साइबार अपराध और चिन्तन….बैंकरों ने कहा..TTP से बढ़ जाएगा अधिभार…ग्राहक प्रलोभन का शिकार होने से बचे

बिलासपुर—सायबर क्राइम को रोकने बैंकर्स क्लब ने आज एक कार्यशाला के दौरान चिन्तन मनन  किया। कार्यशाला का आयोजन में वक्ताओं ने अपनी बातों को बारी बारी से रखा। बैंकर्स क्लब  समन्वयक ललित अग्रवाल ने बताया कि जालसाजों से सावधान रहने की जरूरत है। एटीएम कार्ड बदल कर,  टेलीफोन कर झांसे में लेकर बैंकिंग जानकारी देने वालों का सभी को गाहे बगाहे दो चार होना प़ड़ रहा है।  धोखाधड़ी की बढ़ती घटनाओं से  जनता में भय का वातावरण है।  बैंकर्स, साइबर एक्सपर्ट और पुलिस के माध्यम से जनता को लगातार जागरुक किया जा रहा हैं। फिर भी जालसाज करने वाले नये नये तरीके अपना रहे हैं।
                      बैंकर्स क्लब के सहयोग से साइबर क्राइम का शिकार होने से बचने कार्यशाला का आयोजन किया गया। इस दौरान बैंकर्स क्लब के जिम्मेदार अधिकारियों ने आनलाइन ठगी को लेकर चिंता जाहिर की है। अधिकारियों ने कहा कि समय समय प्रशासन का निर्देश भी मिलता है कि आनलाइन ठगी से बचें। कार्यशाला का आयोजन का उद्देश्य भी यही है कि लोगों को किस तरह साइबर अपराध का शिकार होने से बचाया जाए।
                               कार्यशाला में बताया गया कि सामान्यत ऑन लाईन पेमेंट करने के ग्राहकों को चार स्टेज से गुजरना पड़ता है। एटीएम/डेबिट/क्रेडिट कार्ड पर प्रिंट 16 अंक प्रविष्ट करना होता है। 3 अंको की सीवीवी प्रविष्ट करने को कहा जाता है। ठग 4 अंको का पासवर्ड भी मांगता है। इसके बाद मोबाईल पर भेजे गए ओटीपी की मांंग की जाती है। इसके बाद अपराधी लोग ऑन लाईन पेमेंट की प्रक्रिया पूर्ण कर लाखों रूपए का फटका लगा चुके होते है। ग्राहकों को मोबाइल पर एसएमएस आता है कि उन्होने रूपए निकाले हैं। जबकि ऐसा होता नहीं है।
                           ललित अग्रवाल ने बताया कि हैकर्स प्रलोभन देकर  बातों में उलझा कर उपरोक्त जानकारी बड़े आसानी से हासिल कर लेते हैं। ग्राहकों को सावधानी रखने की जरूरत है। किसी भी प्रकार के प्रलोभन से दूर रहे। दिल और से मनन करे कि कोई भी आपको अनावश्यक छूट क्यो देना चाहता हैं। हमेशा याद रखे कि कोई भी बैंक कभी भी एटीएम/डेबिट/क्रेडिट कार्ड के बारे में फोन नहीं करता हैं।
                                            बैंक प्रबंधक ललित ने बताया कि ग्राहक को दैव सिक्योर्ड साइट  का इस्तेमाल करना चाहिए। इससे बढ़ते सायबर क्राइम पर रोक लगाई जा सकती हैं।  कुछ सदस्यों ने कहा कि आम जनता की मांग पर बैंकिंग में ओटीपी के बजाय टीटीपी की व्यवस्था की जाए। इसमें ओटीपी की तरह पूरी प्रकिया पूर्ण होने के बाद और ट्रांजक्शन के पहले ग्राहक को सूचना मिले। हितग्राही का नाम, पता/लोकेशन, ट्रांजेक्शन का कारण, अंको और शब्दो मे राशि का विवरण हो। जानकारी से सन्तुष्ट होने पर ग्राहक बैंकिंग सिस्टम को हाँ/नहीं का एसएमएस करे। हा की सूरत में एसएमएस मिलने के बाद ग्राहक को ट्रांजेक्शन पूर्ण करने के लिए दूसरा ओटीपी भेजा जाए। इसके बाद ही ट्रान्जेक्शन पूर्ण हो। शायद इस प्रक्रिया के अपनाने से बढ़ते फ्राड पर रोक लगाई जा सकती हैं।
                     बैंकरों ने बताया कि टीटीपी व्यवस्था से बैंको और ग्राहकों पर अतिरिक्त समय के साथ शुल्क का भार बढ़ जाएगा। हो सकता हैं कि जालसाजों की लच्छेदार बातों में लोग फिर भी भ्रमित हो जाए। जरूरी यह हैं कि इस बात को गांठ बनाकर बैठा ले कि कोई भी बैंक कभी भी एटीएम जैसी बातों को लेकर फोन नही करता है।
                      उपप्रबंधक एलेक्स तिग्गा ने पीपीएफ और सुकन्या जैसी शासकीय योजना की जानकारी दी। डिजिटल चैम्पियन सुश्री रोजी एक्का ने पीएनबी वन एप्प की जानकारी दी। एक्का ने बताया कि एप्प के माध्यम से आप विभिन्न सुविधाओं को एक साथ प्राप्त करने के साथ पुराने एटीएम को ब्लाक और नये एटीएम के लिए रिक्वेस्ट भी दे सकते हैं।
                    कार्यसाला में अपोलो हॉस्पिटल की मदद से डॉ. अक्षय नायडू, डाइटीशियन सीमा कौशिक एक्पर्ट नीतू साहू और आरती ने आम लोगो के ब्लड प्रेशर, ब्लड शुगर और अन्य जांच कर नियमित दिनचर्या अपनाने को कहा। पोषिता सरावगी ने पीएनबी मेटलाइफ की विशिष्ट स्कीमों की जानकारी दी। क्लब के समन्वयक ललित अग्रवाल ने आमजनता को लोकतंत्र के महापर्व आगामी आम चुनाव में शतप्रतिशत मतदान करने का निवेदन किया।
                 कार्यशाला में ललित अग्रवाल, एलेक्स तिग्गा, अनिता हंसदा, निशा अग्रवाल, रोजी एक्का, अशोक यादव, मयंक अग्रवाल, राजेन्द्र, एस एन चावड़ा,सूरजमल अग्रवाल, व्ही गणेश, पारिजात झा, कैलाश अग्रवाल समेत बड़ी सँख्या में  उपस्थित जनता ने विशेष सावधानी अपनाने के साथ मतदान करने का प्रण लिया। मामले में लोगों को जागरूक करने का आश्वासन दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *