जब ग्रामीणों ने कहा…गायब हो रही लड़कियां..रसूखदार ने बनाया बेटी को बंधक..पुलिस कब करेगी कार्रवाई

बिलासपुर–मस्तूरी ब्लाक के पचपेढी थाना क्षेत्र पतईडीह के दर्जनों लोग लम्बी यात्रा के बाद पुलिस कप्तान कार्यालय शिकायत करने पहुंचे। ग्रामीणों ने बताया कि क्षेत्र से लगातार नाबालिग लड़कियां गायव हो रही हैं। शिकायत के बाद भी कार्रवाई नहीं हो रही है। कुछ लोगों ने नाबालिग ल़ड़कियों को जबरदस्ती पकड़कर घर में रखा है। बावजूद इसके आरोपियों पर पुलिस ने अभी तक गंभीरता से संज्ञान में नहीं लिया है। ग्रामीणों ने बताया कि जब पचपेढ़ी पुलिस ने फरियाद सुनने से इंकार किया तो गुहार लगाने पुलिस कप्तान के दरवाजे पर आए हैं। पुलिस अधिकारी एन.के.चौबे ने कहा है कि मामले को गंभीरता से लिया जाएगा।

              पचपेढ़ी थाना क्षेत्र पतईडीह निवासी दर्जनों ग्रामीमों ने पुलिस कप्तान कार्यालय पहुंचकर नाबालिग लड़कियों की गायब होने की शिकायत की है। ग्रामीणों ने बताया कि गांव के आस पास ररूखदार लोग नाबालिग लड़कियों को बहला फुसला कर ले जाते हैं और फिर बाहर भेज देते हैं। कई लोगों ने लड़कियों को बंधक भी बना लिया है। मामले में नाम पता के साथ पुलिस में शिकायत भी हुई। लेकिन अभी तक किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं हुई है।

                   सागर राम यादव ने बताया कि 21 मार्च 2018 को बेटी की गुमने की शिकायत थाने में की है। आरोपी का पता ठिकाना भी बताया। लेकिन अभी तक मुख्य आरोपी को पुलिस ने नहीं पकड़ा है। सागर राम यादव ने बताया कि उसकी नाबालिग बेटी जिसकी उम्र करीब 17 साल  है को दो लोगों ने अभी भी अपने कब्जे में रखा है। पचपेढ़ी थाना में लिखित शिकायत कर बताया कि नाबालिग बेटी को पतईडीह निवासी  नरेन्द्र टण्डन पिता हीराराम टंडन और चन्द्र प्रताप पिता बुचेलाल ने बंधक बनाकर रखा है। चन्द्रप्रताप को गिरप्तार किया गया लेकिन मुख्य आरोपी को अभी पकड़ा नहीं गया है। बेटी कहां और किस हालत में जानकारी नहीं मिल रही है।

                                 सागर राम यादव के अलावा ग्रामीणों ने बताया कि क्षेत्र से अभी तक डेढ़ दर्जन नाबालिग लड़कियां गायब हो चुकी हैं। गायब होने की शिकायत भी है। कई लोगों का नाम भी बताया गया। लेकिन पुलिस ने अभी तक मामले को गंभीरता से नहीं लिया गया है। ग्रामीणों के अनुसार क्षेत्र में सामाजिक समरसता टूट रही है। समाज के बीच लगातार खाई बढ़ती जा रही है। किसी भी समय कोई बड़ा हादसा हो सकता है। इसलिए मामले में गंभीर कार्रवाई की जरूरत है।

                 पुलिस कप्तान की अनुपस्थिति में ग्रामीणों ने वरिष्ठ पुलिस अधिकारी को लिखित शिकायत कर नरेन्द्र टंडन समेत अपराधियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *