दो सौ से ज्यादा शिक्षक माध्यमिक शिक्षा मण्डल से होंगे ब्लैक लिस्टेड,पिछले साल दसवी-बारहवी के मूल्यांकन मे हुई थी लापरवाही

रायपुर।पिछले साल दसवीं और बारहवीं की उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन में लापरवाही बरतने वाली 200 से ज्यादा शिक्षकों को इस बार मूल्यांकन के काम से ब्लैक लिस्ट किया जाएगा।छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल ने शिक्षकों की सूची तैयार कर मापदंडों के अनुसार कार्रवाई की अनुशंसा राज्य शासन से की है। हालांकि सिफारिश के बाद अब तक किसी भी शिक्षक के खिलाफ शासन द्वारा कार्रवाई नहीं की गई है। बता दें कि दसवीं की परीक्षा 1 मार्च और 12वीं की परीक्षाएं 2 मार्च से प्रारंभ हो रही हैं माध्यमिक शिक्षा मंडल ने परीक्षा की तैयारी लगभग पूर्ण कर ली है परीक्षा के साथ ही मूल्यांकन की तैयारी चल रही है।सीजीवालडॉटकॉम के WhatsApp ग्रुप से जुडने के लिए यहाँ क्लिक करे

पिछले साल में बढ़ती गई लापरवाही को देखते हुए शिक्षकों की सूची तैयार कर कार्रवाई की हुई मंडल की बैठक में शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई का अनुमोदन किया गया। मिली जानकारी के अनुसार मूल्यांकन में लापरवाही के लिए 200 शिक्षकों के खिलाफ मापदंडों के आधार पर कार्रवाई की जा रही है।

यह भी पढे-Chhattisgarh-अटैच शिक्षक पद पर जमे,DEO के आदेश का नहीं हो रहा पालन

revaluation के दौरान बड़ी संख्या में विद्यार्थियों के जिसके आधार पर कार्रवाई के लिए मानक तय किए गए लापरवाही के मामले में मंडल ने संबंधित शिक्षकों को 3 साल के लिए मूल्यांकन के काम से ब्लैक लिस्ट कर दिया। और ज्यादा गंभीर मामले में कुछ शिक्षकों के खिलाफ नियमानुसार की जाएगी।साल2017-18- मे 276 और 16-17 में 321 शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए मूल्यांकन के काम से उन्हें अलग किया गया।

यह भी पढे-CMO भर्ती परीक्षा के ऑनलाइन आवेदन की तारीख बढ़ी,अब ये है अंतिम तिथि

यहां पर बताते चलें की कार्रवाई के लिए जो मापदंड है,उनमें पुनर्मूल्यांकन में 20 से 40 अंक के सभी तरह के पारिश्रमिक कार्य से 3 साल के लिए और 41 से 49 अंक बढ़ने पर सभी तरह के कार्य से 3 साल के लिए और एक वेतन वृद्धि रोकने की अनुशंसा साथ ही 50 से अधिक बढ़ने पर हमेशा के लिए मूल्यांकन कार्य से ब्लैक लिस्ट की सिफारिश का प्रावधान या मापदंड है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *