रिसदा सोसायटी निलंबित, अनियमितताओं का आरोप

 

बलौदा बाजार।जिले के प्राथमिक कृषि साख सहकारी समिति रिसदा के संचालक मण्डल को विभिन्न प्रकार की अनियमितताओं के चलते निलंबित कर दिया गया है। उप पंजीयक सहकारी संस्थाएं, बलौदाबाजार ने जांच के बाद 25 अप्रैल को यह कार्रवाई की है। सहकारिता विस्तार अधिकारी  के.एस.धु्रव को रिसदा समिति का प्राधिकृत अधिकारी नियुक्त किया गया है। समिति प्रबंधक को दो दिवस के भीतर संपूर्ण प्रभार अन्य कर्मचारी को सौंपने के निर्देश दिए गए हैं। उनके विरूद्ध भी वैधानिक कार्रवाई की जाएगी।सीजीवालडॉटकॉम के Whatsapp ग्रुप से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

उप पंजीयक सहकारी संस्थाएं कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार रिसदा सोसायटी (पंजीयन क्रमांक 279) का विभाग के सहायक पंजीयक के नेतृत्व में गठित टीम द्वारा विगत 4 दिसम्बर 2018 को आकस्मिक निरीक्षण किया गया।

निरीक्षण के दौरान समिति में अनेक प्रकार की अनियमितताएं पाई गई। इसमें प्रमुख रूप से समिति प्रबंधक एवं संचालक मण्डल द्वारा धान खरीदी के दौरान हमाली अनुबंध नहीं किया गया था।

शासन द्वारा दिए जा रहे प्रासंगिक एवं प्रशासनिक व्यय हेतु दी गई राशि के अतिरिक्त खर्च कर समिति को आर्थिक नुकसान पहुंचाया जा रहा था। भण्डार क्रय नियमों को ताक पर रखकर तारपोलिन, भूसा, सूतली आदि खरीदा गया।

विस्तृत निरीक्षण में यह तथ्य भी सामने आया कि समिति द्वारा विगत कई सालों के धान खरीदी के दौरान शासन द्वारा दिए गए प्रासंगिक एवं प्रशासनिक व्ययों हेतु दोगुने से भी अधिक राशि खर्च की गई। जिसका कोई भी प्रमाणक प्रस्तुत नहीं किया गया।

इस प्रकार कर्मचारी भर्ती, कर्मचारियों के वेतन भुगतान आदि में भी संचालक मण्डल द्वारा सभी नियमों को धता बताकर अवैधानिक तरीके से काम किया जाता रहा है। शासन की उज्ज्वला योजना के अंतर्गत समिति द्वारा गैस एजेन्सी के रूप में भी कार्य किया जा रहा है।

इसके अंतर्गत भी कुछ चुनिंदा उपभोक्ताओं को प्रति माह 10 से लेकर 29 तक सिलेण्डर वितरित किया गया। इसका भी जवाब समिति द्वारा दिया नहीं जा सका है। समिति के प्रबंधक और संचालक मण्डल को उक्त आरोपों का जवाब प्रस्तुत करने के लिए उप पजीयंक कार्यालय द्वारा अनेकों बार पत्र जारी कर अवसर प्रदान किया गया।

इसके बावजूद उपस्थित नहीं होने पर इसे गंभीरता पूर्वक लेते हुए उप पंजीयक ने निलंबन की कार्रवाई की है। इसके बाद बहुत जल्द आगे बर्खास्तगी की कार्रवाई भी की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *