शिक्षाकर्मियो को उम्मीद:संविलियन,क्रमोन्नति,वेतन विसंगति,अनुकंपा नियुक्ति व पेंशन पर जल्द फैसला लेगी नई सरकार

संविलियन,शिक्षाकर्मियों,chhattisgarh,pran,cps,ddoबालोद–छत्तीसगढ़ पंचायत नगरीय निकाय शिक्षक संघ, जिला बालोद ने प्रदेश के नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री भूपेश बघेल एवं जिले के नवनिर्वाचित विधायक गण  संगीता सिन्हा, अनिला भेड़िया व कुंवर सिंह निषाद को बधाई देते हुए विश्वास व्यक्त किया है कि उनके नेतृत्व में शिक्षक पंचायत, नगरीय निकाय व एलबी संवर्ग के प्रदेश व जिला व ब्लाक स्तर के समस्याओं का त्वारित निराकरण होगा।

संघ के जिलाध्यक्ष दिलीप साहू एवं प्रांतीय सहसचिव प्रदीप साहू ने बताया कि प्रदेश कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव के पहले जारी जन घोषणा पत्र 2018 में दो वर्ष की सेवा पूर्ण कर चुके समस्त शिक्षाकर्मियों का संविलियन करने, पदोन्नति से वंचित शिक्षाकर्मियों को क्रमोन्नत वेतनमान देने, सभी लंबित अनुकंपा नियुक्ति के प्रकरणों का तत्काल निराकरण करने, सीपीएफ पर विचार कर 2004 के पूर्व जो पेंशन योजना थी उसे वापस लागू करने के लिए कार्रवाई करने का स्पष्ट उल्लेख किया है।

संघ पदाधिकारियों ने कहा कि हमें नवगठित सरकार से अपेक्षा है कि जन घोषणा पत्र में शामिल शिक्षाकर्मियों से संबंधित मुद्दे पर शीघ्र निर्णय किया जाएगा। संघ ने उम्मीद जताई है कि अब चूंकि जन घोषणा पत्र मे कर्मचारियो से संबंधित विषयो पर अधिकारियो के बीच मुख्य सचिव द्वारा सभी विभागीय अधिकारियो के साथ बैठक भी कर ली गई है।अतः अब शीघ्र कार्रवाई की जाएगी ।

छत्तीसगढ़ पंचायत नगरीय निकाय शिक्षक संघ ने नवगठित प्रदेश सरकार द्वारा कैबिनेट की पहली ही बैठक में किसानों के लिए किए गए वादों को पूरा करने का स्वागत करते हुए कहा कि किसानों के तर्ज पर अब प्रदेश सरकार प्रदेश के सबसे बड़े कर्मचारी व शिक्षक संवर्ग अर्थात शिक्षाकर्मियों के लिए किए गए वादों को पूरा करें।

लगभग डेढ़ लाख शिक्षाकर्मियों व दस लाख परिजनों की निगाहें सरकार पर टिकी है। प्रदेश में कार्यरत डेढ़ लाख शिक्षाकर्मियों में से लगभग चालीस हजार शिक्षाकर्मी संविलियन से वंचित हैं। इसके साथ ही सही वेतन निर्धारण नहीं होने व क्रमोन्नति का लाभ नहीं दिए जाने से शिक्षकर्मियों को वेतन विसंगति का सामना करना पड़ रहा है।

प्रदेशभर में ढाई हजार से अधिक मृत शिक्षाकर्मियों के परिजनों को अनुकंपा नियुक्ति का इंतजार है। इसके अलावा सेवानिवृत्ति के कगार पर पड़े सैकड़ों शिक्षाकर्मियों को पेंशन की पात्रता नहीं होने के कारण भविष्य की चिंता सता रही है। प्रदेश कांग्रेस ने जन घोषणा पत्र 2018 में इन सभी मुद्दों के समाधान का वादा किया है।

जिला संघ की ओर से जिलाध्यक्ष दिलीप साहू,प्रांतीय सहसचिव प्रदीप साहू, जिला उपाध्यक्ष रामकिशोर खरांशु,कामता साहू,वीरेंद्र देवांगन, माधव साहू,लालमणि साहू,जिला सचिव रघुनंदन गंगबोईर सहित ललिता यादव, नीता बघेल, शिव शांडिल्य, लेखराम साहू,संतोष देवांगन, पवन कुम्भकार,रिखी ध्रुव,शेषलाल साहू,तुकाराम साहू जगत साहू,शिवेन्द्र बहादुर साहू,गजेंद्र रावटे, महेंद्र टांडिया,बीरबल देशमुख,राजेंद्र देशमुख,सूरज गोपाल गंगबेर,अंजुलता योगी,बसंती पिकेश्वर,मधुमाला कौशल, सुषमा पटेल,नरेंद्र साहू,हरीश साहू,विजय साहू,नीलेश देशमुख,कुलेश्वर ठाकुर,मिलन सिन्हा,विकास शर्मा,ईश्वर लाल लेंडिया,आनंद गहरवार,भुनेश्वर साहू,हल्लू राम सहारे,तीरध बडगंईया,संजय शुक्ला,गमनेश्वर तारम,सुरेश बंजारे,चंद्रशेखर तिवारी,हेमलाल सहारे,नितीन सोनबरसा एवं महिला मोर्चा व ब्लाक संगठन के सभी पदाधिकारियो ने नई सरकार से शिक्षा कर्मियो के लिए शीघ्र निर्णय की मांग की है ।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...