सहायक शिक्षक फेडरेशन की चेतावनी..क्रमोन्नति,वेतन विसंगति,वर्ष बंधन व अनुकंपा नियुक्ति की मांग तत्काल पूरा करें सरकार

शिक्षक पंचायत,बस्तर,शिक्षामंत्री.धरना प्रदर्शन,शिक्षक पंचायत नगरीय निकाय मोर्चा,प्रान्तीय संचालक विकास सिंह राजपूत,नवीन शिक्षाकर्मी संघ,प्रदेशाध्यक्ष व शिक्षक पंचायत नगरीय निकाय मोर्चारायपुर।पूरे प्रदेश में, शिक्षाकर्मी वर्ग-03 आंदोलन के नेतृत्वकर्ता, और छत्तीसगढ़ सहायक शिक्षक फेडरेशन के प्रांतीय संयोजक जाकेश साहू ने प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया को दिए बयान में कहा है कि राज्य की नई भूपेश बघेल सरकार शिक्षाकर्मी वर्ग-03 की चार सूत्रीय मांगे क्रमोन्नति, वेतन विसंगति, वर्ष बन्धन एवं अनुकम्पा नियुक्ति को सीघ्र पूरा कर इस सम्बंध से तत्काल आदेश जारी करें, अन्यथा लोकसभा चुनाव में प्रदेश के सबसे बड़े कर्मचारी वर्ग शिक्षाकर्मी वर्ग-03 के 1,09,000 साथियों का आक्रोश और गुस्सा झेलने तैयार रहे।सीजीवालडॉटकॉम के whatsapp ग्रुप से जुडने के लिए यहाँ क्लिक करे

राज्य की नई भूपेश बघेल सरकार सत्ता में आते ही जब किसानों के कर्जमाफी, धान के दो साल का बकाया बोनस और 2500 रुपये प्रति क्विंटल समर्थन मूल्य की घोषणा तत्काल कर सकती है तो फिर शिक्षाकर्मी वर्ग-03 के लम्बित मांगो का त्वरित निराकरण क्यों नहीं किया जा रहा है…??

सरकार यह न भूले कि ये 1,09,000 वर्ग-03 के शिक्षाकर्मी प्रदेश का सबसे बड़ा वही कर्मचारी वर्ग है जिसने विधानसभा चुनाव के पूर्व तत्कालीन रमन सिंह सरकार को सत्ता से उखाड़ फेंकने में अपनी महत्वपूर्ण एवं बड़ी भूमिका निभाई थी। प्रदेशभर में वर्ग-03 के शिक्षाकर्मियों ने विधानसभा चुनाव के पूर्व तात्कालीन रमन सिंह सरकार के समक्ष कई बार गुहार लगाई थी कि उनकी चार सूत्रीय मांगे पूरी की जाय।

लेकिन सरकार ने इनकी एक न सुनी थी। जिनकी परिणीति ये हुई कि पूर्ववर्ती रमन सिंह सरकार की चुनाव में बुरी तरह दुर्गति हुई। और 65 प्लस की दावा करने वाली, 15 सालों से प्रदेश में एक-छत्रिय राज कर रही भारतीय जनता पार्टी की राज्य सरकार मात्र 15 सीटों पर सिमट कर रह गई।

प्रदेशभर के स्कूलों में कार्यरत 1,09,000 सहायक शिक्षक एलबी / पंचायत संवर्ग को राज्य की अनुपूरक बजट से बड़ी उम्मीदे थी कि उक्त बजट में शिक्षाकर्मी वर्ग-03 की चार सूत्रीय मांगों पर सरकार जरूर कुछ न कुछ करेगी लेकिन उक्त बजट में हमारे लिए कुछ भी नया नहीं है जिससे इस वर्ग को बड़ी निराशा हाथ लगी है तथा प्रदेश का पूरा प्राथमिक शिक्षा जगत राज्य सरकार से भारी आक्रोशित है जो कभी भी एक बड़े आंदोलन का रूप ले सकता है।

“फेडरेशन” संचालक जाकेश साहू ने प्रदेश भर के 1,09,000 सहायक शिक्षक एलबी / पंचायत संवर्ग से एक बार फिर प्रदेशस्तरीय बड़े आंदोलन के लिए तैयार रहने का आह्वान करते हुए कहा हैं कि यदि हमारी चारों मांगो पर सरकार सीघ्र निर्णय नहीं लेती है तो प्रदेश में एक बड़े आंदोलन का संखनाद किया जाएगा। जिसका आगामी लोकसभा चुनाव पर व्यापक असर हो सकता है, अतः राज्य की भूपेश बघेल सरकार प्रदेश के 1,09,000 सहायक शिक्षक एलबी / पंचायत संवर्ग की चार सूत्रीय मांगों की पूर्ति कर, बिना कोई विलम्ब किये तत्काल आदेश जारी करें, जिनका सुखद परिणाम सरकार को आगामी लोकसभा चुनाव में मिलेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *