लोकसभा चुनाव 2019 –पढिए सरगुजा लोकसभा सीट – कौन कितने पानी में… ?

सीजीवालडॉटकॉम।लोकसभा चुनाव में अधिक देरी नहीं है। सियासी पार्टियों ने भी अपनी तैयारियां शुरू कर दी  हैं। फिलहाल इस बात को लेकर चर्चा है कि छत्तीसगढ़ की ग्यारह लोकसभा सीटों पर उम्मीदवार कौन होगा। इसे लेकर सुगबुहाहट भी है। लेकिन इस बीच एक अहम सवाल यह भी है कि कहां किसकी स्थिति मजबूत है। इस सवाल का जवाब तलाशते हुए अगर सभी लोकसभा सीटों में शामिल विधानसभा सीटों के हाल के चुनाव नतीजों पर नजर डालें तो जो तस्वीर उभरकर सामने आती हैए उससे आने वाले चुनाव के नतीजों का कुछ . कुछ अँदाजा लगाया जा सकता है। इसके मद्देनजर हम छत्तीसगढ़ की हर एक लोकसभा सीट का आकलन इस सीरीज में कर रहे हैं।लोकसभा चुनाव से जुड़ी खबरे पढ़ने के लिए cgwall.com के whatsapp ग्रुप से जुड़े,यहाँ क्लिक करे

सरगुजा लोकसभा सीटः- छत्तीसगढ़ में सरगुजा लोकसभा सीट अनुसूचित जनजाति के लिए रिजर्व है। इस लोकसभा सीट में शामिल आठ विधानसभा सीटों में से पाँच सीटें प्रतापपुर , रामानुजगँज, सामरी,लुण्ड्रा और सीतापुर अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित हैं। जबकि तीन सीटें प्रेमनगर भटगाँव और अँबिकापुर  सामान्य हैं। पहले के दौर में कांग्रेस का गढ़ रही सरगुजा सीट पर पिछले कई चुनावों से बीजेपी का कब्जा है। इस बार इस सीट पर चुनाव महत्वपूर्ण रहेगा । चूँकि हाल के विधानसभा चुनाव में यहाँ कांग्रेस को अच्छी बढ़त मिल गई है।

2018 के विधानसभा चुनाव के नतीजों पर गौर करें तो सरगुजा लोकसभा क्षेत्र की सभी विधानसभा सीटों पर काँग्रेस को जीत हासिल हुई है। सभी विधानसभा सीटों पर मिले वोट को मिलाकर अगर हिसाब निकालें तो कांग्रेस सरगुजा में बीजेपी के मुकाबले 2,27,958 वोट से आगे नजर आती है। विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को सरगुजा लोकसभा अँतर्गत विधानसभा सीटों पर 6,41,328 वोट मिले हैं। जबकि बीजेपी 4,13370 वोट हासिल कर सकी। इस चुनाव में सरगुजा में जोगी कांग्रेस – बसपा गठबंधन को 49,448 वोट मिले । जबकि गोड़वाना गणतंत्र पार्टी को उससे अधिक 52,879 वोट मिले हैं।

सरगुजा में विधानसभा की सभी सीटें जीतने वाली कांग्रेस पार्टी को सबसे अधिक वोट अंबिकापुर सीट पर मिले । जहाँ से मौजूदा सरकार में मंत्री टी.एस. सिंहदेव एक लाख से अधिक वोट लेकर विधायक चुने गए हैं। कांग्रेस को सभी सीटों पर 60 हजार से अधिक वोट हासिल हुए हैं।जबकि बीजेपी को रामानुजगँज सीट पर 31 हजार वोट पर ही संतुष्ट होना पड़ा है।बीजेपी सरगुजा लोकसभा क्षेत्र के सिर्फ अंबिकापुर विधानसभा सीट पर ही 60 हजार के आँकड़े को पार कर पाई। बाकी सीटों पर उसे 60 हजार से भी कम वोट मिले हैं।   इस चुनाव में जोगी कांग्रेस का सबसे बेहतरीन प्रदर्शन प्रेम नगर और रामानुजगँज विधानसभा क्षेत्रों में रहा। जहां पार्टी के उम्मीदवारों को 10 हजार से अधिक वोट मिलें। बाकी सीटों पर पार्टी 10 हजार के अँदर सिमटकर रह गई। अँबिकापुर सीट पर तो जोगी कांग्रेस को 1322 वोट पर ही संतुष्ट होना पड़ा। गोड़वाना गणतंत्र पार्टी को सबसे अधिक 26,388 वोट प्रेमनगर विधानसभा क्षेत्र में मिले।

हालांकि विधानसभा और लोकसभा चुनाव के मुद्दे भी अलग होते हैं और वोटर के फैसले का आधार भी अलग होता है। लेकिन ताजा मुकाबले के हिसाब से 2018 विधानसभा के चुनाव नतीजों की चीरफाड़ करे तो कांग्रेस बेहतर स्थिति में नजर आती है। बीजेपी को अपनी सीट बरकरार रखने के लिए काफी जोर लगाना पड़ सकता है। जबकि दूसरी पार्टियां चुनाव नतीजों पर बहुत अधिक असर डालने की स्थिति में नजर नहीं आती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *