आरक्षक पर लटकी बर्खास्तगी की तलवार…भारी पड़ेगा हडताल का समर्थन…पुलिस कप्तान का आदेश…संतोषप्रद जवाब नहीं..तो बर्खास्त


बिलासपुर–पुलिस कप्तान बिलासपुर आरिफ हुसैन शेख ने बिल्हा में पदस्थ आरक्षक शोभा तिर्की को कारण बताओ नोटिस जारी कर सात दिनों के भीतर जवाब मांगा है। आरक्षक शोभा तिर्की पर आरोप है कि 25 जून को रायपुर में आयोजित पुलिसकर्मी परिजनों के हड़ताल का समर्थन का फैसला किया है। लोगों को हड़ताल में शामिल होने के लिए विभिन्न माध्यमों से आह्ववान किया है। शोभा तिर्की को जारी पत्र में पुलिस कप्तान ने कहा है कि ऐसा करना सेवा शर्तों के नियम चार का खुला उल्लंघन है।पुलिस कप्तान ने बिल्हा थाना में पदस्थ आरक्षक शोभा तिर्की को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। पत्र के अनुसार शोभा तिर्की ने पुलिस रेग्यूलेशन के सामान्य सेवा शर्तों और छत्तीसगढ़ सेवा नियम का खुला उल्लंघन किया है। पत्र में कहा गया है कि यदि सात दिनों के भीतर जवाब नहीं पेश किया जाता या संतोषप्रद जवाब नहीं पाया गया तो सेवा समाप्त कर दिया जाएगा।पत्र में पुलिस कप्तान ने कहा है कि प्रचार प्रसार के विभिन्न माध्यमों से जानकारी मिली है कि शोभा तिर्की रायपुर में 25 जून को आयोजित पुलिसकर्मियों के धरना प्रदर्शन के समर्थन में प्रचार प्रसार कर रहे हैं। लोगों को शामिल होने के लिए उत्साहित भी कर रहे हैं। ऐसा करना पुलिस सेवा शर्तो के खिलाफ है। जबकि पुलिस कर्मचारियों को उच्चस्तरीय आचरण और शासन के निर्देशों के प्रति अंसदिग्ध निष्ठा जाहिर करना अनिवार्य है।बावजूद इसके शोभा तिर्की ने पुलिस सेवा में रहकर सेवा की सामान्य शर्तो और छत्तीसगढ़ सिविल सेवा नियम के खिलाफ हड़ताल का समर्थन किया है। ऐसा कर शोभा तिर्की ने सेवा शर्त नियम 4 का उल्लंघन और अनुशासनहीनता का परिचय दिया है। यह जानते हुए भी कि इसे छत्तीसगढ़ सिविल सेवा आचरण नियम 3 (28) (12) में कदाचरण की श्रेणी में रका गया है। बावजूद इसके ऐसा किया जाता है तो माना जाएगा कि अनुशासित पुलिस विभाग को शोभा तिर्की अनुशासनहीनता के लिए प्रेरित कर रहे हैं।

पुलिस कप्तान के पत्र में कहा गया है कि भारतीय संविधान की कंडिका 311 के खण्ड(2) के उपखण्ड ख के अधीन शक्तियों के आधार पर कार्रवाही का प्रावधान है। यदि शोभा तिर्की ने एक सप्ताह के भीतर जवाब पेश नहीं किया या जवाब संतोषजनक नहीं पाया गया तो उन्हें सेवामुक्त कर दिया जाएगा।

नियम और कानून सबके लिए एक
पुलिस कप्तान आरिफ शेख ने बताया कि सबको मालूम होना चाहिए कानून सबके लिए बराबर है। पुलिस का अनुशासन बनाकर रखना है। उसके कंधो पर बहुत जिम्मेदारी है। अनुशासन का पालन करवाने से पहले अनुशासित रहना जरूरी है। शासन का निर्देश और सेवा शर्तों का पालन करना और करवाना पुलिस की जिम्मेदारी है। जानकारी के अनुसार शोभा तिर्की ने प्रथम दृष्टया अनुशासनहीनता का परिचय दिया है। नोटिस जारी कर जवाब मांगा गया है। जवाब मिलने के बाद उचित कदम उठाया जाएगा।

रायगढ़ में भी चेतावनी
रायगढ़ में भी 6 वीं वाहिनी छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल के सभी कमाण्डरों को सेनानी ने पत्र जारी कर 25 जून को रायपुर में होने वाले धरना प्रदर्शन में शामिल नहीं होने को कहा है। पत्र में निर्देश दिया गया है कि यदि कोई जवान धरना में शामिल होता है उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी। सेनानी सभी कमान्डरों को निर्देश दिया है कि आदेश को सभी अधिकारी और कर्मचारी में पढ़कर सुनाया जाए। आदेश के उल्ळंघन पर शासन के निर्देशानुसार सख्त कार्रवाई की जाएगी।

 

loading...
loading...

Comments

  1. By maheshgiri

    Reply

  2. Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...