कलेक्टर ने कहा…CEC गाइडलाइन के अनुसार सुरक्षा…परिंदा भी नहीं मार सकेगा पर…दूर हुई प्रत्याशियों की चिंता

बिलासपुर— कांग्रेस प्रत्याशी और संगठन के पदाधिकारियों ने कलेक्टर और जिला निर्वाचन अधिकारी के सामने तीन सूत्रीय चिंता को जाहिर किया। पी.दयानन्द ने कांग्रेस प्रत्याशियों और संगठन पदाधिकारियों की तीन सूत्रीय चिंता और शिकायतों को ध्यान से सुना। जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि किसी को परेशान होने की जरूरत नहीं है। ईव्हीएम की सुरक्षा व्यवस्था पर शक ना किया जाए। सुरक्षा व्यवस्था  निर्वाचन आयोग के दिशा निर्देश पर किया गया है। परिंदा भी पर नहीं मार सकता है। चारो तरफ सीसीटीवी लगे हैं। किसी को कहीं भी शक हो सीसीटीवी खंगाल सकता है।

                     आज जिला निर्वाचन अधिकारी पी.दयानन्द के सामने जिले के कांग्रेस प्रत्याशी और प्रतिनिधियों के साथ संगठन के नेताओ ने ईव्हीएम सुरक्षा समेत तीन सूत्रीय चिंदा को जाहिर किया। कलेक्टर और जिला निर्वाचन अधिकारी से मुलाकात के दौरान जिला ग्रामीण अध्यक्ष विजय केशरवानी,शहर अध्यक्ष नरेन्द्र बोलर,राधेभूत,आशीष सिह,न्द्रप्रकाश वाजपेयी समेत कई वरिष्ठ कांग्रेसी मौजूद थे। इसके अलावा विधानसभा प्रत्याशी शैलेश पाण्डेय,राजेन्द्र शुक्ला,राजेन्द्र साहू, विवेक वाजपेयी,मस्तूरी विधायक प्रतिनिधि अभय नारायण,गुलाब राज,रश्मि सिंह ने भी अपनी आशंका को जाहिर किया।

प्रत्याशियों और संगठन के पदाधिकारियों ने कलेक्टर को बताया कि रिजर्व ईव्हीएम,डाकमत पत्र समेत अन्य कुछ ऐसी जानकारी मिल रही है जिसके चलते उन्हें चिंता सताने लगी है।

कांग्रेसियों ने चिंता जाहिर करते हुए कहा कि हम रिजर्व ईव्हीएम की जानकारी जानना चाहते हैं। बेहतर होगा कि रिजर्व  मशीनों का डिटेल हमें भी दिया जाए। इसके अलावा डाकमत पत्र को लेकर भी कुछ आशंका है। हम चाहते हैं कि डाकमत्र की सूची उपलब्ध करायी जाए। साथ ही मतगणना के दिन स्ट्रांग रूम से मतगणना स्थल तक ईव्हीएम लाते समय प्रत्य़ाशियों का प्रतिनिधि भी रखा जाए। कांग्रेसियों ने बताया कि मतगणना के समय कर्मचारियों को मोबाइल से दूर रखा जाए।

परिन्दा भी पर नहीं मार सकता

जिला निर्वाचन अधिकारी पी.दयानन्द ने कहा कि ईव्हीएम की सुरक्षा व्यवस्था बहुत सख्त है। चारो तरफ सीसीटीवी से निगरानी हो रही है। कड़ी सुरक्षा के बीच किसी को आशंकित होने की जरूरत नहीं है। सुरक्षा व्यवस्था चुनाव आयोग के गाइडलाइन के अनुसार है। परिन्दा भी पर नहीं मार सकता है। ईव्हीएम जमा होने के बाद अब तक सीसीटीवी से एक-एक गतिविधियों पर नजर है।

                        कांग्रेस नेताओं के बाद पत्रकारों से पी.दयानन्द ने बताया कि डाकमत पत्र की सूची दिया जाना संभव नहीं है। रिजर्व ईव्हीएम को सुरक्षित और सबकी जानकारी में रखा गया है। उस पर भी सीसीटीवी की नजर है। दयानन्द ने कहा कि स्ट्रांग रूम तक किसी भी प्रतिनिधि एजेन्ट को आने की इजाजत नहीं होगी। सबकी जानकारी में ईव्हीएम को रखा गया है। स्ट्रांग रूम के बाद निर्धारित टेबल तक ईव्हीएम को पहुंचाया जाएगा। प्रतिनिधियों और अनुपस्थिति में एजेन्ट के सामने ईव्हीएम का लाक तोड़ा जाएगा। गिनती भी होगी।

             कलेक्टर ने यह भी बताया कि मतगणना स्थल पर कोई भी कर्मचारी मोबाइल नहीं रखेगा। जिम्मेदार लोगों के पास ही मोबाइल की सुविधा होगी। ऐसे लोगों की संख्या गिनती में हैं। क्योंकि समय समय पर चुनाव आयोग को जानकारी देनी होती है।

                              कलेक्टर ने कहा कि किसी को आशंका में रहने की जरूरत नहीं है। अभी तक सारा काम फेयर हुआ है। इसलिए किसी को चिन्तित होने की जरूरत नहीं है।

जिला निर्वाचन ने दिया आश्वासन–विजय

                 विजय केशरवानी ने बताया कि हमने अपनी शिकायत और आशंका को जाहिर कर दिया है। जिला निर्वाचन अधिकारी ने आश्वासन दिया है कि किसी को परेशान होने की जरूरत नहीं है। सब कुछ सीईसी की गाइडलाइन के अनुसार होगा। किसी प्रकार की गडबड़ी नहीं होगी। रिजर्व ईव्हीएम का नम्बर दिए जाने का भी आश्वासन दिया है। फिलहाल हमने अपनी बातों को सामने रख दिया है। बाकी जिम्मेदारी चुनाव आयोग की है।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...