जोगी ने कहा..चन्द्रिका की मौत राजनैतिक साजिश..इशारों में कांग्रेस को बताया जिम्मेदार..हमें प्रभावित करने की कोशिश..बताया बनेगी त्रिशंकु सरकार

बिलासपुर—करीब एक सप्ताह पहले मरवाही थाना क्षेत्र के कुम्हारी में पुलिस प्रताड़ना से शिकार चन्द्रिका तिवारी की मौत अब धीरे धीरे राजनैतिक रूप लेते जा रही है। आज प्रेस वार्ता कर जनता कांग्रेस सुप्रीमों ने चन्द्रिका तिवारी की मौत को विपक्षी दलों की सोची समझी साजिश बताया है। जोगी ने इशारों ही इशारों में मौत के लिए वर्तमान सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। वार्ता के दौरान जोगी ने बताया कि पुलिस के माध्यम से यह बताने का प्रयास किया गया है कि अब जोगी परिवार का मरवाही में बहुत ज्यादा प्रभाव नहीं रहा..ना ही जोगी परिवार मरवाही वासियों के हमदर्द हैं।

                           सवाल जवाब के दोौरान जोगी ने स्पष्ट किया कि चन्द्रिका तिवारी बेशक भाजपा समर्थक थे। लेकिन उनसे हमारा घरेलु संबंध रहा है। उनकी कस्टोडियल डेथ हुई है।तंत्र मामले को दबाने का भरपूर प्रयास कर रहा है। हमारी मांग है कि ज्यूडिशरी जांच हो। यदि ऐसा नहीं किया गया तो हम कोर्ट का दरवाजा खटखटाएंगे। हमारे पास पुख्ता सबूत भी हैं। जोगी ने इस दौरान पार्टी की स्थिति और राजनैतिक गतिविधियों को लेकर भी चर्चा की है।

कस्टोडियल डेथ– जोगी का दावा

                                   लोरमी विधायक धरमजीत सिंह के निवास स्थान पर जनता कांग्रेस प्रमुख अजीत जोगी ने पत्रकारों से बातचीत की। चन्द्रिका तिवारी की मौत को राजनैतिक साजिश बताया। जोगी ने कहा कि चन्द्रिका बेशक भाजपा समर्थक हो सकते हैं। लेकिन उनसे हमारे परिवार से घरेलु रिश्ता था। उन्होंने हमेशा समर्थन किया। चन्द्रिका तिवारी की मौत के घटना क्रम का जिक्र करते हुए जोगी ने कहा कि अब विपक्षी पार्टियां मामले को दबाने का प्रयास कर रही हैं। जोगी ने बताया कि चन्द्रिका तिवारी की कस्टोडियल डेथ हुई है। मौत के जरिए विपक्षी पार्टियां स्थानीय लोगों को संदेश देने का प्रयास कर रही हैं कि अब मरवाही में जोगी का कोई हमदर्द नहीं रहा। जबकि मरवाही हमारे दिल में है। एक एक व्यक्ति से घरेलु नाता है।

           सवाल जवाब के दौरान जोगी ने बताया कि चन्द्रिका तिवारी और उनके बेटे को लाकअप में पुलिस ने बर्बर तरीके पीटा। मां के साथ भी गाली गलौच हुई। इतना ही नहीं विरोधी पार्टी को पंखे के नीचे गद्दा लगाकर मेहमान नवाजी की गयी। दूसरे दिन बिना मुलायजा दण्डाधिकारी के कोर्ट में पेश किया गया। तहसीलदाल पन्द्रह मिनट का समय लेकर बैठक में शामिल होने बिलासपुर रवाना हो गए। लौटने पर हालात को देखते हुए चन्द्रिका तिवारी समेत सभी को जमानत दी गयी।

कोर्ट जाने की दी धमकी

                      जोगी ने आरोप लगाया कि मरवाही से तहसीलदार बिलासपुर आता है ।  बैठक में एक घण्टे तक रहता है। इसके बाद तहसीलदार मरवाही के लिए रवाना होता है। मरवाही इतना पास भी नहीं है कि पांच मिनट में तहसीलदार पहुंच जाए। साढ़े पांच बजे जमानत दिया जाता है। पुलिस कप्तान का कहना हास्यास्पद है कि चन्द्रिका तिवारी को दो बजे जमानत दी गयी। और उन्होने कोटा एसडीओपी को मामले में जांच अधिकारी बनाकर बैठा दिया है। जोगी ने यह भी बताया कि जब तक जमानत नहीं मिलती है तब तक मामला पुलिस  अभिरक्षा का होता है। दो बजे तहसीलदार बिलासपुर आकर बैठक शामिल होते हैं। ऐसे में जमानत मिलने के सवाल ही नहीं उठता है। जाहिर सी बात है कि बहुत बड़ी साजिश हुई है। हमारे पास कस्टोडियल डेथ को प्रमाणित करने के लिए पर्याप्त दस्तावेज हैं। यदि न्यायिक जांच नहीं होती है तो हम कोर्ट का दरवाजा खटखटाएंगे

मौत की राजनीति से इंकार

                                    क्या चन्द्रिका तिवारी की मौत पर राजनीति शुरू हो गयी है। पहले धरम कौशिक ने लिया और आज जनता कांग्रेस मैदान में कूद गयी है। कहीं यह सब पार्टी के खोते हुए जनाधार को बचाने के लिए तो नहीं किया जा रहा है। जोगी ने इंकार करते हुए कहा कि ऐसा हरगिज नहीं है। चन्द्रिका तिवारी हमारे घरेलु सदस्य थे। सुप्रीम कोर्ट के अनुसार जब तक जमानत नहीं मिलती है अभिरक्षा का मामला बनता है। चन्द्रिका की मौत पुलिस अभिरक्षा में हुई है। उनके परिवार को न्याय मिलना चाहिए। हम मौत पर राजनीति नहीं करते है।  हमें न्यायिक जांच से कुछ कम नहीं चाहिए। पुलिस जांच तो हरगिज नहीं। क्योंकि ऊपर के इशारे पर दस्तावेजों के साथ पुलिस ने कूट रचना की है।

मायावती को बनाएंगे पीएम

                   आखिर क्या कारण था कि अंत में आपकी पार्टी ने चुनाव लड़ने से इंकार कर दिया। ऐसा कर कहीं कांग्रेस को समर्थन तो नहीं कर रहे है। यू टर्न लेने की कोई वजह तो होगी। जोगी ने यू टर्न के सवाल को टालते हुए कहा कि हम कोरबा,बिलासपुर और रायपुर में चुनाव लड़ना चाहते थे। बाद में कोर कमेटी और संसदीय दल ने फैसला किया कि हम क्षेत्रिय पार्टी है। एक सांसद यदि पहुंच भी गया तो कुछ हासिल नहीं होने वाला है। राष्ट्रीय दल को समर्थन किया जाए। हमारा बसपा से गठबंधन है। हम छत्तीसगढ़ में बहुजन समाज पार्टी का साथ देंगे। एनडीए सरकार को मजबूत बनाकर मयावती को सबसे ऊंचे पद पर बैठाएंगे। जनता कांग्रेस के पास रूपए भी नहीं है। हम निकाय चुनाव लड़कर अपना जनाधार मजबूत करेंगे।

बनेगी त्रिशंकु सरकार

आखिर केन्द्र में सरकार किसकी बनेगी..क्या मोदी को महिमामंडन किया जा रहा है। जोगी ने कहा कि केन्द्र त्रिशंकु सरकार बनेगी। मोदी की महिमा मण्डन का सवाल ही नहीं है। किसी भी दल को स्पष्ट बहुमत नहीं मिलने वाला है। जाहिर सी बात है कि क्षेत्रिय दलों का महत्व बढ़ेगा। बिना क्षेत्रिय दलों के सहयोग से किसी की भी सरकार नहीं बनेगी।

झीरम काण्ड, भीमा मण्डावी के साथ नक्सली हमलों के सवाल पर जोगी ने कहा काफी दुखद है। झीरम काण्ड में एक विशेष दल के अग्रिम पंक्ति के नेता खत्म हो गए। अपने आप में बहुत बड़ा मामला है। पहली बार किसी एमएलए की नक्सलियों ने मार डाला है। झीरम काण्ड को लेकर एनआईए की जांच चल रही है। अब एसआईटी भी जांच कर रही है। इसी तरह भीमा मण्डावी की हत्या को लेकर सीबीआई जांच की मांग की जा रही है। मेरा मानना है कि जब तक पीड़ित के परिजनों को संतोष ना पहुंचे उनकी मांगों के अनुसार सीबाईआई जांच होनी चाहिए।

पत्रकार वार्ता के दौरान अमित जोगी, लोरमी विधायक धरमजीत सिंह, बसपा नेता वाजपेयी, समीर अहमद,विक्रांत तिवारी भी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *