नाराज महिलाओं ने कहा नहीं करेंगे मतदान…कलेक्टर कार्यालय का किया घेराव…कहा..अब करेंगे भूख हड़ताल

बिलासपुर—वसुन्धरा नगर के लोगों ने आज अच्छी खासी संख्या में कलेक्टर कार्यालय पहुंचकर घेराव किया। नाराज महिलाओं ने कहा दो साल से कभी कलेक्टर कार्यालय तो कभी मंत्री..कभी सांसद सबका दरवाजा खटखटा चुके हैं। हर बार आश्वासन दिया जाता है कि शराब दुकान को लेकर व्यवस्था करेंगे। कभी चखना वालों को हटा दिया जाता है तो कभी कुछ लोगों को धर पकड़ के बाद छोड़ दिया जाता है। हमारी मांग शराब दुकान हटाने को लेकर है। बहुत थक चुके हैं। हम लोगों ने फैसला किया है कि अब वोटिंग नहीं करेंगे।

                 सैकड़ों की संख्या में आज महिलाओं के साथ वसुन्धरा नगर के लोग शराब दुकान हटाने की मांग को लेकर कलेक्टर कार्यालय पहुंचे। महिलाओं की अगुवाई कर रही रूक्मणी दीवान ने कहा पिछले दो साल से मंत्री,संत्री,सांसद और कलेक्टर कार्यालय का हम लोग चक्कर काट रहे हैं। हर बार वसुन्धरा नगर से शराब दुकान हटाने की मांग करते हैं। कभी आश्वासन मिलता है तो कभी डांट कर भगा दिया जाता है।

    रूक्मणी दीवान ने बताया कि वसुन्धरा नगर के बीच में सरकार ने शराब दुकान खोल दिया है। हम लोगों शराब दुकान खुलते समय विरोध किया था..लेकिन किसी ने हमारी आवाज को नहीं सुना। हुआ वहीं जिसे लेकर मोहल्लेवासियों को आशंका थी। शांत कालोनी उपद्रवियों का अड्डा बन गया है। कभी मर्डर तो कभी मां बहन की गालियों सुनने को मिल ही जाती है। यदि मोहल्ले के लोगों ने रोक टोक किया तो उस पर शराबी लोग हमला कर देते हैं। थाने में भी शिकायत की लेकिन कुछ हासिल नहीं हुआ।

            नाराज महिलाओं ने बताया कि रिंग रोड-2 से मात्र 100 मीटर की दूरी पर बीच मोहल्ले में शराब दुकान है। मुख्य मार्ग से लेकर मोहल्ला के अन्दर गलियों में लोगों के घर के सामने शराबी अपनी गाड़ी खड़ी कर देते हैं। रोक टोक करने पर जीना मुश्किल कर देते हैं। हम लोग बड़े आदमी भी नहीं है कि कहीं दूसरी जगह बंगला हो और बस्ती छोड़कर चले जाए। वसुंधरा नगर को शराबियों और सरकार के हवाले कर दें। रूक्मणी दीवान समेत सभी महिलाओं ने बताया कि बीच सड़क में शराबी लोग शराब की बोतल खोलकर बैठ जाते हैं। उल्टी दस्त पेशाब कर देते हैं। यदि किसी ने कुछ कहा तो उसकी टोपी उछालने से परहेज भी नहीं करते हैं।

               वसुन्धरा नगर वासियों ने कहा कि शराबी लोग आए दिन स्ट्रीट लाइट को पत्थर मारकर तोड़ देते हैं। महिलाएं बच्चियों के गुजरने पर अश्लील गालियां देते हैं। पढ़ने वाली जवान छात्र छात्राओं का स्कूल कालेज आना जाना मुश्किल हो गया है। कालोनी के लोग खून के आंसू रो रहे हैं। अब तो छात्राओं ने ट्यूशन जाना भी बंद कर दिया है।

             रूक्मणी दीवान ने बताया कि शराब दुकान आने के बाद अभी तक हत्या से लेकर कई हादसे हो चुके हैं। शराब दुकान के अन्दर से तेज आवाज में गाने बजाए जाते हैं। किसी की हिम्मत नहीं होती कि दुकान में जाकर शिकायत करें। रूक्मणी के अनुसार हम लोगों ने शराब दुकान को हटाने को लेकर कई बार धरना प्रदर्शन किया लेकिन कुछ हासिल नहीं हुआ। अधिकारियों से लेकर नेताओं का भी दरवाजा खटखटाया हमारी आवाज को किसी ने नहीं सुना। समझ में नहीं आ रहा कि अब क्या करें।

              नाराज महिलाओं ने कहा कि जब हमारे रक्षक ही हमारी रक्षा नहीं कर सकते तो मतदान कर हम अपने कष्टों को क्यों बढ़ाए। उन्होने यह भी कहा कि दो एक बार चखना दुकान हटाया गया। जबकि हम लोग चाहते हैं कि वसुन्धरा नगर से शराब दुकान को हमेशा के लिए हटा दिया जाए। अन्य़था अब कालोनी वासी भूख हड़ताल करेंगे।

A

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *