कांग्रेसियों ने कहा पेड़ों की शहादत पर तारामण्डल नहीं..मेयर का बयान..नहीं काटे जा रहे पेड़…आक्सीजोन का विरोध करने वाले प्लेनेटोरियम के खिलाफ

  बिलासपुर— व्यापार विहार पहुंचकर कांग्रेसियों ने आक्सीजोन क्षेत्र में पौधा काटे जाने का विरोध किया है। कांग्रेस नेताओं ने पेड़ जाने का विरोध करते हुए कहा कि हरे भरे पौधों का काटा जाना सुप्रीम कोर्ट गाइड लाइन के खिलाफ है। पेड़ों को काटे जाने से पहले वन विभाग को भी विश्वास में नहीं लिया गया है। कांग्रेस नेताओं ने हंगामा मचाकर जेसीबी से हो रहे काम को ना केवल रूकवाया। बल्कि पेड़ काटने वालों को भी रोका।
               कांग्रेसियों को जानकारी मिली कि व्यापार विहार स्थित घोषित आक्सीजोन क्षेत्रों के पेड़ों को काटा जा रहा है। इसके बाद मौके पर पहुंचकर कांग्रेसियों ने जमकर धमाल मचाया। दर्जनों की संख्या में मौके पर पहुंचकर कांग्रेसियों ने पेड़ कटाई को रूकवा दिया। जमीन समतल करने पहुंची जेसीबी को भी बंद करवा दिया। इसके बाद माहौल तनावपूर्ण हो गया।
               मालूम हो कि शासन ने व्यापार विहार स्थित लगभग सवा 3 एकड़ जमीन को आक्सीजोन घोषित किया है। करीब एक साल पहले जमीन को ऑक्सी जोन घोषित किया गया है। घोषणा के बाद सवा तीन एकड़ जमीन में  वन विभाग बिलासपुर ने 500 से अधिक पौधों का रोपण किया। कांग्रेस नेता शैलेन्द्र जायसवाल,शिवा मिश्रा और नरेन्द्र बोलर ने कहा कि पौधरोपण समेत जमीन को तात्कालीन समय ठीक ठाक करने में करीब 7 लाख रूपए से अधिक खर्च हुए।
                 एक साल में ज्यादातर पौधे 12 फुट की ऊंचाई तक पहुंच गए हैं। अब बिना सूचना सभी पेड़ों को काटा जा रहा है। जबकि इसकी जानकारी ना तो वन विभाग को है..ना ही कांग्रेस या भाजपा पार्षदों को ही है।
                              कांग्रेस नेताओं ने कहा कि निगम के सामान्य सभा में बिना स्थान का जिक्र किए प्रस्ताव लाया गया था कि व्यापार विहार में प्लेनेटोरियम का निर्माण किया जाएगा। तारामण्डल बनाने में  7 करोड़ 62 लाख रूपए जिला खनिज न्यास देगा। कलेक्टर के निर्देश पर टेण्डर भी निकाला गया। लेकिन ना तो सामान्य सभा में और ना ही किसी अन्य माध्यमों से बताया कि व्यापार विहार में तारामण्डल कहां बनाया जाएगा। टेंडर जारी करने के बाद यकायक नगर निगम ने तारामण्डल के लिए ऑक्सीजोन के पौधों को काटना शुरू कर दिया।
               शिवा मिश्रा,शैलेन्द्र जायसवाल,नरेन्द्र बोलर ने बताया कि किसी भी ग्रीन बेल्ट से पौधों और पेड़ों को हटाने के लिए सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन पालन करना जरूरी होता है। लेकिन आक्सीजोन के पौधों को काटते समय गाइडलाइन का पालन नहीं किया जा रहा है। निगम ने इसकी जानकारी वन विभाग को भी नहीं दिया है। यह जानते हुए भी पेड़ पौधा काटना गलत है। बावजूद इसके निगम ठेकेदार बेरहमी से ऑक्सिज़ोन के पौधों की बेरहमी से हत्या करने बाज नहीं आए। बिना किसी विभाग की अनुमति से निगम अधिकारी ऑक्सीजोन को उजाड़ने की कोशिश कर रहे हैं।
आक्सीजोन को उजड़ने नहीं दिया जाएगा
                                     कांग्रेस नेताओं कहा कि बिलासपुर शहर में पेड़ पौधों का आकाल है। विकास के नाम पर सैकड़ों पेड़ों को मौत के घाट उतारा गया। जबकि शहर का तापमान गर्मी के दिनों में 50 डिग्री को टच कर देता है। ऐसे में पेड़ों को काटना उचित नहीं है। कांंग्रेसियोंं ने यह भी कहा कि प्लेनेटोरियम के नाम पर आक्सीजोन की शहादत ठीक नहीं। शहर में बहुत जगह है..शासन चाहे तो तारामण्डल को दूसरे जगह पर बनवा ले। लेकिन इस तरह वन परिक्षेत्र को उजाड़ने नहीं दिया जाएगा।
विरोध के लिए कांग्रेसी कर रहे विरोध…कुछ तो करें अच्छा काम
                महापौर किशोर राय ने कहा कि जब कांग्रेसियों को सड़क में गड्ठा मिल नहीं रहा तो झाडियों की रखवाली करने व्यापार विहार पहुंच गए। दरअसल मुझे जानकारी मिली है कि पौधों को काटा नहीं बल्कि विस्थापित किया जा रहा है। पेड़ काटने का सवाल ही नहीं उठता है। व्यापार विहार में जिस जगह काम चल रहा है वहां पहले से ही पेड़ नहीं है। जमीन को निगम ने बचा कर मौके के लिए सुरक्षित रखा था। अब जब कुछ काम शुरू हुआ है तो कांग्रेसियों के पेट में मरोड़ उठने लगी है। एक समय था जब जमीन को आक्सीजोन घोषित किया गया तो कांग्रेसियों को जमीन की कीमत याद आने लगी थी। अब तारामण्डल बनाने का फैसला लिया गया तो कांंग्रेसियों के पेट में फिर दर्द उठने लगा। यह जानते हुए भी बच्चों के समग्र विकास में तारामण्डल मील का पत्थर साबिर होगा। कांग्रेसियों के पास कुछ काम तो है नहीं…चलो तारामण्डल का विरोध किया जाए। कैसे समझाएं की चिल्ला चोट करने से पुराने दाग नहीं धुलने वाले। विकास विरोधियों को अभी पांच साल विपक्ष में ही रहना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *