जब कमिश्नर ने जताई.खुशी…लेकिन नाराजगी के साथ…कहां..योजना में महिला स्व सहायता समूहों को भी जोड़ें

बिलासपुर— मंगलवार की सुबह कमिश्नर प्रभाकर पाण्डेय सालिड एंड वेस्ट मैनेजमेंट आरडीएफ प्लांट देखने पहुंचे। आरडीएफ और खाद् बनाने की पूरी प्रक्रिया का  कमिश्नर ने जायजा लिया। कमिश्नर ने नोडल अधिकारी अनुपम तिवारी को प्लांट चलाने की अनुमति संबंधित कार्रवाई को जल्द पूर्ण करने का निर्देश दिया।
                 डोर टू डोर कचरा कलेक्शन से आरडीएफ व खाद् बनाने के लिए कछार में प्लांट स्थापित किया गया है। प्लांट के कार्यों का देखने  कमिश्नर पाण्डेय कछार पहुंचे। उन्होंने आरडीएफ, खाद् और लैंडफील संबंधित कार्यों की स्टेप टू स्टेप जानकारी ली। मेसर्स दिल्ली एमएसडब्ल्यू सल्युशन लिमिटेड के प्रबंधक टीके मुरलीधरन ने आरडीएफ और खाद् बनाने की प्रक्रिया से कमिश्नर को वाकिफ कराया।
                 मुरलीधरन ने बताया कि सबसे पहले कचरा को डंप कर रखा जा रहा है। इसके बाद कचरों को 75 एमएम की मशीन में डाला जाएगा। सेग्रिगेशन बाद अलग अलग हुए कचरों को 25 एमएम की मशीन में डाला जाएगा। 25 एमएम की मशीन में दो स्टेप में सेग्रिगेट का काम पूरा होगा। एक जगह मशीन के बीच से नीचे गिरेगा वह खाद् बनेगा। मशीन के अंतिम छोर से निकलने वाला कचरा आरडीएफ बनेगा। 25 एमएम की मशीन के बीच से गिरने वाले कचरा को फिर से 4  एमएम की मशीन में सेग्रिगेशन किया जाएगा। चार एमएम की मशीन में सेग्रिगेशन के बाद खाद् बनेगा।
           मुरलीधरन ने कमिश्नर को बताया कि पहले कचरे का मॉस्चर को एरिएशन बे से सूखाया जाएगा। पूरी प्रक्रिया को प्रायोगिक तौर पर मशीन चलाकर एमएसडब्लयू के कर्मचारियों ने बताया। कमिश्नर पाण्डेय ने लैंडफील साइट के बारे में जानकारी ली । गार्डन समेत जो भी अपूर्ण कार्य है पूर्ण करने को कहा। भ्रमण के दौरान कमिश्नर ने पर्यावरण संरक्षण मंडल से अनुमति लेने संबंधित कार्य को जल्द पूर्ण कर आरडीएफ व खाद् निर्माण शुरू करने का निर्देश नोडल अधिकारी अनुपम तिवारी को दिए। निरीक्षण के दौरान आरडीएफ प्लांट के कार्यों की कमिश्नर प्रशंसा की।
स्व.सहायता समूह को भी करें शामिल
 निरीक्षण के दौरान कमिश्नर ने शहर की महिला स्व. सहायता समूह को भी कार्य में लगाने को कहा। इस संबंध में किस तरह से महिला स्व. सहायता समूह की सेवाएं ली जा सकती है विस्तार से कार्ययोजना तैयार करने की बात कही।
बायोमेडिकल वेस्ट डिस्पोज पर नाराजगी
आरडीएफ प्लांट के बगल में बायोमेडिक वेस्ट डिस्पोज प्लांट है। मौके के निरीक्षण करने में बायोमेडिकल वेस्ट का प्रापर डिस्पोज न होकर इधर-उधर बिखराव हुआ मिला। कमिश्नर ने गहरी नाराजगी जाहिर करते हुए नोडल अधिकारी से जानकारी मांगी। अनुपम तिवारी ने  बताया कि जमीन का मामला कोर्ट में चल रहा है।  कमिश्नर ने पूरी फाइल लेकर चर्चा करने और संबंध में पर्यावरण संरक्षण मंडल के अधिकारी से बात करने को कहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *