सिलेन्डर फटने से धू-धू कर कोच खाक…चारो तरफ फैल गयी सनसनी…मौके पर पहुंचे अधिकारी..अब होगी जांच

बिलासपुर— पेन्ड्रा रोड स्टेशन से चंद कदम दूर रेलवे साइडिंग में खड़ी कैम्प बोगी में आग लग गयी। खबर मिलने के बाद देखते ही देखते लोगों का मजमा लग गया। लोगों तक जानकारी पहुंची कि यात्री बोगी में आग लगने से जनहानि हुई है। बाद में लोगों को जानकारी हुई कि जिस बोगी में आग लगी उसका उपयोग एनआई के कर्मचारी कैम्प बोगी के रूप में करते हैं। कैम्प कोच रेलवे साइडिंग में खड़ी थी।दिनभर कामकाज के बाद कैम्प बोगी में एनआई स्टाफ खाना बनाता है। रोज की तरह आज भी एनआई कर्मचारी खाना बना रहे थे। इसी दौरान सिलेन्डर फटने से बोगी में आग लग गयी।  आगजनी में किसी प्रकार की जनहानि नहीं हुई है।

              पेन्ड्रा रोड स्टेशन से करीब ढाई किलोमीटर की दूरी पर साइडिंग में कैम्प बोगी में आग लगने की खबर बिलासपुर तक आग की तरह पहुंची। लोगों ने बताया कि कैम्प कोच में देखते ही देखते आग ने व्यापक रूप ले लिया। बोगी जलकर खाक हो गयी। इस दौरान धू-धू जलते बोगी को देखने लोगों का मजमा लग गया। घटना करीब 12 और साढ़े बजे के बीच की है।

                रेलवे अधिकारियों ने बताया कि पेण्ड्रारोड स्टेशन से लगभग 2.5 किमी की दूरी पर बैलास्ट साइडिंग में खड़े ट्रेक मशीन टी-28 स्टाफ कोच में एनआई कार्य में लगे कर्मचारी खाना बना रहे थे। जहां भी एनआई का काम होता है वहां कैम्प कोच को किनारे ख़ा कर दिया जाता है। कोच में कर्मचारी खाना बनाते और   अराम करते हैं। आज भी कैम्प कोच में कर्मचारी लोग खाना बना रहे थे। दोपहर 12 और साढ़े बारह के बीच खाना बनाते समय एलपीजी सिलेन्डर फट गया। देखते ही देखते कोच में आग लग गई। और अन्त में बोगी जलकर खाक हो गयी।

                          बिलासपुर रेल मण्डल अधिकारियों के अनुसार खबर मिलते ही अपर मंडल रेल प्रबंधक सौरभ बंदोपाध्याय समेत रेलवे मण्डल के आला अधिकारी मौके पर पहुंच गये। निरीक्षण के दौरान पेन्ड्रा एईएन भी मौजूद थे। आग को पेण्ड्रारोड से फायर ब्रिगेड मंगाकर काबू पाया गया। आग को पूरी तरह से करीब दो बजे के बाद कन्ट्रोल किया जा सका। अधिकारियों की माने तो कोच पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो चुकी है। खुशी की बात है कि आगजनी में किसी को कोई नुकसान नहीं पहुंचा है। आग के लगने और लापरवाही को जानने का प्रयास जांच टीम करेगी। आकलन किया जाएगा कि कोच के जलने रेल प्रशासन को कितना नुकसान हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *