महासम्मेलन को सफल बनाने बसपा की कवायद…नेता ने पदाधिकारियों को कहा..आठों विधानसभा से लाए 10-10 हजार भीड़

बिलासपुर—बसपा की तिलकनगर नेहरू चौक स्थित सामुदायिक भवन में उत्तरप्रदेश से राज्यसभा सांसद और प्रदेश बसपा प्रभारी अशोक सिद्धार्थ की अध्यक्षता में बैठक हुई। कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि उप्र बसपा विधायक दल के नेता लालजी वर्मा उपस्थित हुए। इस दौरान करीब तीन सौ से अधिक बसपा कार्यकर्ता सरकंडा खेल परिसर मैदान में 13 अक्टूबर को  प्रस्तावित जकाँछ जे-बसपा के संयुक्त महासम्मेलन के तैयारियों को लेकर चर्चा की।
                 बैठक में कार्यक्रम को लेकर कार्यकर्ताओं को जवाबदारी गयी। इसके बाद बिलासपुर लोकसभा स्तरीय बसपा पदाधिकारियोंऔर कार्यकर्ताओं की भी बैठक हुई। बैठक में प्रमुख रूप से बसपा प्रदेशाध्यक्ष ओ पी बाजपेयी, जिलाध्यक्ष हेमचंद मिरी,मुंगेली जिलाध्यक्ष लखन पाटले,टी आर निराला,मनीष बक्शी,देव कुमार कनेरी, भागवत पात्रे, मोहन मिश्रा, मनहरण पारकर, छेदी भार्गव,छवी विमल सेन,पूर्व विधायक रामेश्वर खरे विशेष रूप से मौजूद थे।
                 कार्यक्रम को अशोक सिद्धार्थ ने संबोधित किया। सिद्धार्थ ने बताया कि 20 सितम्बर को मायावती और जकाँछ जे अध्यक्ष ने संयुक्त रूप से छग में गठबंधन कर चुनाव लड़ने  का एलान किया। प्रदेश की 55 सीटों पर जोगी कांग्रेस और बसपा 35 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। सिद्धार्थ ने कार्यकर्ताओ को बताया कि बसपा की पहचान अनुशासन और बसपा सुप्रीमो बहन मायावती की प्रतिबद्धता से है। दोनों बातें देश और प्रदेश में बसपा की प्रमुख पहचान है।
             सिद्धार्थ ने बताया कि गठबंधन में सबको पूरे 90 सीटों पर मेहनत करना है। छग में समता मूलक समाज को स्थापित करना बसपा का लक्ष्य है। इस हासिल करना हमार लक्ष्य भी है। कर्नाटक में हुए विधानसभा चुनाव मे बसपा-जेडी(एस) गठबंधन का उदाहरण देते हुए सिद्धार्थ ने बताया कि भले ही वहाँ बसपा को एक सीट जीतने में सफलता मिली।
                  बैठक को लालजी वर्मा ने भी संबोधित किया। वर्मा ने कहा कि बसपा-जकाँछ जे गठबंधन से मध्यप्रदेश, राजस्थान, छत्तीसग़ढ़ समेत कुल चार राज्यो में चुनाव के पहले अजित जोगी के साथ बहन मायावती ने संयुक्त महासम्मेलन में आने का फैसला किया। पार्टी कार्यकर्ताओं को रिचार्ज करते हुए कहा कि हमे छग में गठबंधन के फैसले के तहत अजीत जोगी को मुख्यमंत्री बनाने और देश मे बहन सुश्री मायावती को प्रधानमंत्री बनने के उद्देश्य से विधानसभा चुनाव में बिना किसी मतभेद और अंतर्कलह के गठबंधन को जीताना है।
10-10 हजार भीड़ लाने का आदेश
                        वर्मा ने कार्यकर्ताओं को बताया किजो काम 67 सालों में उ प्र में अन्य पार्टी की सरकार नहीं कर सकी। बसपा की मायावती सरकार ने मात्र 7 साल  में कर दिखाया। महासम्मेलन 13 अक्टूबर को बिलासपुर में आयोजित किया जाएगा। सभा में बिलासपुर लोकसभा के सभी आठों विधानसभा क्षेत्रों के पदाधिकारी और कार्यकर्ताओं को प्रति विधानसभा 10-10 हजार की भीड़ लाने को कहा।
बेलतरा और तखतपुर की मांग
                      इसके बाद दोंनो नेता प्रदेशाध्यक्ष ओ पी बाजपेयी के साथ छग भवन विश्राम करने पहुंचे। यहां पर मस्तूरी और बेलतरा विधानसभा क्षेत्र के कार्यकर्ता और पार्टी पदाधिकारियों ने भेंट कर मस्तूरी के साथ बेलतरा और तखतपुर में बसपा प्रत्याशी उतारे जाने की मांंग की। दोनों नेताओं ने कहा कि गठबंधन धर्म का पालन किया जाएगा। फिलहाल सभी लोग 13 अक्टूबर को होने वाले महासम्मेलन को सफल बनाने में ध्यान लगाएं।
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...