भालू के हमले में बैगा महिला जख्मी…. सड़क खराब थी… नहीं पहुंच सकी 108 एंबुलेंस… खाट से अस्पताल लाई गई महिला

लोरमी  ( योगेश मौर्य  ) । अचानकमार टाइगर रिजर्व बनने के बाद विस्थापन कर लोगों को  नया जल्दा में बसाया गया था  । जहाँ की निवासी बैगा महिला फगनी बाई पति जरहू बैगा अपने बैल को ढूढ़ने घर से निकली थी ।  बैल को ढूढते जा रही थी कि अचानक भालू फगनी बाई के ऊपर हमला कर दिया । जिसके कारण महिला का जबड़ा बुरी तरह से फट गया है ।  इसके साथ ही महिला के पैर में भी भालू ने घायल कर दिया है ।  किसी भी तरह महिला अपना  बचाव कर भागकर आयी   । जहाँ कुछ लोेगों  ने घायल महिला को देखा तो उसे  महिला को घर लेकर आये  । जिसकी जानकारी वन विभाग को दी गई ।  जहा 108 संजीवनी एक्सप्रेस को फोन किया गया  । लेकिन ग्राम की सड़क खराब होने के कारण 108  वाहन घायल महिला तक नही पहुच पाया । स्थिति को देखते हुए घायल महिला के परिजन खाट के सहारे महिला को लेकर आये  । जहाँ फिर 108 के द्वारा महिला को लोरमी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया । महिला की गम्भीर स्थिति को देखते हुए प्राथमिक उपचार कर सिम्स रिफर कर दिया गया।
प्राथमिक मुवावजे के तौर में मिला मात्र 1 हजार रुपये
 घायल महिला के इलाज के लिए वन विभाग के द्वारा सहायता राशि के रूप में मात्र 1 हजार दिया गया ।  महिला की स्थिति को देखते हुए काफी खर्च लग सकता है ।  ऐसी स्थिति में महिला का पति जरहू जो कि अत्यंत गरीब है कहा से इलाज के लिए पैसा जुटा पायेगा।
वही वन विभाग के परीक्षेत्र अधिकारी केके डड़सेना का कहना है कि अभी सहायता के रूप में 1 हजार रुपये दिया  गया है । उन्होने  बाकी इलाज की राशि बिल देने पर दिए जाने की बात कही।
सागर सिंह बैस पूर्व ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि एटीआर के नाम पर विस्थापन तो कर दिया गया तो है लेकिन राष्ट्रपति के दत्तक पुत्र कहलाने वाले बैगा आदिवासियों को मूलभूत सुविधा नही मिल पा रही है।  अगर सड़क सही रहती  तो 108 महिला तक पहुंच सकता था। महिला को उसके इलाज की राशि व मुवावजे की राशि मिलना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *