जनता कांग्रेस अमित जोगी का सीएम को पत्र…कहा…पुलिस आदेश, नियुक्तियां नियम विरुद्ध..तत्काल करें निरस्त

amit jogi,wrote,letter,chief,election,officer,cg,chhattisgarhबिलासपुर— जनता कांग्रेस नेता मरवाही पूर्व विधायक अमित जोगी ने सीएम को पत्र लिखा है। अमित जोगी ने कहा कि कोर्ट के आदेश का पालन किया जाए। जिस तरह पैनल के माधयम से डीजीपी को नियुक्त किया गया। उसी तरह अन्य नियुक्तियों में नियमों और कोर्ट के निर्देशों का पालन किया जाए। जरूरी है कि नियम खिलाफ दिए गए आदेशों और नियुक्तियों को तत्काल प्रभाव से निरस्त किया जाए।
                  सीएम को पत्र भेजकर अमित जोगी ने कहा कि 7 मार्च 2019 को उच्च न्यायालय में जनहित याचिका दायर करने के बाद दूसरे दिन यानि 8 मार्च 2019 को प्रदेश में पूर्णकालिक पुलिस महानिदेशक की नियुक्ति के आदेश पारित कर दिए हैं। इसी क्रम में ध्यान दिलाना जरूरी है कि सर्वोच्च न्यायालय के प्रकाश में प्रकाश सिंह प्रकरण में पारित आदेश की ओर आकृष्ट करना चाहूँगा। प्रकरण में स्टेट ओफ़ छत्तीसगढ़ को पक्षकार बनाया गया है।

                                     सर्वोच्च न्यायालय ने अपने आदेश में स्पष्ट निर्देश दिया है कि पुलिस महानिदेशक की चयन प्रक्रिया में सभी अधिकारियों को पैनल में शामिल किया जाए। जिनकी 6 महीने या उस से अधिक की सेवा अवधि शेष हो। छत्तीसगढ़ के पुलिस महानिदेशक की नियुक्ति में निर्देश का पालन नहीं हुआ। ऐसे कर्मठ निष्ठावान और ईमानदार अधिकारियों के नाम तक सरकार ने पैनल में नाम नहीं भेजा। जिनकी 6 महीने या उस से अधिक सेवा अवधि शेष है।

            साथ ही महालेखाकार के पैनल में सम्मिलित अगर किसी अधिकारी के खिलाफ पुलिस गृह निर्माण मण्डल में आर्थिक अनियमितता और  भ्रष्टाचार के प्रकरण विचाराधीन है। ऐसे तथ्यों को भी पैनल में सामने नहीं रखा गया। ऐसा करना सर्वोच्च न्यायालय की मंशा के अनुरूप नहीं है। पुलिस महानिदेशक का चयन मेरिट ना होकर राजनीतिक पक्षपात के आधार पर हो सके।

                           अमित जोगी ने कहा कि अत्यंत खेद की बात है कि सरकार ने पुलिस महानिदेशक चयन के सम्बंध में भेजे पैनल में पात्रता रखने वाले ईमानदार और वरिष्ठ अधिकारियों को एक सोची.समझी रणनीति के तहत बाहर रखा गया। चहेते अधिकारियों को लाभ पहुँचाने की नीयत से उनके खिलाफ रिकार्ड में मौजूद तथ्यों को जानबूझकर छिपाया गया है। ताकि राजनीतिक प्रतिद्वंदियों को बिना किसी रोकटोक परेशान किया जा सके। चुनाव आदर्श आचार संहिता लागू होने के बाद सुकमा जैसे अति संवेदनशील जिले के पुलिस अधीक्षक के साथ क्या हुआ। सबको मालूम हो चुका है।

                      अमित जोगी ने अपने पत्र में कहा कि प्रदेश के पुलिस महानिदेशक के चयन नए सिरे से पैनल तैयार कर किया जाए। पूर्णकालिक पुलिस महानिदेशक की नियुक्ति के पहले कार्यवाहक पुलिस महानिदेशक से जारी नियु्क्त आदेश और स्थानांतरण  छत्तीसगढ़ पुलिस अधिनियम 207 की धारा 14 के तहत गलत है। सभी आदेशों और नियु्तियों को तत्काल प्रभाव से निरस्त किया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *