जज्बा का अनोखा रक्षाबंधन….हेरिटेज को बचाने चलाया अभियान…100 साल पुरानी इमारतों को दिया रक्षा का वचन

बिलासपुर–वृक्षों को बचाने पौधों को राखी बांधना, रक्षा के लिए सैनिकों और पुलिस को राखी भेजना अक्सर देखा गया है। कुछ इसी तर्ज पर जज्बा स्पोर्ट्स वेलफेयर सोसाइटी ने  पहली बार शहर के हेरिटेज बिल्डिंग को बचाने का संकल्प लिया है। जज्बा स्पोर्टस के लोगों ने रक्षाबंधन के दिन शहर के सभी हेरिेटेज बिल्डिंग को राखी बांधकर बचाने संकल्प लिया है।
                      शनिवार को सामाजिक संस्था जज्बा के सदस्यों ने अभिनव अभियान चलाया। राखी बांधकर शहर के एतिहासिक इमारतों को राखी बांधकर बचाने का संकल्प लिया है। जज्बा के सदस्यों ने अभियान की शुरूआत दक्षिण-पूर्व मध्य रेलवे हायर सेकेंडरी अंग्रेजी माध्यम स्कूल से की है। सदस्यों ने प्राचार्य के के मिश्रा के साथ संस्था के सदस्यों और बच्चों को फूल देकर इमारत को सहेजने का संकल्प लिया है।
                   हमेशा कुछ नई सोच के साथ सामने आने वाले जज्बा स्पोर्टस वेलफेयर के अध्यक्ष  दीपक अग्रवाल ने बताया कि बिलासपुर विश्वविद्यालय यानी पुराना हाईकोर्ट बिल्डिंग प्रदेश के पुरानी ईमारतों में से एक है। हमने अपने साथियों और विश्वविद्यालय के छात्रों के साथ इमारते की उम्र दराज सीढ़ियों और बिल्डिंग पर चढ़कर राखी बांधी है। राखी बांधकर लोगों को संदेश देने का प्रयास किया है हम अपने धरोहर की इज्जत करें। आने वाली पीढियों को बताएं कि युग बदलने के साथ निर्माण में किस परिवर्तन देखने को मिला है।
        दीपक ने बताया कि रक्षा सूत्र बांधकर अधिकारियों कर्मचारियों और छात्रों को जागरुक किया गया।  संस्था के सदस्य बृजेश हायर सेकेंडरी अंग्रेजी माध्यम स्कूल में भी रक्षा सूत्र अभियान चलाया। ऐतिहासिक बिल्डिंग को बचाने शिक्षकों में छात्रों को जागरुक करने को कहा गया। स्कूल के गेट पर राखी बांधकर समझाने का प्रयास किया गया कि शहर में चुनिंदा ऐतिहासिक धरोहर है। जिन्हे बचाना हमारी नैतिक जिम्मेदारी है। हम सब को एकजुट होकर जिला प्रशासन और राज्य सरकार को ऐतिहासिक इमारतों के रखरखाव और सुरक्षा के लिए दबाव बनाने की जरूरत है।
                      अभियान में प्रमुख रूप से संस्था अध्यक्ष दीपक अग्रवाल, जैकी गुप्ता, सुभाष पांडे, तुषार यादव, किंशुक शर्मा,रिचा शर्मा, आयुष गुप्ता, नैना,वासु, नीरज राम, दीप सलूजा, ऋषभ शर्मा, प्राची तिवारी,विजय ध्रुव, सुरेंद्र रजक समेत कई युवा शामिल हुए।
 केंद्र सरकार की गाइडलाइन
     दीपक अग्रवाल ने बताया कि 2 साल पहले केंद्रीय मानव संसाधन एवं विकास मंत्रालय, विश्वविद्यालय अनुदान आयोग और सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन सीबीएसई ने देशभर में हेरिटेज बिल्डिंग को सहेजने कुलपति और जिम्मेदार अधिकारियों को उचित कदम उठाने कहा था। बावजूद इसके किसी ने आदेश को गंभीरता से नहीं लिया। बिलासपुर हाईकोर्ट की बिल्डिंग धीरे-धीरे जर्जर हो रही है। बरसात में सीपेज की समस्याएं है। रेलवे स्कूल बृजेश स्कूल समेत अन्य मदों में भी सरकार प्रमुखता से ध्यान नहीं दे रही है। जबकि शहर की कई ऐसे बिल्डिंग है जो 100 साल से भी अधिक पुराने हैं। उन्हें सहेजने की सख्त जरूरत है।
loading...
loading...

Comments

  1. Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...