पंचतत्व में विलीन हुए जननेता बलराम सिंह…अंतिम यात्रा में उमड़ी भीड़..सभी ने अश्रुपूरित श्रदांजली

बिलासपुर- अविभाज्य मध्यप्रदेश के समय संभाग में कांग्रेस के कद्दावर नेताओं में शुमार ठाकुर बलराम सिंह का लम्बी बीमारी के बाद निधन हो गया। दो बार तखतपुर से विधानसभा में विधायक रहते हुए उन्होेंने सदन से लेकर सड़क तक जनहित की लड़ाई को अंजाम दिया। ठाकुर बलराम सिंह के निधन से क्षेत्र ने कांग्रेस का सच्चा सिपाही और किसान मजदूरों का नेता खो दिया। आज स्वर्गीय बलराम सिंह को श्रद्धांजलि देने उनके निवास में भीड़ उमड़ी। अंतिम यात्रा में शहर के गणमान्य लोगों ने कांधा दिया।

                            तखतपुर के पूर्व विधायक ठाकुर बलराम सिंह का निधन समाचार मिलते ही शहर में शोक की लहर दौड़ गयी। लोगों ने ठाकुर बलराम सिंह के घर पहुंचकर विनम्र श्रद्धांजलि दी। प्रदेश कांग्रेस सचिव और ठाकुर बलराम सिंह के पुत्र आशीष सिंह ने बताया कि पिताजी लम्बे समय से बीमार थे। यद्यपि डॉक्टरों ने बचाने का भरपूर प्रयास किया। लेकिन बचाया नहीं जा सका ।उन्होने अपोलो में आज सुबह अंतिम सांस ली।

                 ठाकुर बलराम सिंह के अंतिम यात्रा के समय शहर के गणमान्य लोगों ने कांधा दिया। भावुक होकर उनके योगदान को याद भी किया। खासकर तखतपुर के लोगों ने महसूस किया कि हमने अपने बीच के सच्चे जननेता को खो दिया है। ठाकुर बलमनराम सिंह का अंतिम संस्कार सरकंडा स्थित मुक्तिधाम में किया गया। इस दौरान लोगों का हुजूम देखने को मिला। लोगों ने अश्रुपूरित श्रद्धांजलि दी।

                         बताते चलें कि जमीन से जुड़े कांग्रेस नेता ठाकुर बलराम सिंंह का नाम राजनीति में गुटबाजी से ऊपर नाम लिया जाता है। उन्होने हमेशा सामंजस्य के साथ किसानों और मजदूरों के लिए राजनीति की। खासकर सर्वहारा वर्ग में उनका नाम बहुत ही सम्मान से लिया जाता है। उन्हें बिलासपुर नगर निगम में दो बार महापौर बनकर जनता की सेवा की। तखतपुर विधानसभा से दो बार विधायक रहते जनता की आवाज को संदन में उठाया।

ठाकुर बलराम सिंह का सामाजिक क्षेत्रों में अहम् योगदान है। उनका नाम रतनपुर महामाया मंदिर को विश्व प्रसिद्ध करने के लिए भी याद किया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *