..कांग्रेसियों ने किया बेमियादी जंग का एलान..किया पेन्ड्रा थाना का घेराव…केशरवानी ने कहा…अधिकारियों ने किया आत्महत्या के लिए मजबूर

बिलासपुर—जिला कांग्रेस कमेटी और पेण्ड्रा, गौरेला मरवाही ब्लॉक कांग्रेस कमेटी ने किसान कांग्रेस मोर्चा के साथ पेन्ड्रा थाने का घेराव किया। इस दौरान कांग्रेसियों ने कर्ज वसूली से परेशान आत्महत्या करने वाले किसान सुरेश सिंह मरावी के परिवार को मुआवजा और किसी एक सदस्य को सरकारी नौकरी दिेए जाने की मांग की है। थाना घेराव के दौरान कांग्रेस नेताओं ने सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की। साथ किसान आत्महत्या के लिए जिम्मेदार अधिकारियों पर जुर्म दर्ज किए जाने की भी मांग की है।

                              मालूम हो कि एक सप्ताह पहले पेण्ड्रा ब्लाक के पिपरिया गांव निवासी किसान  सुरेश मरावी ने कर्ज से परेशान होकर आत्महत्या कर ली। शासन ने रिपोर्ट में बताया कि किसान ने आत्महत्या कर्ज से परेशान होकर नहीं की है। क्योंकि उसके खाते में करीब डेढ़ लाख से अधिक रूपए हैं। जबकि कांग्रेस पार्टी समेत अन्य दलों के नेताओं ने बताया कि किसान के खाते में दूसरे दिन रूपए डाले गए। सच्चाई तो यह है कि किसान ने कर्ज वसूली से परेशान होकर आत्महत्या की है। उसके भाई ने भी बताया कि एक दिन पहले ही अधिकारियों ने कर्ज पटाने को कहा था। जबकि सुरेश के खाते में एक रूपए भी नहीं थे। लेकिन आत्महत्या के दूसरे दिन भाई के खाते में लाखों रूपए कहां से आ गए…बात समझ से परे है।

                         मामले में जिला कांग्रेस कमेटी ने ब्लाक कांग्रेस और किसान मोर्चा के साथ आज पेन्ड्रा थाना का घेराव कर आत्महत्या के लिए जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ अपराध दर्ज करने की मांग की। इसके अलावा कांग्रेसियों ने शासन से पीड़ित परिवार के लिए मुआवजा, एक सदस्य को सरकारी नौकरी और भरण पोषण दिए जाने की मांग की।

                                                  जिला कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष विजय केशरवानी ने कहा कि प्रदेश में किसान आत्महत्या जैसा जघन्य कदम उठा रहे हैं। राज्य सरकार दमन और शोषण की चरम सीमा पर है। प्रकृति की मार झेल रहे किसानों पर राज्य की भाजपा सरकार कहर बनकर टूट रही है। सुरेश मरावी के परिवार को न्याय दिलाने हम संघर्ष करेंगे। पेन्ड्रा क्षेत्र में दो साध्वी के साथ सामुहिक बलात्कार हुआ। दोनो साध्वी न्याय के लिए दर दर भटक रही हैं। इससे दुखद क्या होगा। प्रदेश में सभी वर्गों का शोषण हो रहा है । सरकार कमीशनखोरी भ्रष्ट्राचार में लिप्त है। राज्य सरकार ने किसानों के साथ हमेशा अन्याय किया है।

                केशरवानी ने कहा कि हजारों किसानों की हत्या की दोषी सरकार के कारण ही सुरेश मरावी ने आत्महत्या की है। प्रशासन और राज्य सरकार से सुरेश मरावी को न्याय चाहिए।  दोषी अधिकारियों पर जुर्म दर्ज किया जाय और परिवार को 25 लाख मुआवजा दिए जाने के अलावा परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी दी जाए। केशरवानी ने न्याय नहीं मिलने पर उग्र आंदोलन की चेतावनी दी।

             किसान काँग्रेस के जिलाध्यक्ष सुनील शुक्ला ने कहा कि किसानों की पीड़ा सुनने वाला कोई नहीं है। आज किसान बहुत मजबूर है। राज्य सरकार संवेदनहीन हो चुकी है। प्रदेश किसान कांग्रेस अध्यक्ष चंद्रशेखर शुक्ला ने सुरेश मरावी के हत्यारों को सजा मिलने और परिवार का भरण पोषण निर्धारित होने तक जंग का एलान किया।

                     पेण्ड्रा ब्लॉक अध्यक्ष प्रशांत श्रीवास, शहर अध्यक्ष घनश्याम सिंह, गौरेला अध्यक्ष अमोल पाठक, मरवाही अध्यक्ष मनोज गुप्ता के संयोजन में आयोजित  कार्यक्रम में महिला कांग्रेस जिलाध्यक्ष अनिता लवहात्रे, उत्तम वासुदेव, जिला कांग्रेस के प्रभारी महामंत्री अनिल सिंह चौहान, नारायण शर्मा, शंकर पटेल, किसान कांग्रेस के प्रदेश महामंत्री इकबाल सिंह, अशरफ वनक, जिला पंचायत सदस्य कौशल्या ओट्टावि, ओमवती पेन्द्रों, वरिष्ठ कांग्रेसी सत्यनारायण तिवारी समेत सैकड़ों कांग्रेस नेता और स्थानीय लोग मौजूद थे।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...