कुमारस्वामी की भावुकता पर जेटली का तंज, कहा-हिंदी सिनेमा का ट्रेजडी युग आ गया याद

Arun Jaitley, Bjp, Black Money, Swiss Bank, Panama Papers,नईदिल्ली।कर्नाटक के मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी के हालिया बयान को लेकर केंद्रीय मंत्री अरूण जेटली ने सोमवार को कांग्रेस पर निशाना साधा है।केंद्रीय मंत्री ने कर्नाटक के मुख्यमंत्री को हताश करने का आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस ने चरण सिंह ,चन्द्रशेखर, एच डी देवगौड़ा और आई के गुजराल के साथ भी यही किया था जब इस पार्टी के सहयोग से उनकी सरकारें चल रही थीं। विपक्ष को आड़े हाथ लेते हुए जेटली ने फेसबुक पोस्ट में लिखा कि भारत का नेता ‘बेचारा’ नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि कुछ दिनों पहले ‘हमने देखा कि कुमारस्वामी भावुक हो गये, (उनकी) आंखें भर आईं तथा उन्होंने पुष्पगुच्छ एवं मालाएं स्वीकार करने से इंकार कर दिया।’

बता दें कि कुमारस्वामी ने हाल ही में कांग्रेस के साथ रिश्तों में खटास आने का संकेत देते हुए कहा था कि वह कर्नाटक के मुख्यमंत्री के रूप में खुश नहीं हैं तथा जिस तरह भगवान शिव ने विष पान किया था, उसी तरह वह पीड़ाओं को झेल रहे हैं।गौरतलब है कि कर्नाटक में कुमारस्वामी गठबंधन सरकार के मुख्यमंत्री हैं जहां कांग्रेस बड़ी पार्टी है।

जेटली ने कहा, ‘उन्होंने (एच डी कुमारस्वामी) बेबाकी से अपनी बात को सार्वजनिक तौर पर रखा… एक माननीय मुख्यमंत्री के इन बयानों को सुनकर मेरी स्मृति मुझे हिन्दी सिनेमा के दुखांत दौर के संवादों की ओर ले गयी।’उन्होंने कहा कि बिना विचारधारा वाले अवसरवादी गठबंधन सदैव अपने स्वयं के विरोधाभासों में उलझ जाते हैं।

बीजेपी के वरिष्ठ नेता ने कहा कि ऐसे गठबंधनों का एकमात्र उद्देश्य अस्तित्व बरकरार रखना होता है, राष्ट्र की सेवा नहीं। ऐसे गठबंधनों की आयु भी संदिग्ध रहती है। जेटली ने एक ब्लाग में कहा , ‘यदि इस प्रकार के गठबंधन का प्रधानमंत्री कैमरे के समक्ष सिर्फ इस मंशा के साथ रोये कि वह पद कैसे छोड़ा जाए, तो यह नजारा यूपीए द्वितीय की नीतिगत अपंगता से भी बुरा होगा।’उन्होंने सवाल किया, ‘क्या कर्नाटक उस बात का पूर्व दृश्य है जो कांग्रेस एवं संघीय मोर्चा भविष्य के लिए वादा कर रहा है?’

उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस का दृढ़ता से मानना है कि केवल एक परिवार के सदस्य ही भारत में शासन कर सकते हैं। यदि किसी अन्य को मौका मिलेगा तो उसे उस स्थिति में धकेल दिया जाएगा कि वह अपने हाथ खड़े करे और सार्वजनिक रूप से रोने लगे। केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि पूरा देश पिछले दो माह से कर्नाटक में होने वाले घटनाक्रमों को रूचि के साथ देख रहा है।

उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस द्वारा चौधरी चरण सिंह, श्री चन्द्रशेखर, श्री एच डी देवगौड़ा और श्री आई के गुजराल ने जो किया, उसका यह दोहराव है। यह बिना विचारधारा वाले अवसरवादी गठबंधन है जिसका कोई सकारात्मक एजेंडा नहीं है। उसका यह स्वाभाविक परिणाम है। नकारात्मक एजेंडा का आधार है कि ‘मोदी को (सत्ता से) बाहर रखा जाए।’ जेटली ने कहा, ‘भारत के प्रधानमंत्री एवं उनकी सरकार को भारत के समक्ष आज पेश हो रही चुनौतियों से पार पाना होगा। उन्हें कर्नाटक के मुख्यमंत्री की तरह ‘ट्रेजडी किंग (दुखांत के सम्राट) के रूप में नहीं देखा जा सकता।’

उन्होंने कहा, “यदि इस तरह का गठबंधन विष का प्याला है तो इसे राष्ट्र को पिलाने के बारे में स्वप्न में भी क्यों सोचा जाए? विश्व की सबसे तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था का नेता ‘बेचारा’ नहीं हो सकता।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *