प्राचार्या ने कहा…ईडली डोसा बनाने में फायदा…3 बच्चे स्कूल से बाहर..अभिभावक को दिखाई औकात..NSUI नेता भी अपमानित

बिलासपुर—ड्रीम इंडिया स्कूल प्रबंधन की तानाशाही की शिकायत जिला शिक्षाधिकारी तक पहुंची है। अभिभावक ने जिला शिक्षाधिकारी कार्यालय पहुंचकर लिखित शिकायत में बताया कि बीच मात्र कुछ रूपयों के लिए प्राचार्य ने बच्चों को स्कूल से बाहर निकाल दिया है। जबकि सालाना फीस देने में ना केवलसम बाकी है। बल्कि कुल फीस का मात्र 6 हजार रूपए ही बकाया है। निवेदन के बाद भी आज तीनों बच्चों को मैडम ने यह कहकर क्लास से निकाल दिया कि इडली डोसा बनाओ। इसी में कल्याण है। फीस नहीं दे सकते तो स्कूल में कोई जगह नहीं है।

              ड्रीम स्कूल प्रबंधन के खिलाफ आज एक अभिभावक ने जिला शिक्षाधिकारी से बच्चों को बीच सत्र में स्कूल से बाहर किए जाने का आरोप लगाया है। संजय धुडयानी ने बताया कि वह ठेला में ईडली डोसा का दुकान लगाता है। जीवोकोपार्जन का एक मात्र साधन भी है। उसके तीन बच्चे हैं। दो बेटे सन्नी और विक्की धुडयानी ड्रीम इंडिया स्कूल उस्लापुर में कक्षा 5 के छात्र हैं। जबकि तीसरा सबसे छोटा बेटा गोविन्द कक्षा दो में पढ़ता है।

                                          संजय ने अपनी लिखित शिकायत में बताया कि वह एडिमिशन लेते समय प्रबंधन को बताया कि बच्चों की सालाना कुल पीस 31 हजार रूपए किश्त में जमा करेगा। मोहलत भी मांगा था। बावजूद इसके उसने समय से पहले 24 हजार रूपए जमा भी कर दिए है। मात्र 6750 रूपए फीस का देना बाकी रह गया है। मोहलत का समय खत्म होने के पहले ही ड्रीम इंडिया स्कूल के प्राचार्य ने तीनों बच्चों को मात्र 6 हजार रूपए के लिए स्कूल से भगा दिया। कई बार निवेदन भी किया। लेकिन उन्होेने ना केवल स्कूल से धक्का मारकर बाहर किया। बल्कि कहा कि जब औकात नहीं है तो स्कूल में पढ़ाते क्यों हो। अच्छा होगा कि अपने बच्चों को काम धाम मतलब ईडली डोसा बनाना सिखाओ। इससे परिवार को फायदा होगा।

  बीच सत्र में किया बाहर

            संजय धुडयानी ने बताया कि वह गरीब है। लेकिन बच्चों को पढ़ाने के लिए कुछ भी करने को तैयार है। आज मैडम से निवेदन करता रहा लेकिन उन्होने मात्र 6750 रूपए के लिए तीन बच्चों को बाहर का रास्ता दिखा दिया। गिड़गिड़ाता रहा कि बच्चों का भविष्य खराब हो जाएगा। लेकिन उन्होने झिड़की देकर बच्चों के साथ स्कूल से निकलने के लिए कहा।

प्रबंधन की दादागिरी.. NSUI नेता से वाद विवाद

एनएसयूआई प्रदेश उपाध्यक्ष आशीष अवस्थी ने बताया कि गरीब अभिभावक के लिए मैने भी गुजारिश की। लकिन लेडीज प्रिंसिपल ने निवेदन को तवज्जो नहीं दिया। आशीष अवस्थी ने बताया कि स्कूल प्रबंधन ने ना केवल संजय धुडयानी बल्कि उनके साथ भी बदतमीजी की। मैडम ने स्पष्ट कहा कि बच्चों को ईडली डोसा बनाने सिखाए। घर के काम आएगा।

आशीष ने बताया कि इसके पहले भी ड्रीम इंडिया स्कूल प्रबंधन की लापरवाही की शिकायत कई बार की गयी है। स्कूल में पानी से लेकर शौचालय तक की शिकायत है। इसके अलावा अभिभावकों को प्रताड़ित करने के कई मामले सामने आ चुके हैं। आज भी संजय धुडयानी के अलावा अन्य अभिभावकों को प्राचार्य ने बच्चों के साथ कुछ हजार रूपयों के लिए स्कूल के बाहर का रास्ता दिखाया है। जबकि एडमिशन के समय मीठी मीठी बातें कर बच्चों को प्रवेश दिलाया जाता है। बाद में अभिभावकों के साथ बच्चों को प्रताड़ित और अपमानित किया जाता है। आज हमने जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय पहुंचकर स्कूल प्रबंधन के खिलाफ सख्त कदम उठाए जाने की मांग की है।

इस दौरान पत्रकारों ने प्रबंधन को कई बार फोन लगाया..लेकिन स्कूल की तरफ से किसी ने रिस्पांस देना मुनासिब नही समझा। फिलहाल मा्मले में जिला शिक्षाधिकारी कार्यालय ने शिकायत को गंभीरता से लिया है। जल्द ही मामले में ठोस कदम उठाए जाने की मांग की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *