मस्तूरी में डायरिया का प्रकोप…वीर सिंह की मौत

JILA ASPTALबिलासपुर— मस्तूरी ब्लाक के जोन्धरा गांव में दूषित पानी पीने से डायरियां के शिकार 6 से अधिक मरीजों को जिला चिकित्सालय बिलासपुर में दाखिल कराया गया है। जिसमें से वीर सिंह पिता फेंकूराम की मौत हो गयी है।

                         मालूम हो कि एक सप्ताह पहले पीएचई एवं गृहमंत्री राम सेवक पैकरा ने दावा किया था। पेयजल की व्यवस्था में किसी प्रकार की लापरवाही नही की जा रही है। बावजूद इसके मस्तूरी क्षेत्र में डायरिया प्रकोप दिनों दिन बढ़ता ही जा रहा है।

                    जिला चिकित्सालय में दाखिल डायरिया पीड़ित मरीजों की संख्या दो दर्जन से ऊपर पहुंच चुकी है। अस्पताल प्रबंधन मौसमी बीमारियों से निपटने की बात कर रहा है। लेकिन जिला अस्पताल में एक डायरिया पीड़ित की मौत ने स्वास्थ्य विभाग की कथनी और करनी को उजागर कर दिया है।

                   मस्तूरी के जोन्धरा गांव में डायरिया का प्रकोप लगातार देखने को मिल रहा है। ग्रामीण क्षेत्र से  डायरिया के मरीज लगातार जिला अस्पताल और सिम्स पहुंच रहे है। आज सुबह जोन्धरा से 6 से अधिक डायरिया मरीज दाखिल हुए है। जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गयी है।

                                                मस्तूरी विधायक दिलीप लहरिया ने वीर की मौत के लिए सीधे प्रशासन को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा है कि प्रदेश सरकार की स्वास्थ्य व्यवस्था बुरी तरह से चरमरा गयी है। प्राथमिक से लेकर जिला स्तर तक अस्पतालों में व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं रह गयी है।

                         मस्तूरी विधायक दिलिप लहरिया ने बताया कि जिला अस्पताल में वीर सिंह यादव की मौत हुई है। लेकिन अस्पताल प्रबंधन मानने को तैयार नहीं है। मस्तूरी विधायक ने सीजी वाल से कहा कि वीर सिंह की मां भी डायरिया की शिकार हुई है। वह भी जिला अस्पताल में ही भर्ती है। लेकिन उसे यह नहीं मालूम कि उसके बेटे की डायरिया से मौत हो चुकी है। लहरिया ने बताया कि सिम्स और जिला अस्पताल में डायरिया के मरीज लगातार पहुंच रहे हैं । इसमें से कितने लोगों की मौत हो चुकी है किसी को नहीं पता। चूंकि मस्तूरी मेरा विधानसभा क्षेत्र हैं इसलिए मुझे केवल मस्तूरी के लोगों की ही जानकारी है।

                          सीजी वाल से बातचती करते हुए दिलिप लहरिया ने बताया कि मैने खुद देखा कि जिला अस्पताल की व्यवस्था पूरी तरह से चौपट हो चुकी है।

                      सीजी वाल से जानकारी छिपाते हुए सीएचएमओ एस.के.सक्सेना ने बताया कि हमें इस बात की कोई जानकारी नहीं है कि कितने डायरिया के मरीज अभी तक सिम्स और जिला अस्पताल में पहुंचे। उन्होंने यह भी बताया कि वीर सिंह की मौत हो गयी है इसकी भी मुझे जानकारी नहीं है।

                                बहरहाल सीजी वाल को खबर मिली है कि डॉ.सक्सेना ने डायरिया प्रभावित जोन्धरा क्षेत्र में डायरिया की जानकारी लेने एक टीम को रवाना कर दिया है। जिनमें प्रमुख रूप से डॉ.जीवानी, बीएमओ शामिल हैं।

                         वहीं सिम्स डीन रमणेश मूर्ति ने बताया कि अभी तक सिम्स में 20 से 30 मरीज विभिन्न क्षेत्रों से आए हैं। फिलहाल उनकी स्थिति ठीक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *