2030 तक भारत बन जाएगा मधुमेह रोगियों का केन्द्र…अपोलो चिकित्सक और डायटीशियन ने कहा…अनियमित दिनचर्या से बढ़ी परेशानी

बिलासपुर—अपोलो डॉक्टर मनोज राय और व्ही.चन्दा ने बताया कि अनियमित दिनचर्या और खानपीन ही डायबिटीज की जड़ है। लोग अब मेहनत कम और आहार गलत ले रहे हैं। जिसके कारण आज समूचा विश्व मधुमेह की चपेट में है। डायबीटिज से परहेज के लिए जरूरी है कि हम खान पान और शारीरिक श्रम पर ध्यान दें। यदि सब कुछ इसी तरह से चलता रहा तो साल 2030 तक भारत में सबसे अधिक डायबिटीज के मरीज होंगे।

           बुधवार को बिलासपुर डायबिटीज सोसायटी संस्था जनमानस में विश्व मधुमेह दिवस पर लोगों में जागरूकता के लिए सीएमडी कॉलेज मैदान में शिविर का आयोजन करेगा।

            विश्व मधुमेह दिवस को ध्यान में रखते हुए पत्रकार वार्ता में अपोलो अस्पताल के फिजिशियन डॉ. मनोज राय और चीफ डायटिशियन चम्पा वेदुला ने बताया कि हमारी जीवन शैली अनियमित हो चुकी है। शारीरिक श्रम में कमी के साथ भोजन में बदलाव आ गया है। श्रम से अधिक ऊर्जा ली जा रही है। जो निश्चित डायबीटिज का महत्वपूर्ण कारण भी है। डायबीटीज से बचने के लिए आदतों में सुधार की जरूरत है।

                            डॉ.मनोज राय ने कहा कि हम अधिक कैलोरी और वसा वाला भोजन ले रहे हैं। डॉ.राय ने बताया कि डायबीटिज टाइप 1 और टाइप 2 प्रकार के होते हैं। टाइप 2 डायबिटीज या मधुमेह सबसे बड़ा कारण है। डायबिटीज के कारण कई बीमारियों का जन्म होता है। इसमें ह्रदयाघात भी एक रोग है। बचने के लिए मधुमेह रोगियों को दवा के साथ खान-पान की शैली में ध्यान देने की जरूरत है।

         अपोलो डायटिशियन चम्पा वेमुला ने कहा कि हमें डीप फ्राइड भोजन नहीं करना चाहिए। तेल एक व्यक्ति के लिए माह में सिर्फ आधा लीटर पर्याप्त है। खून में शक्कर की अधिकता और कमी दोनों ही खतरनाक है। मधुमेह के रोगियों को बहुत मीठे फल नहीं खाने चाहिए। हरी भरी सब्जियों का उपयोग खाने में अधिक करें। भोजन में दाल का होना बहुत जरूरी है।

                      डॉ. राय और डायटीशियन ने कहा कि चिकित्सक के परामर्श पर समय पर निश्चित मात्रा में भोजन लिया जाए। कम से कम 30 से 45 मिनट तक का योग और व्यायाम किया जाना जरूरी है।

            प्रेसवार्ता के पहले और बाद में अपोलो चिकित्सक और डायटीशियन की निगरानी मुफ्त जांच शिविर का आयोजन किया गया। इस दौरान ब्लड प्रेशर, शुगर की जांच की गयी। ईसीजी भी की गयी। डा. ए. नायडू ने जांच के बाद चिकित्सकीय परामर्श भी दिया।

                                      डॉ. मनोज राय और वेदुला ने बताया कि बुधवार की सुबह विश्व मधुमेह दिवस पर बिलासपुर डायबिटीज सोसायटी के बैनर तले सीएमडी मैदान में निःशुल्क जागरूकता शिविर का आयोजन किया जाएगा। इस दौरान योगा, जुम्बा, एरोबिक, निःशुल्क डायबिटीज जांच, वाकेथान और फीटेथान की जानकारी दी जाएगी।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...