भूपेश के नाम पर कैसे लगी मुहर…?पढ़िए तीन दिनों तक मिनट -2 – मिनट पल पल बदलते घटनाक्रम का हाल

नई दिल्ली । कांग्रेस आलाकमान ने आखिर भूपेश बघेल को छत्तीसगढ़ का नया छत्तीसगढ़ कांग्रेस विधायक दल का नेता चुन लिया। इस फैसले में करीब 3 दिन का पूरा समय लग गया ।देश की राजधानी में इसे लेकर पल पल तस्वीर बदलती रही । नेताओं के बीच लंबा मंथन चला और कई दौर की बातचीत हुई । कई फार्मूले भी सामने आए ।लेकिन आखिर भूपेश बघेल के नाम पर सहमति बनी जो अब सूबे के नए सीएम होंगे।

छत्तीसगढ़ में नतीजे सामने आने और कांग्रेस को बहुमत मिलने के बाद से ही नए मुख्यमंत्री के नाम को लेकर कयासों का दौर जारी रहा है ।नतीजे आने के बाद दिल्ली में भी सरगर्मियां लगातार चलती रही कांग्रेस हाईकमान ने परंपरा के अनुसार लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे को पर्यवेक्षक बनाकर रायपुर भेजा ।रायपुर में कांग्रेस विधायक दल ने एक लाइन का प्रस्ताव पारित कर नए मुख्यमंत्री के चयन के लिए काग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर फैसला छोड़ दिया ।

इसके बाद से लगातार कई दिनों तक दिल्ली में गतिविधियां चलती रही है ।नतीजे आने के बाद से नए मुख्यमंत्री के रूप में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ,नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंह देव ,प्रदेश चुनाव संचालन समिति के चेयरमैन डॉ चरणदास महंत और ताम्रध्वज साहू की दावेदारी मानी जाती रही है ।दिल्ली में पिछले 3 दिनों से जारी घटनाक्रम इन्हीं नामों के इर्द-गिर्द ही घूमता रहा। इस दौरान मुख्यमंत्री पद के दावेदारों के साथ राहुल गांधी और अन्य नेताओं की कई बार मीटिंग हुई। इस बातचीत में कोई रास्ता नहीं निकलने की वजह से मुख्यमंत्री पद के दावेदारों को कई बार दिल्ली बुलाया गया ।

राजस्थान और मध्य प्रदेश में के लिए मुख्यमंत्रियों का नाम तय हो जाने के बाद छत्तीसगढ़ को लेकर सरगर्मियां तेज हुई थी। शुक्रवार को दिल्ली में सीएम के दावेदारों के साथ राहुल गांधी की मीटिंग के बाद खबरें आई थी कि शनिवार को कांग्रेस विधायक दल की बैठक में नए सीएम का नाम घोषित किया जाएगा ।

देर रात यह भी खबर मिली कि सीएम के सभी दावेदार दिल्ली में ही रुक गए हैं और शनिवार को दोपहर बाद चार्टर्ड प्लेन से रायपुर के लिए रवाना होंगे ।

इसके पहले कांग्रेस अध्यक्ष के साथ बातचीत का दौर चलता रहा और छन कर आ रही खबरों के आधार पर लोग नए मुख्यमंत्री के नाम पर कयास बाजी करते रहे ।कभी किसी नाम पर तो कभी किसी और के नाम पर सहमति की चर्चाएं सियासी हलकों में गरम रही ।इस बीच यह भी खबर मिली कि छत्तीसगढ़ में सहमति ना बन पाने की वजह से दो डिप्टी सीएम बनाए जा रहे हैं ।हाईकमान के इस फैसले पर भी सहमति के लिए दोपहर बाद तक कोशिशें चलती रही।

उधर रायपुर में लोग कांग्रेस हाईकमान के फैसले का इंतजार करते रहे ।इस बीच बड़ी तादात में समर्थक भी रायपुर पहुंच गए और काग्रेस के फैसले का इंतजार करते रहे।

लेकिन शनिवार की शाम होते होते तक कोई भी अंतिम फैसला निकल कर सामने नहीं आया। इस बीच चर्चा चलती रही की ताम्रध्वज साहू का नाम तय कर लिया गया है ।इसे लेकर भी बाद में खबर आई कि इस नाम पर टीएससी देव और भूपेश बघेल ने असहमति जता दी है । इसके बाद यह खबर भी उड़ी की छत्तीसगढ़ में दो डिप्टी सीएम बनाया जाने के फार्मूले पर भी मंथन चल रहा है ।

लेकिन डिप्टी सीएम पद पर भी सहमति नहीं बन पाई ।फिर खबर आई की भूपेश बघेल त्रिदेव और टी एस सिंह देव और डॉ चरणदास महंत ने ताम्रध्वज साहू के बंगले पर जाकर मुलाकात की है। देर शाम तक इस तरह के ही घटनाक्रम चलते रहे ।आखिर में यह बात भी सामने आई कि छत्तीसगढ़ में फिफ्टी फिफ्टी का फार्मूला अख्तियार किया जा रहा है। जिसमें सीएम के प्रमुख दावेदार टीएस सिंह देव और भूपेश बघेल को ढाई ढाई साल का कार्यकाल दिया जाएगा ।लेकिन इन सब की कोई पुष्टि नहीं हो सकी और देर रात तक सिर्फ कयास ओं का दौर ही चलता रहा।

आखिर रविवार की सुबह का सभी को इंतजार था ।और यह सुबह खबर लेकर आई की प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल छत्तीसगढ़ के नए सीएम होंगे। हालांकि दिल्ली से नेताओं के आने और कांग्रेस विधायक दल की बैठक पूरी होने तक इसकी पुष्टि नहीं हो सकी जिससे सस्पेंस कायम रहा।

इधर रविवार की सुबह एआईसीसी के छत्तीसगढ़ सचिव डॉ चंदन यादव और डॉ अरुण उरांव प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष डॉ चरणदास महंत कांग्रेस कार्यसमिति सदस्य और दुर्ग के लोकसभा सदस्य ताम्रध्वज साहू दिल्ली से रायपुर पंहुचे। इस मौके पर एयरपोर्ट में मौजूद प्रदेश भर के कांग्रेसियों ने उनका गर्म जोश स्वागत किया। इसके बाद राजीव भवन में प्रदेश भर से जुटे कांग्रेसी फैसले का इंतजार करते रहे और अपने अपने ढंग से कयास लगाते रहे। इधर राजीव भवन में प्रदेशभर से नवनिर्वाचित कांग्रेस विधायक पहुंचे और मीटिंग शुरू होने का इंतजार भी शुरू हो गया।

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के छत्तीसगढ़ प्रभारी पीएल पुनिया, छत्तीसगढ़ के पर्यवेक्षक मल्लिकार्जुन खड़गे, कांग्रेस विधायक दल के नेता टीएससिंहदेव दिल्ली से विशेष विमान के द्वारा दिल्ली से रायपुर के लिये रवाना होकर दोपहर 12 बजे के बाद रायपुर पंहुचें । एअरपोर्ट पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल की अगुवाई में बड़ी संख्या में कांग्रेसियों ने उनका स्वागत किया। रायपुर आने के बाद सभी नेता राजीव भवन रायपुर के प्रथम तल में स्थित संचार विभाग के पत्रकार वार्ता कक्ष में कांग्रेस विधायक दल की बैठक में सम्मिलित हुए और इसी महत्वपूर्ण बैठक में छत्तीसगढ़ के नए मुख्यमंत्री के नाम की घोषणा की गई।

चार्टर्ड प्लेन से रायपुर पहुंचने के बाद कांग्रेस के सभी नेता माना एयरपोर्ट से कारों के काफिले के साथ सीधे प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय राजीव भवन पहुंचे । जहां सभी निर्वाचित विधायक उनका इंतजार कर रहे थे। विधायकों की बैठक में मल्लिकार्जुन खड़गे ने लिफाफा खोलकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का फैसला सुनाया। जिसके तहत भूपेश बघेल को विधायक दल का नेता घोषित कर दिया गया।

जानकारी दी गई है कि पूर्व केंद्रीय गृह राज्य मंत्री आरपीएन सिंह और एआईसीसी के प्रवक्ता जयवीर शेरगिल शाम 4 बजे दिल्ली से रायपुर आने वाली नियमित विमान सेवा के द्वारा रायपुर आएंगे और छत्तीसगढ़ की नई सरकार के शपथ ग्रहण समारोह में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की ओर से शामिल होंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *