शैलेश की टिकट के खिलाफ कांग्रेस भवन में हंगामा… तोड़फोड़…. अभय बैठे अनशन पर

बिलासपुर । मौजूदा विधानसभा चुनाव के लिए काांग्रेस ने लम्बे इंतजार के बाद गुरूवार को दोपहर बाद उम्मीदवारों की सूची जारी कर दी है। जिसमें बिलासपुर सीट से शैलेश पाण्डेय को टिकट दी गई है। इसे लेकर कांग्रेस में बगावत की शुरूआत हो गई है।कांग्रेसियों ने इसे लेकर कांग्रेस भवन में जमकर तोड़फोड़ की है और शैलेश पाण्डेय मुर्दाबाद के नारे लगाए हैं। कांग्रेसी कांग्रेस भवन के सामने धरने पर बैठ गए हैं। कांग्रेस प्रवक्ता अभयनारायण राय ने पार्टी के इस फैसले के खिलाफ कांग्रेस भवन के सामने आमरण अनशन शुरू कर दिया है।

जैसा कि मालूम है कि पिछले कई दिनों से बिलासपुर सीट से कांग्रेस टिकट को लेकर दिल्ली में मशक्कत हो रही थी और लोग अपने-अपने तरीके से  अटकलें लगा रहे थे। आखिर सस्पैंस खत्म कर गुरूवार को दोपहर बाद जारी सूची में बिलासपुर से शैलेश पाण्डेय को कांग्रेस का उम्मीदवार घोषित कर दिया गया। एआईसीसी जनरल सेक्रेटरी मुकुल वासनिक के दस्तखत से जैसे ही सूची सोशल मीडिया में वायरल हुई कांग्रेसियों में प्रतिक्रिया भी शुरू हो गई। कांग्रेसी दोपहर बाद कांग्रेस भवन में  जाम होने लगे हैं और वहां का माहौल गरम है । धीरे-धीरे वहां पर भीड़ बढ़ती जा रही है और नारेबाजी भी शुरू हो गई। कांग्रेसियों ने शैलेश पाण्डेय मुर्दाबाद के नारे लगाए । इतना ही नहीं कांग्रेस भवन के भीतर बैठे जिला कांग्रेस अध्यक्ष विजय केशरवानी और शहर अध्यक्ष नरेन्द्र बोलर सहित कुछ लोगोँ को बाहर आने के लिए कहा । इसके बाद नौजवानों ने कांग्रेस भवन के भीतर घुसकर जमकर तोड़फोड़ शुरू कर दी। विजय कोशरवानी और नरेन्द्र बोलर समझाइस देते रहे।

कांग्रेसियों का कहना है कि बिलासपुर सीट से  49 लोगों ने टिकट के लिए आवेदन दिया था। उनमे से किसी को भी टिकट देना था। लेकिन ऐसे व्यक्ति को टिकट दी गई है,जिसने आवेदन ही नहीं दिया है। लोग बिलासपुर से टिकट बदलने की मांग कर रहे हैं। उनका कहना है कि जब दुर्ग में उम्मीदवार बदला जा सकता है तो बिलासपुर में क्यों नहीं बदला जा सकता । इस दौरान कई लोगों ने मोबाइल पर पार्टी के बड़े नेताओँ से भी बात की और उन्हे अपनी भावनाओँ से अवगत कराया। बताया गया है कि लोगों ने नेता प्रतिपक्ष टी.एस.सिंहदेव और भुवनेश्वर कलिता से बात की है।

उधर कांग्रेस प्रवक्ता अभय नारायण राय  ने पार्टी के इस फैसले के खिलाफ कांग्रेस भवन के सामने आमरण अनशन शुरू कर दिया है। उनका कहना है कि ऐसे व्यक्ति को बिलासपुर की टिकट दी गई है, जिसने यहां से अपना आवेदन भी नहीं दिया था और जिसे शहर के कार्यकर्ता भी नहीं पहचानते हैं। उस व्यक्ति के नाम पर रायशुमारी भी नहीं की गई। यदि शहर के किसी भी कांग्रेसी नेता-कार्यकर्ता को टिकट दी जाती तो सभी स्वीकार कर लेते। लेकिन जिस तरह से बिलासपुर में उम्मीदवार थोपा गया है, इसे बर्दाश्त नहीं किया जा सकता । उन्होने कहा कि जो लोग वर्षओं से बिसलासपुर के लिए काम करते रहे , उनके नाम को छोड़कर ऐसे व्यक्ति को टिकट दी गई है, जो बिलासपुर का मतदाता भी नहीं है। और मात्र एक साल लपहले कांग्रेस में आए हैं। यह बिलासपुर शहर और यहां के कांग्रेस कार्यकर्ताओँ का अपमान है। इसके विरोध में उन्होने कांग्रेस भवन के सामने आणरण अनशन  शुरू कर दिया है। उनका कहना है कि टिकट का फैसला बदले जाने तक वे अनशन पर रहेंगे।

कांग्रेस नेता धर्मेश शर्मा ने कहा कि इस फैसेले के खिलाफ सभी पदाधिकारी एक साथ इस्तीफा देंगे। जिन्होने संघर्ष किया उन्हे छोड़कर जिस तरह पैराशूट को बिलासपुर में उतारा गया है, उसे बिलासपुर के कांग्रेसजन स्वीकार नहीं करेंगे। जब दुर्ग में उम्मीदवार बदला जा सकता है तो फिर बिलासपुर में भी बदला जाना चाहिए। शहर कांग्रेस महामंत्री अरविंद शुक्ला ने भी कहा कि जिन लोगों ने आवेदन दिया था , उनमें से किसी को भी टिकट दी जाती तो स्वीकार्यता होती । लेकिन जिस तरह से बिलासपुर का उम्मीदवार तय किया गया है, उसे स्वीकार नहीं किया जाएगा। कांग्रेस भवन में गहमा-गहमी का माहौल अभी बना हुआ है। पार्षद तैय्यब हुसैन , शहर युवा कांग्रेस अध्यक्ष शिवा नायडू ने कहा कि कांग्रेस टिकट को लेकर जो फैसला किया है उस पर यह कार्यकर्ताओँ की प्रतिक्रिया है। इस पर पार्टी नेतृत्व को पुनर्विचार करना चाहिए।

 

Comments

  1. By royal paints

    Reply

  2. By ANWAR KHAN

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *