Chhattisgarh:जोगी कांग्रेस ने की बैलेट से चुनाव की मांग,कहा-आयोग पता लगाए,जर्मनी और जापान ने EVM को क्यों नकारा

रायपुर—जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ मीडिया प्रमुख इकबाल अहमद रिजवी ने कहा है कि विधानसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट से हुए चुनाव को लेकर प्रदेश में संदिग्धता का वातारण है। जनता निराकरण चाहती है। पहले बैलेट पद्धति से होने वाले चुनावो में शंका का अभाव था। जबकि अभी हुए चुनाव में ईव्हीएम को लेकर जनता में भयंकर अविश्वास है।
           इकबाल रिजवी ने बताया कि छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में लगभग 1 हजार ईवीएम और वीवीपैट मतदान शुरू होने के साथ खराब हो गए। ईव्हीएम को बदलने और सुधारने में समय खराब हुआ। इससे जाहिर होता है कि ईवीएम और वीवीपैट निष्पक्ष और पारदर्शी नही है। ईवीएम और वीवीपैट या तो तकनीकी तरीके से खराब हुए या जानबूझकर खराब किया गया। दोनो मशीनों की संदिग्धता का निराकरण जनता चाहती है।
         रिजवी ने बताया कि दोनो मशीनो में हुई खराबी की सबसे पहले निष्पक्ष जांच जरूरी है। ईवीएम के साथ वीवीपैट से निकली पर्चियो की गिनती भी जनहित में जरूरी है। जांच के बाद दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा। ईवीएम पद्धति पर उठ रही उगलियो पर रोक भी लग सकेगी।
                 रिजवी ने कहा है कि इस पद्धति के जनक जापान समेत जर्मनी और अमेरिका जैसे पश्चिमी देशो ने ईवीएम को तिलाजंली देकर वापस बैलेट को स्वीकार किया है।  भारत निर्वाचन आयोग को एक सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल जापान समेत अन्य पुनः बैलेट पद्धति पर वापस आने के कारणों का पता लगाना चाहिए। लोकसभा चुनाव के पहले सभी देशो में प्रतिनिधि भेजा जाए। ईवीएम का उपयोग क्यों बंद हुआ जानकारी लें।  आयोग से अपेक्षा है कि जनमत की प्रबल आवश्यकता और आकांक्षा के निराकरण के लिए परंपरागत बैलेट पेपर प्रणाली को शुरू किया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *