुजराती समाज में जबरदस्त आक्रोश है। समाज के अध्यक्ष ललित पुजारा ने घटना की निंदा की है। खासतौर पर पुलिस गतिविधियों को लेकर कड़ी प्रतिक्रिया दी है। पुजारा ने आरोप लगाया है कि पुलिस को रिपोर्ट तत्काल लिखना चाहिए। जैसे की जानकारी मिल रही है कि एएसआई ने आरोपी पक्ष को बुलाकर प्रयोजित तरीके से काउंटर रिपोर्ट दर्ज कराया है। इससे पुलिस की छवि को धक्का पहुंचा है। पुजारा ने बताया कि फिलहाल समाज के लोगों से मामले को लेकर विचार विमर्श किया जाएगा। जो भी उचित कदम होगा कानून के दायरे में उठाया जाएगा। समाज के एक अन्य नेता ने कहा कि समाज के लोगों से राय मशविरा के बाद रैली निकालेंगे। मामले में आईजी और एसपी से मिलकर पीडडित पक्ष के लिए न्याय की मांग करेंगे।आरोपी  कितने ही बड़े नेता का बेटा ही क्यों ना हो…लेकिन उसे समझना होगा कि कानून सबके लिए एक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *