सरकार के ढुलमुल रवैये से शिक्षाकर्मी वर्ग – 3 में नाराजगी, ठोस निर्णय लेने फेडरेशन की बैठक 12 जनवरी को

शिक्षक पंचायत,बस्तर,शिक्षामंत्री.धरना प्रदर्शन,शिक्षक पंचायत नगरीय निकाय मोर्चा,प्रान्तीय संचालक विकास सिंह राजपूत,नवीन शिक्षाकर्मी संघ,प्रदेशाध्यक्ष व शिक्षक पंचायत नगरीय निकाय मोर्चाबिलासपुर।छग सहायक शिक्षक फेडरेशन के 12 जनवरी को  रायपुर में समस्त प्रांत,जिला व ब्लाक पदाधिकारियो की महाबैठक करने जा रहा है जिसमें सहायक शिक्षको की 4 सूत्रीय माँग वेतन विसंगति,क्रमोन्नति, वर्षबन्धन की समाप्ति, तथा लम्बित अनुकम्पा नियुक्ति को नवनियुक्त कांग्रेस की सरकार से मांग मनवाने की रणनीति बनाई जाएगी।फेडरेशन से जुड़े प्रान्तीय संयोजक रंजीत बनर्जी,शिव सारथी,मनीष मिश्रा, अश्वनी कुर्रे ने बताया कि प्रदेश के सहायक शिक्षक अपनी वेतन विसंगति और क्रमोन्नति के मांग को लेकर वर्षो से आंदोलनरत है जिसके कारण इस वर्ग को बहुत ज्यादा आर्थिक नुकसान उठाना पड़ रहा है।  सीजीवालडॉटकॉम के whatsapp ग्रुप से जुडने के लिए यहाँ क्लिक करे

जो नुकसान संविलियन के बाद और भी बढ़ गया है इस मांग को लेकर जब सारे शिक्षाकर्मी संग़ठन संविलियन के जश्न में डूबकर पूर्व भाजपा सरकार की जयकारा करते सम्मेलन समारोह कर रहे थे तो सभी संगठनों से अलग होकर वर्ग 3 अपने लोगों का एक मंच छग सहायक शिक्षक फेडरेशन के बैनर तले जबदस्त आंदोलन किये तथा भाजपा शासन के खिलाफत किये जिसका परिणाम भी निकल और राज्य में कांग्रेस की सरकार बनी इस सरकार को चुनावी विश्लेषक कर्मचारियो और किसानो की बनाई सरकार बता रहे है।

और जो सच भी है कर्मचारियों में सबसे राज्य में सत्ता परिवर्तन के लिए सबसे ज्यादा मुखर शिक्षाकर्मी वर्ग 3 ही रह और अपने आंदोलन के खुले मंच से भाजपा की रमन सरकार को सत्ता से बेदखल करने का ऐलान किया था इस आक्रोश को कांग्रेस के लोगो ने भी खूब भुनाया और उस समय के कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष श्री भूपेश बघेल सहित जनघोषणा निर्माण समिति के मुखिया श्री टी. एस. सिंहदेव जी ने हाथो हाथ लिया वे न सिर्फ आंदोलन में उनके साथ दिखे बल्कि उनसे सलाह मशविरा कर अपने चुनावी जनघोषणा पत्र में भी शामिल किया यही कारण है कि प्रदेश के 1 लाख 9 हजार सहायक शिक्षक चुनाव के समय अपने घर परिवार सहित कांग्रेस का साथ दिया परिणाम आज सामने है इससे उत्साहिय यह वर्ग इस शीत कालीन सत्र में अपने मांग के ऐलान के लिए पूर्णरूपेण आशान्वित थे पर मुख्यमंत्री द्वारा मौन धारण करने के कारण सत्ता परिवर्तन का महानायक चाणक्य के वंशज सहायक शिक्षक अपने को ढंगा से महसूस कर रहा है यही कारण हैं कि इनके अंदर असंतोष की चिंगारी पनपने लगा है अब जबकि मई माह में लोकसभा का चुनाव है फेडरेशन के लोगो की इच्छा है कि सरकार चुनाव के पहले उनकी मांगों को पूरा कर दे अगर मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल जी और उनकी सरकार ऐसा करती है तो निश्चित ही लोकसभा का चुनाव परिणाम उनके लिए सुखद ही होगा।

छग सहायक शिक्षक फेडरेशन के प्रांतीय संयोजक सी.डी. भट्ट अजय गुप्ता,बसन्त कौशिक, सुखनन्दन यादव, छोटे लाल साहू,हुलेश चन्द्राकर और संकीर्तन नन्द का कहना है कि इसी को लेकर फेडरेशन के प्रांतीय महाबैठक 12 जनवरी को रखा गया है जिसमें मांग को पूरा करने के लिए आवश्यक दबाव हेतु ब्लाक,जिला कमेटी के पदाधिकारियो से सलाह उपरांत आगे कदम उठाया जाएगा और अगर जरूरत पड़ी तो फरवरी के आम बजट में हमारी चारो माँगो को पूरा करवाने के लिए चरणबद्ध आंदोलन छेड़ा जायेगा।

*छत्तीशगढ़ सहायक शिक्षक फेडरेशन*

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *