नीचे खान…ऊपर धान…हाय रे किसान..सरकार ने थमा दिया कटोरा..आप नेता संजय ने कहा…दोनों पार्टियों ने लूटा

बिलासपुर– आम आदमी पार्टी नेता राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने कहा कि दिल्ली पावर जनरेट नहीं करता…राज्य की अपनी नदी भी नहीं है…जमीन के अन्दर मिनरल्स भी नहीं…बावजूद इसके दिल्ली ने पिछले तीन सालोंं में वह कर दिखाया कि देश विदेश के लोग व्यवस्था को समझने बूझने आ रहे हैं। प्रदेश का शिक्षा व्यय बढ़ा दिया गया है। मोहल्ला क्लिनिक आज विश्व चर्चा का विषय है। लेकिन छत्तीसगढ़ की धरती रत्नगर्भा है…जमीन के नीच खान है…ऊपर धान है…देश में छत्तीसगढ़ को धान का कटोरा कहा जाता है। बावजूद इसके यहां के लोग गरीब हैं….सरकार ने उल्टा किसानों के हाथ में कटोरा थमा दिया है। कांग्रेस ही नहीं भाजपा ने भी प्रदेश को जमकर लूटा है। विधानसभा सभा चुनाव में दोनों ही पार्टियों की करारी हार होने वाली है। पत्रवार्ता में संजय सिंह ने भाजपा, कांग्रेस मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंंह समेत पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी पर जमकर निशाना साधा।

                   बिल्हा विधानसभा में आम आदमी पार्टी प्रत्य़ाशी जसबीर सिंह के समर्थन में राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने विशाल आमसभा को संबोधित किया। जसबीर सिंह के समर्थन में जनता से आशीर्वाद भी मांगा। संजय ने आम जनता को संबोधित कर कहा कि दोनों पार्टियों ने रत्नगर्भा धरती का भरपूर शोषण किया। देखकर दुख होता है कि दिल्ली की धरती के नीचे और ना ही ऊपर कुछ नहीं है। बावजूद इसके दिल्ली में विकास की बयार है। प्रश्न उठता है कि आखिर छत्तीसगढ़ जैसे अमीर राज्य में किसानों,युवाओं,व्यापारियों,मजदूरों आम जनता की हालत खराब क्यों है।

नीचे खान…ऊपर धान

आमसभा के बाद राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने पत्रवार्ता को भी संबोधित किया। सवाल के जवाब में संजय सिंह ने कहा कि छत्तीसगढ़ की धरती के नीचे से भरपूर बाक्साइट,कोयला,डोलोमाइट,हीरा,समेत तमाम खनिज का दोहन किया जा रहा है। धरती के ऊपर छत्तीसगढ़ को धान का कटोरा कहा जाता है। यहां धान की भरपूर पैदावार होती है। लेकिन आम जनता और किसानों को गरीब के साए में जीवन बीताना पड़ रहा है। प्रदेश का खनिज व्यापारियों को कौड़ियों के भाव दिया जा रहा है। किसानों का धान टकों में खरीदा जा रहा है। कुल मिलाकर कांग्रेस और भाजपा नेताओं ने किसानों और खदानों का भरपूर शोषण किया। जनता कंगाल और नेता मालामाल है।

सरकार बनने पर 2600 रूपए क्विंटल धान

              संजय ने बताया कि प्रदेश में सरकार बनने पर किसानों को 26 सौ रूपए प्रति क्विंटल बोनस दिया जाएगा। मिनरल्स का उपयोग जनहित के शर्तों पर दोहन किया जाएगा। संजय ने बताया कि दिल्ली के पास कुछ नहीं है। हमने स्कूल 8 हजार स्कूल खोले लेकिन छत्तीसगढ़ में 36 सौ स्कूलों को बंद कर दिया गया। दिल्ली में शिक्षा पर बजट का 28 प्रतिशत खर्च किया जा रहा है लेकिन ऐसा कोई राज्य नहीं है जो दिल्ली के बराबर शिक्षा पर व्यय करता हो। हम स्कूलों को एसी बना रहे हैं। स्वास्थ्य व्यवस्था में आमूल चूल परिवर्तन किया गया है। देश दुनिया के लोग मोहल्ला क्लिनिक देखने आ रहे हैं। संजय ने प्रदेश में शराब बन्दी के मांग का समर्थन किया।

शराब बंदी संभव नहीं..नक्सल समस्या करेंगे दूर

क्या दिल्ली में शराब बंदी को लागू किया जाएगा। संजय ने कहा कि दिल्ली में शराब बंदी संभव नहीं है। यहां देश दुनिया के कार्यालय और दूतावास हैं। दो सरकार काम करती है। इसलिए दिल्ली में फिलहाल शराबबंदी संभव नहीं है। यदि लोगों ने मांग किया तो कुछ ना कुछ उपाय किया जाएगा। संजय ने यह भी माना कि शराब बंदी संभव नहीं है।

नक्सल समस्या पर संजय ने कहा कि नक्सल समस्या के कई कारण हैं। समस्या को सुनियोजित तरीके से दूर किया जा सकता है। यदि हमारी सरकार बनेगी तो नक्सल समस्या को दूर किया जाएगा।

राष्ट्रीय पार्टी बनने की कवायद

                  क्या राष्ट्रीय पार्टी बनने के लिए ही आम आदमी पार्टी विधानसभा चुनाव लड़ रही है या फिर चुनाव जीतना भी चाहती है। संजय ने बताया कि आम आदमी पार्टी चुनाव में दस्तक देने के लिए नहीं बल्कि जीतने के लिए चुनाव लड़ रही है। हमने देखा कि बिल्हा में आप नेता सरदार जसबीर सिंह को जनता बहुत प्यार करती है। चुनाव परिणाम हमारे पक्ष में आएगा। संजय ने यह भी बताया कि हम दावा नहीं करते कि सभी 90 सीटों पर जीतेंगे। लेकिन हम चुनाव हर हालत में जीतेंगे।

दोनों राज्यों की तासीर में अन्तर

दिल्ली और छत्तीसगढ़ की तासीर में बहुत अन्तर है। संजय ने बताया कि जनता की पीड़ा और जरूरतें एक है। जेटली ने कहा था कि दिल्ली में आप को चार सीट नहीं मिलेगी। इससे ज्यादा मिलने पर राजनीति छोड़ देंगे। लेकिन हमने 28 सीटों को जीता। फिर दुबारा 67 सीट जीतकर दिल्ली पर कब्जा किया। भाजपा और कांग्रेस की बोलती बंद हो गयी। ऐसा ही परिणाम यहां भी आने वाला है।

जनहित कार्यों के कारण विछड़े

आशुतोष,कुमार विश्वास समेत कई नेताओं के पार्टी छोड़ने के सवाल पर संजय ने कहा…साथियों के बिछड़ने का दुख है…लेकिन जनहित कार्यों के कारण कुछ सहन करना भी पड़ता है। क्या यह नेता जनहित कार्यों में बाधक थे…सवाल के जवाब में कहा मैने ऐसा नहीं कहा…लेकिन नेताओं के दूर जाने पर गहरा दुख है।

पत्रवार्ता में बेलतरा प्रत्याशी अरविन्द पाण्डेय, बिल्हा प्रत्याशी सरदार जसबीर सिंह और संगठन के नेता सूरज उपाध्याय विशेष रूप से मौजूद थे।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...