कलेक्टर ने कहा…आने जाने वालों पर रखें नजर..पुलिस कप्तान का निर्देश…एसडीएम पुलिस को भी भेंजे जानकारी

बिलासपुर—लोकसभा चुनाव के दौरान निष्पक्षता, पारदर्शिता और स्पष्टता बनाकर रखना जरूरी है। व्यवहार और कार्य से सभी कर्मचारियों को निष्पक्ष रहना होगा। यह बातें कलेक्टर और जिला निर्वाचन अधिकारी डॉ.संजय अलंग ने निर्वाचन कार्य के संचालन के संबंध में पुलिस और राजस्व विभाग के अधिकारियों से बैठक के दौरान कही। बैठक में जिले के पुलिस अधीक्षक अभिषेक मीणा भी मौजूद थे।
                कलेक्टर कार्यालय स्थित मंथन सभागार में लोकसभा चुनाव की तैयारियों और नियम कायदों को लेकर अधिकारियों के साथ बैठक की। कलेक्टर ने निर्वाचन के दौरान आमसभा, रैली, जुलूस समेत अन्य आयोजन को लेकर सजग रहने की जरूरत है। राजनैतिक दलों के साथ अभ्यर्थियों से प्राप्त आवेदनों पर पुलिस और राजस्व अधिकारियों को आपसी सामंजस्य से काम करना होगा। समयावधि में आवेदन कर किसी प्रकार के विवादों से दूर रहने का निर्देश दिया।
रजिस्टर में करें दाखिल
                       कलेक्टर डॉ.अलंग ने बताया कि व्यय अनुवीक्षण, आचार संहिता की दृष्टि से जिले में 17 स्थैतिक निगरानी दल और 21 उड़नदस्ता दलों का गठन किया गया है। इन दलों में पुलिस अधिकारी और मजिस्ट्रेट तैनात हैं। सी-विजिल एप के माध्यम से मिले शिकायतों के निराकरण के लिए संबंधित दल को भेजा जाएगा। दल में तैनात मजिस्ट्रेट और पुलिस अधिकारी अपने मोबाईल में सी-विजिल एप को अनिवार्य रूप से डाउनलोड करें।
                   कलेक्टर ने सभी स्थैतिक दल को अनिवार्य रूप से रजिस्टर बनायें।  चेक पोस्ट पर तैनात दल आने-जाने वालों की एण्ट्री रजिस्टर में करेंगे। स्थैतिक दलों को अच्छी तरह पता होना चाहिए उनका काम क्या है। स्थैतिक और उड़नदस्ता दल संबंधित थानों के हमेशा सम्पर्क में रहेंगे। सभी चेक पोस्ट में टेंट, लाईट और वीडियोग्राफी की व्यवस्था सुनिश्चित हो।
                                     कलेक्टर ने मतदान दलों, सुरक्षाकर्मियों और निर्वाचन में लगे अन्य कर्मियों के परिवहन के लिए आवश्यकतानुसार वाहनों का अधिग्रहण आपसी सामंजस्य से करने को कहा। कलेक्टर ने निर्देश दिया कि कोलाहल नियंत्रण अधिनियम के तहत सख्ती से कार्यवाही की जाये।
शस्त्र जमा करने का आदेश
                     इस दौरान पुलिस कप्तान अभिषेक मीणा ने सभी एसडीएम से कहा कि रैली, सभा, जुलूस के लिये अनुमति जारी करने के साथ ही संबंधित क्षेत्र के पुलिस को भी अवगत कराया जाए। कानून व्यवस्था की स्थिति निर्मित न हो। प्रतिबंधात्मक कार्यवाहियों के लिये सभी एसडीएम और सिटी मजिस्ट्रेट को पुलिस विभाग से समन्वय बनाकर कार्य करने की बात कही। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि संवेदनशील मतदान केन्द्रों की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर व्यापक इंतजाम किये जायेंगे। मतदान केन्द्रों की सुरक्षा के लिये फारेस्ट गार्ड और कोटवारों की भी मदद ली जायेगी। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि लायसेंसी शस्त्रों को थाने में जमा कराने की कार्यवाही जारी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *