होली गीत,संस्कृति और पारंपरिकता से शोर तक..पढिए 1952 के पहले गीत खेलों रंग हमारे संग…से 2018 के गीत होली बिरज म्

बिलासपुर(किशोर सिंह)।कहने को तो होली अनेक रंगो का पर्व है, लेकिन सच तो यह है, कि इस दिन सभी एक ही रंग प्रेम के रंग सराबोर नजर आते हैं। उत्साह,उमंग,प्रेम, मस्ती और छेड़छाड़ के इस पर्व में होली के गानों के बिना होली बेरंग की तरह फीकी लगती है। गांवों में तो आज भी फाग की परंपरा है। जो होलिका दहन के महिने भर पहले ही शुरू हो जाती है, लेकिन शहर के गली- मोहल्ले ,चौक- चैराहों में होली के दिन फिल्मी गीतों की धुन में भंग के साथ लोग झूमते सराबोर नजर आते हैं। समय बदलने के साथ सब कुछ बदल गया , फिल्मी धुनों पर थिरकने वाले बदल गए, पर होली पर पुराने फिल्मी गीतों का क्रेज आज भी बरकरार है। भारतीय फिल्मों में होली पर फिल्माए गए सभी गीत बहुत पसंद किए गए और बहुत से गाने सुपरहिट भी रहे।फिल्मी दुनिया में सन 1951 तक होली के गीतों की शुरुआत नहीं हुई थी। सन् 1952 में फिल्म “आन” में पहली बार होली का गीत फिल्माया गया। जिसके बोल थे, खेलो रंग हमारे संग….। इसमें संगीत नौशाद खान और गीत शकील बदायूंनी ने दिया था। इसके बाद ही भारतीय सिनेमा में होली पर गीतों का सिलसिला शुरू हुआ, जो अब तक जारी है। भारतीय फिल्मों में होली के गीत शुरू होने के 65 साल बीत जाने के बाद आज भी कुछ ही गाने ऐसे हैं जिन्होंने लोगों के दिल में अपनी जगह बनाई। सीजीवालडॉटकॉम के WhatsApp ग्रुप से जुडने के लिए यहाँ क्लिक करे 

होली पर सिर्फ वही गीत लोग गुनगुनाते हैं और होली पर ठुमके भी उन्हीं गानों पर लगते हैं। “आन” फिल्म में खेलो रंग हमारे संग… होली के गीत के बाद, 1957 में “मदर इंडिया” फिल्म की होली आई रे कन्हाई… गीत भी लोगों के पसंदीदा गीतों में से एक हैं। जिसे शमशाद बेगम, लता मंगेशकर और रफीक ने अपनी आवाज दी थी । सन् 1959 की फिल्म “नवरंग” में आशा भोसले और महेंद्र कपूर ने अरे जा रे हट नटखट ….। में होली का गीत गाया जो बहुत पसंद किया गया। इन गीतों में होली पर्व की संस्कृति की झलक दिखाई पड़ती थी। पुराने गीतों में होली रे होली…. “परायाधन” फिल्म का गीत और “कोहिनूर” फिल्म का… होली आई रे…. गीत भी हिट रहा। सन् 1975 की फिल्म “शोले”में होली के दिन दिल मिल जाते हैं….। गीत ने भी धूम मचाई। जिसे किशोर कुमार और लता मंगेशकर ने सजाया था। इस फिल्म में जसपाल सिंह और हेमलता ने भी अपनी आवाज दी थी। सन् 1981 में “धनवान” फिल्म रिलीज हुई। जिसमें किशोर कुमार और लता मंगेशकर ने मारो भर-भर पिचकारी…..। गीत गाया यह भी होली के पसंदीदा गीतों में से एक है। 1981 में ही “सिलसिला” फिल्म आई जिसमें महानायक अमिताभ बच्चन और रेखा पर होली का गीत फिल्माया गया। गीत के बोल थे। रंग बरसे भीगे चुनरवाली….। यह गीत फिल्मी दुनिया के होली के गीतों में से सबसे सुपरहिट गीत है, जो आज भी लोगों के जहन में है, और बिना इस गाने के होली नहीं पूरी होती। सन् 1982 की “नदिया के पार” फिल्म का जोगी जी वाह जोगी जी…. बोल का होली गीत भी सुपरहिट रहा है, जिसे आज भी लोग गुनगुनाते हैं। सन् 1982 में ही “कामचोर” फिल्म आई जिसका गीत मल दे गुलाल मोहे…। बहुत पसंद किया गया, इसे किशोर कुमार और लता मंगेशकर ने गाया था।

सन् 1993 में “डर” फिल्म का अंग से अंग लगाना….और सन् 2000 में “मोहब्बतें” फिल्म में सोणी सोणी अंखियों वाली….को भी दर्शकों ने पसंद किया। इसके बाद फिल्मों में होली के गाने बहुत ही नहीं रहे ,लेकिन 2003 में “बागबान” फिल्म आई,जिसमें महानायक अमिताभ बच्चन ने गाने में अपनी आवाज दी। इसके साथ उदित नारायण,सुखविंदर ने अपनी आवाज से इसे सजाया। लंबे समय बाद होली के सुपर हिट गीत की वापसी हुई। इस गीत के बोल होली खेले रघुवीरा…. है। इस दौर के बाद सन् 2013 में “ये जवानी है दीवानी” फिल्म के गीत बलम पिचकारी…. को भी युवाओं ने बहुत पसंद किया। इसमें विशाल और श्यामली ने गीत दिया है। समय बदलने के साथ गाने के फिल्मांकन में भी बहुत बदलाव आया। 2015 में “बाजीराव मस्तानी” फिल्म आई जिसमें मोहे रंग दो लाल… गीत भी दर्शकों ने बहुत पसंद किया। यह अपनी तरह का अलग गीत है। इस फिल्म की खास बात यह रही कि “पंडित बिरजू जी महाराज” ने पहली बार गीत गाया।

उनके साथ श्रेया घोषाल भी रही। 2017 में फिर धूम मची और “बद्री की दुल्हनिया” फिल्म में खेलन क्यों ना जाए… गीत ने जमकर शोहरत बटोरी। गायिका नेहा कक्कड देव नेगी और मोनाली ने की आवाज को लोगों ने पसंद किया। यह गीत आज भी युवाओं के मन में घर बनाए हुए हैं। 2017 में ही “जाॅली एल.एल.बी.-2” फिल्म आई जिसमें गो पागल… गाने को मंजू मुसिक रफ्तार और नंदी कौर ने अपनी आवाज दी। 2017 में ही “टॉयलेट एक लव स्टोरी” फिल्म आई , जिसकी लंबी शूटिंग मथुरा में हुई थी और मथुरा की लठ्ठमार होली को ही केंद्रित करके एक गाना तैयार किया गया। गोरी तु लठ मार……।

इस गाने में सोनू निगम और श्रेया घोषाल ने अपनी आवाज दी, जो होली के बहुत सुने जाने वाले गीतों में है। बीते साल यानी 2018 में “जीनियस” फिल्म जो कि होली के गीतों के अनुसार अब तक की अंतिम फिल्म है। जिसमें होली बिरज मा…..। गीत फिल्माया गया, जिसे उत्कर्ष,हिमेश, रेशमिया, इशिता और जुबिन ने गाया है। 1952 से 2018 तक फिल्माएं गए होली के गीतों में बड़ा बदलावा आया है। शुरूआत और बीच की फिल्मों के होली के गीतों में संस्कृति,पारंपरिकता,भाव,रस, और परिधान की झलक दिखाई देती थी। ऐसे गीतों की उम्र लंबी होती थी, जिससे यह स्वाभाविक रूप से नई पीढ़ी को हस्तांतरित होती रही। इसके बीच के बाद के दौर से आज तक होली के गीतों में संस्कृति,पारंपरिकता,भाव,रस और परिधान विलुप्त हो गए हैं। होली पर्व के गाने अब पारंपरिकता को छोड़कर आइटम सांग के साथ अब कानफोडू शोर ही रह गए हैं।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...