पुलिस और निगम का कांग्रेसियों ने किया विरोध…आयुक्त चौबे ने कहा….नजूल विभाग तक पहुंचाएंगे शिकायत

बिलासपुर— जिला कांग्रेस कमेटी और पार्षदों ने आज निगम आयुक्त से कार्यालय पहुंचकर यातायात पुलिस की शिकायत की है। निगम नेता प्रतिपक्ष शेख नजरूद्दीन और तैय्यब हुसैन ने बताया कि जब निगम के आदेश से अतिक्रमण हटाया जा सकता है। ऐसे में यातायात पुलिस उसी जमीन पर कैसे बेजा कब्जा कर सकता है। कांग्रेसी पार्षदों ने निगम आयुक्त से 15 दिनों के भीतर यातायात पुलिस को बेजाकब्जा से हटाए जाने का निवेदन किया। खाली कराए गए जमीन पर चौड़ी और अच्छी सड़क बनाए जाने की मांग की है।

                    जिला कांग्रेस नेता और पार्षदों ने निगम आयुक्त से यातायात पुलिस थाना के पीछे सरकारी जमीन पर बनाई गई बाउन्ड्री वाल को हटाए जाने की मांग की है। नजरूद्दीन और तैय्यब की अगुवाई में कांग्रेस पार्षदों ने लिखित शिकायत कर बताया कि होली के बाद यातायात थाने के पीछे से बेजाकब्जा को हटाया गया। बाद में हटाए गए स्थान को यातायात पुलिस ने घेर लिया। जबकि हटाए गए स्थान पर सड़क बनाया जाना है।

                    निगम आयुक्त ने बताया कि यातायात थाने के पीछे की जमीन को बेशक निगम प्रशासन ने खाली करवाया था। लेकिन जमीन नजूल प्रशासन की है। आप लोगों की शिकायतों को नजूल और जिला प्रशासन के अलावा पुलिस प्रशासन के सामने भेज दिया जाएगा। जो भी निर्णय होगा उससे अवगत करा दिया जाएगा।

              इतना सुनने ही कांग्रेस प्रदेश प्रवक्ता अभय नारायण राय और शैलेन्द्र जायसवाल ने बताया कि निगम क्षेत्र में जमीन चाहे किसी को हो लेकिन निर्माण की अनुमति ली जाती है। सवाल उठता है कि क्या पुलिस या नजूल प्रशासन ने निगम प्रशासन ने बाउन्ड्रीवाल बनाने की अनुमति ली है। यदि ऐसा नहीं है तो यह प्रशासन की दादागिरी है। समझने वाली बात है कि मौके पर काबिज लोगों को मात्र सड़क चौड़ीकरण के लिए हटाया गया है। ऐसे में यातायात पुलिस ने कब्जा क्यों किया।

                      तैय्यब हुसैन ने कहा कि हमारी मांग है कि जिन उद्देश्यों को लेकर जमीन पर काबिज लोगों को हटाया गया। उसे पूरा किया जाए। निगम प्रशासन किसी भी गरीब की झोपड़ी को तोड़ सकता है तो फिर पुलिस के कब्जे के खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं हो सकती है। नजरूद्दीन ने बताया कि एक शहर में दो कानून नहीं हो सकते हैं। दोनों नेताओं ने कहा कि हम लोग मौके पर शहीद विनोद चौबे की प्रतिमा लगाने की मांग करते हैं तो निगम प्रशासन से अनुमति नहीं मिलती है। लेकिन पुलिस प्रशासन सरकारी जमीन पर कब्जा कर लेता है। लेकिन निगम प्रशासन किसी प्रकार की कार्रवाई से बचती है।

                                           कांग्रेस पार्षद और नेताओं ने कहा कि यदि पन्द्रह दिनों के भीतर बाउन्ड्रीवाल को नहीं हटाया गया तो कांग्रेस नेता खुद बाउन्ड्रीवाल तोड़ेंगे।

जिम्मेदार विभाग तक पहुंचाएंगे शिकायत

                                 निगम आयुक्त सौमिल रंजन ने कहा कि कांग्रेस नेताओं ने यातायात थाना के पीछे बनाई गयी बाउन्ड्री का विरोध कर रहे हैं। जमीन नजूल की है। कब्जा पुलिस प्रशासन का है। दोनों विभागों तक कांग्रेस नेताओं की शिकायत को पहुंचा दिया जाएगा। प्रशासन जो उचित निर्णय लेगा उसके अनुसार कार्रवाई की जाएगी। सौमिल रंजन ने बताया कि मूर्ति लगाने की कुछ प्रक्रियाएं होती हैं। कोर्ट के आदेश का पालन करना होता है। इस मामले में निर्णय सरकार को करना है। उन्होने बताया कि पार्षद निधि से मूर्ति लगाने का कोई प्रावधान नहीं है।

यातायात थाना के सामने धरना और बाउन्ड्रीवाल का विरोध

इसके पहले कांग्रेस पार्षद और नेताओं ने सत्यम चौक पर सड़क चौड़ीकरण की मांग और यातायात विभाग की बाउन्ड्रीवाल को लेकर सुबह 11 से दोपहर 3 बजे तक धरना दिया। इस दौरान कांग्रेसियों ने एक सभा को संबोधित भी किया। कांग्रेसियों ने कहा कि यातायात विभाग ने नजूल की जमीन पर कब्जा कर बाउन्ड्रीवाल बनाया लिया है। जिसके कारण सड़क चैड़ीकरण में बाधा उत्पन्न हो रही है। उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए तैय्यब हुसैन ने कहा कि इमलीपारा की सड़क 120 फीट चौडी है। निगम ने पुलिस लाईन के पुलिस क्वार्टर को तोड़ा। गरीबों के मकान को उजाड़ा। सड़क जब यातायात थाने के बगल में पहुंची तो चौड़ाई मात्र 20-से-30 फीट रह गई।

               बाउण्ड्रीवाॅल के कारण सड़क 120 चौड़ी संकरी हो गयी है। जब पुलिस की दादागिरी का विरोध किया जाता है तो कांग्रेसियों को पकड़ कर थाने में बंद कर दिया जाता है। धरने को नेता प्रतिपक्ष शेख नजरूद्दीन ने भी संबोधित किया। नजरूद्दीन ने धरने का समर्थन किया। साथ ही बाउण्ड्रीवाॅल को हटाकर सड़क चैड़ीकरण की मांग की गयी। धरने में प्रदेश महामंत्री अटल श्रीवास्तव, पूर्व विधायक चंद्रप्रकाश बाजपेयी, अरूण तिवारी, जिलाध्यक्ष विजय केशरवानी, शहर अध्यक्ष नरेन्द्र बोलर, विजय पाण्डेय, प्रदेश सचिव महेश दुबे, पूर्व महापौर राजेश पाण्डेय, जसबीर गुम्बर, प्रदेश प्रवक्ता अभय नारायण राय,दीपांशु श्रीवास्तव समेत दर्जनों कांग्रेसी मौजूद थे।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...