कलेक्टर ने कहा…नामांकन वापसी प्रक्रिया के बाद होगी व्यवस्था…सभी मशीनें सुरक्षित..अभ्यर्थियों के साथ होगी बैठक

बिलासपुर—कलेक्टर डॉ.संजय अलंग ने बताया कि 28 मार्च से 4 अप्रैल के बीच बिलासपुर लोकसभा के लिए कुल 27 अभ्यर्थियों ने 51 नामांकन पत्र दाखिल किया। पांच अप्रैल को सभी नामांकन पत्रों की जांच की गयी। इस दौरान सभी अभ्यर्थियों का नामांकन पत्र सही पाया गया। जाहिर सी बात है कि किसी का भी नामांकन पत्र निरस्त नहीं किया गया है।

                         पत्रकारों से चर्चा के दौरान डॉ.अलंग ने बताया कि भारत निर्वाचन आयोग ने बिलासपुर लोकसभा निर्वाचन की गतिविधियों को नजर रखने के लिए प्रेक्षकों को नियुक्त किया है। इसमें 2 व्यय प्रेक्षक दीपक देवरानी और निकोलस मुरमू आईआरएस कर्मचारियों को नियुक्त किया गया है। सामान्य प्रेक्षक की जिम्मेदारी एम.पाण्डूरंग आईएएस को दी गयी है। पुलिस प्रेक्षक डॉ. अमित कुमार जैन को बनाया गया है।

                             व्यय प्रेक्षकों को एनटीपीसी और सामान्य प्रेक्षकों की ठहरने की सुविधा सर्किट हाउस में किया गया है। पुलिस प्रेक्षक एसईसीएल गेस्ट हाउस में ठहरेंगे।

                      कलेक्टर ने बताया कि सभी मतदान दलों को द्वितीय प्रशिक्षण 9 अप्रैज से 14 अप्रैल के बीच दिया जाएगा। आज शाम को रेण्डमाइजेशन की प्रक्रिया होगी। इसके अलावा सभी अभ्यर्थियों के साथ बैठक का आयोजन 6 अप्रैल को सुबह 11 बजे मंथन सभागार में किया जाएगा।

               कलेक्टर ने कहा कि नामांकन वापस लेने की अंतिम तारीख 8 अप्रैल है। 22 अप्रैल को सभी मतदान दलों को सुबह सात बचे से सामाग्री वितरण किया जाएगा।

                             कलेक्टर ने सवाल जवाब के दौरान बताया कि रिजर्व मशीनों को चुनाव आयोगे के निर्देशानुसार रखा जाएगा। उन्होने यह भी बताया कि नामांकन वापसी के बाद शेष बचे अभ्यर्थियों की संख्या के आधार पर मशीनों की व्यवस्था की जाएगी। फिलहाल बैलेट का कोई सवाल नहीं है।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...